लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Rajiv Vasudevan: Ministry Of Ayush Organises Series Of Five Webinars On Ayurved and Health with Amar Ujala

वेबिनार: राजीव वासुदेवन ने बताया आयुर्वेद का महत्व, बोले- इसमें कम खर्च में प्रभावी इलाज संभव

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: दीप्ति मिश्रा Updated Tue, 15 Jun 2021 06:05 PM IST
सार

  • आयुष मंत्रालय के संग अमर उजाला चला रहा है पांच दिन का जागरूकता अभियान
  • अमर उजाला के फेसबुक पेज व यूट्यूब चैनल पर सीधा प्रसारण देखें प्रतिदिन शाम 5 बजे से
  • आज आयुर्वेद हॉस्पिटल और आयुष एडवाइजरी कमेटी के सदस्य राजीव वासुदेवन ने जानकारियां दीं

राजीव वासुदेवन
राजीव वासुदेवन - फोटो : यूट्यूब स्क्रीनशॉट
ख़बर सुनें

विस्तार

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में पिछले दिनों ऑक्सीजन और अस्पताल के लिए मची दौड़ ने कई राज्यों में एक तरह से अफरा-तफरी का माहौल बना दिया। ऐसे हालात से किसी को फिर न गुजरना पड़े और हर कोई जागरूक बने, इसके लिए आयुष मंत्रालय और राष्ट्रीय आयुर्वेद विद्यापीठ के संग मिलकर अमर उजाला आज से पांच दिन तक रोजाना खास वेबिनार आयोजित करने जा रहा है। इसमें जाने माने विशेषज्ञ कोविड-19 के उपचार में आयुर्वेद के महत्व को समझाएंगे। 14 से 18 जून तक प्रतिदिन शाम 5 बजे से होने वाले इस वेबिनार का अमर उजाला के फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल पर सीधा प्रसारण किया जाएगा।



इस वेबिनार का उद्देश्य है कोविड-19 के उपचार में आयुर्वेद किस तरह फायदेमंद हो सकता है, इसके बारे में लोगों को जागरूक करना। 'सेहत है संग तो जीतेंगे हर जंग' के ध्येय वाक्य के साथ हो रही वेबिनार में सोमवार, 15 जून को आयुर्वेद हॉस्पिटल और आयुष एडवाइजरी कमेटी के सदस्य राजीव वासुदेवन आयुर्वेद चिकित्सा के महत्व पर प्रकाश डालने के साथ ‘आयुर्वेद और स्वास्थ्य बीमा’ के बारे में जानकारी दी। वेबिनार में शामिल होने के लिए अमर उजाला के फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल पर क्लिक करें और पेज को लाइक, शेयर तथा सब्सक्राइब जरूर करें।


क्या बोले राजीव वासुदेवन

  • करीब 3000 वर्षों से आयुर्वेद हमारी सेहत की देखभाल कर रहा है और इसने कोरोना के इलाज में भी अपनी भूमिका साबित की है। 
  • आजादी के संघर्ष के दौरान ही आयुर्वेद को हाशिये पर धकेल दिया गया। लेकिन अब फिर आयुर्वेद को प्रचलित करने पर काम हो रहा है।
  • रोग के लक्षण ठीक करने में आधुनिक दवा पद्धति बहुत प्रभावी है, लेकिन आयुर्वेद न केवल लक्षण को बल्कि रोग को समाप्त करता है।
  • एलोपैथी में दवाएं बनाने के लिए लाखों डॉलर का खर्च होता है। जबकि आयुर्वेद में कम खर्च में प्रभावी इलाज मुहैया कराया जा सकता है।
  • कोरोना संक्रमण से गंभीर रूप से बीमार होने वाले लोगों की इम्यूनिटी को आयुर्वेद मजबूत कर सकता है और सुरक्षा दे सकता है।
  • कोरोना वायरस संक्रमण के हल्के और मध्यम मरीजों का इलाज एलोपैथी के साथ आयुर्वेद का उपयोग करते हुए किया जा सकता है।
  • हमने रोगों को अभी तक शारीरिक रूप से देखा है। लेकिन मानसिक व आध्यात्मिक स्वास्थ्य भी जरूरी है। आयुर्वेद इसी पर केंद्रित है।
  • आयुर्वेदिक दवाएं लेने में भी सुनी-सुनाई बातों के आधार पर प्रयोग न करें। आहार में ऐसा भोजन शामिल करिए जो सुपाच्य हो।


आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00