लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Sheena Bora murder case Indrani Mukherjea walks out of Byculla Jail a day after she was granted bail by Special CBI court

Sheena Bora murder case: करीब सात सात बाद जेल से बाहर आई इंद्राणी मुखर्जी, अपनी ही बेटी की हत्या के जुर्म में हुई थी गिरफ्तारी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: अभिषेक दीक्षित Updated Fri, 20 May 2022 05:59 PM IST
सार

जेल से बाहर आने के बाद इंद्राणी मुखर्जी ने कहा कि मैं बहुत खुश हूं। उन्होंने कहा कि अभी घर जा रही हूं। अभी आगे की कोई योजना नहीं है, सिर्फ घर जाना है।

इंद्राणी मुखर्जी।
इंद्राणी मुखर्जी। - फोटो : ANI

विस्तार

बेटी शीना बोरा की हत्या की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी शुक्रवार को जमानत की प्रक्रिया पूरी कर लगभग सात साल बाद जेल से बाहर आ गई। जेल से बाहर आने के बाद इंद्राणी ने कहा कि खुले आसमान में आकर वह बहुत खुश है। अभी आगे की कोई योजना नहीं है, केवल घर जाना है।



शीना बोरा हत्याकांड काफी चर्चित रहा। यह एक ऐसा मामला था, जिसमें मां पर ही अपनी बेटी की हत्या करने का आरोप लगा। शीना बोरा की हत्या साल 2012 में हुई थी। तीन साल बाद 25 अगस्त, 2015 में मुखर्जी को तब गिरफ्तार किया गया, जब उसके ड्राइवर श्यामवर राय ने मामले का खुलासा किया। इसके बाद से इंद्राणी मुखर्जी को मुंबई की भायखला महिला कारागार में बंद किया गया। इस हाई प्रोफाइल हत्या कांड में शीना की मां इंद्राणी, उनके पहले पति संजीव खन्ना और दूसरे पति रहे पीटर मुखर्जी पर आरोप लगे थे।


बड़ा मामला होने के कारण 18 सितंबर, 2015 को इसे सीबीआई को सौंप दिया गया। साल 2019 में इंद्राणी और पीटर में तलाक भी हो गया था। वहीं, साल 2020 में पीटर मुखर्जी को जमानत मिल गई। बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने छह साल से अधिक समय से जेल में रहने के आधार पर इंद्राणी मुखर्जी को जमानत दे दी। साथ ही, सीबीआई कोर्ट को निर्देश दिया था कि वह जमानत की शर्तें तय करें। इंद्राणी को विशेष सीबीआई अदालत ने दो लाख के मुचलके पर जमानत दी। 

ये था मामला   
शीना बोरा दरअसल, इंद्राणी मुखर्जी और उनके पहले पति संजीव खन्ना की बेटी थी, जिसकी साल 2012 में 24 अप्रैल को गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी और उसके शव को जला दिया गया था। शीना को इंद्राणी अपनी बहन बताती थी। बताया गया है कि इंद्राणी के दूसरे पति पीटर के बेटे से शीना की नजदीकियां थी, जो रिश्ते में उसका सौतेला भाई लगता था। यह रिश्ता उसकी मौत की वजह बना। करीब तीन साल तक पुलिस मामले की तहकीकात में जुटी रही, लेकिन कोई ठोस सुराग हाथ नहीं लगा। 2015 में पुलिस को ड्राइवर के खुलासे से केस सुलझाने में मदद मिली थी। 

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00