'My Result Plus

काला हिरण मामला: सलमान खान केस के गवाह नंबर दो ने बयां की आंखों देखी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जोधपुर Updated Mon, 09 Apr 2018 12:36 PM IST
Salman Khan blackbuck poaching case updates witness no 2 came in front of media
ख़बर सुनें
बीस साल पहले फिल्म हम साथ-साथ हैं की शूटिंग के दौरान जब सलमान खान काले हिरण का शिकार करने गए थे, तो उन्होंने यह सपनों में भी नहीं सोचा होगा कि इसके सींग उन्हें सालों-साल चुभते रहेंगे। जोधपुर सेंट्रल जेल में दो दिन सजा काटने के बाद सलमान मुंबई पहुंच चुके हैं। उनके जेल जाने और छूटने के बीच कई सवाल हैं, जिन्होंने लोगों को झकझोर दिया है। सागरराम बिश्नोई उन पहले लोगों में थे जिन्होंने दो मरे हुए काले हिरणों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा था।
1998 में वनरक्षक रहे सागरराम बिश्नोई 28 मार्च, 2018 को राजस्थान वन सेवा के वन्य-जीव विभाग से बतौर अस्सिटेंट सब-इंस्पेक्टर पद से रिटायर हुए हैं, सरकारी नौकरी में रहते हुए उन्होंने मीडिया से बात नहीं की थी। पिछले दिनों उस रात और पिछले 20 सालों में केस में आए उतार चढ़ाव और कई सवालों के साथ बीबीसी हिंदी के संवाददाता ने काला हिरण मामले में विटनेस नंबर दो से बातचीत की।

उस रात सलमान जब काले हिरण के शिकार को अपने साथियों सैफ, तब्बू,  नीलम और सोनाली बेंद्रे के साथ निकले थे तो किसने उन्हें देखा था। काले हिरणों के शिकार के मामले में कुल पांच सरकारी गवाह हैं और सागरराम बिश्नोई विटनेस नंबर-2 हैं। 

उनके मुताबिक तीन चश्मदीदों ने सलमान खान और उनके सहयोगी फिल्मी सितारों को काले हिरण का शिकार करते देखा था। 2 अक्तूबर, 1998 को वे वन्य जीव चौकी के सहायक वनपाल भंवर लाल बिश्नोई के पास इसकी शिकायत दर्ज कराने गए थे। तब एक वनरक्षक या फॉरेस्ट गार्ड रहे सागरराम बिश्नोई मौके पर पहुंचे और उन्होंने उन दो मरे हुए काले हिरणों को ले जाकर ऑफिस में पेश किया।
आगे पढ़ें

सलमान खान को काले हिरणों के शिकार का दोषी पाया है

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

बड़ा खुलासा: तो इसलिए रोक दी गई है नोटों की प्रिंटिंग, जानकर रह जाएंगे हैरान

सरकारी टकसाल में स्याही की अनुपलब्धता के कारण 200 और 500 रुपये मूल्य के नोटों की छपाई को रोकना पड़ा है। यह दावा यूनियन नेता व टकसाल के एक कर्मचारी ने किया।

19 अप्रैल 2018

Related Videos

जज लोया मामला: SC के फैसले से फ्रंटफुट पर आई BJP

जस्टिस लोया मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीजेपी फ्रंट पर आ गई है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पार्टी इस मामले के जरिए BJP को बदनाम करने की कोशिश की जा रही थी।

19 अप्रैल 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen