विज्ञापन

कानों देखी: ये हार्दिक कैसे मानेगा

शशिधर पाठक Updated Tue, 04 Sep 2018 11:40 PM IST
Patidar leader Hardik Patel how will satisfied in Kano Dekhi
विज्ञापन
ख़बर सुनें
गुजरात के युवा पटेल नेता हार्दिक को मनाने की पहले सभी कोशिशें बेकार हो चुकी थी। नतीजतन भाजपा के हाथ में पैर का पसीना सिर पर चढ़ने के बाद गुजरात बस आते-आते आ पाया। अब एक बार फिर हार्दिक पटेल ने मुश्किल बढ़ा दी है। हार्दिक पटेल अनशन पर बैठ हैं। जल भी त्याग दिया है। पटेल समुदाय लगातार हार्दिक के साथ सहानुभूति रखकर चल रहा है। दूसरी तरफ इस मामले को एक बार फिर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह देख रहे हैं। 
विज्ञापन
शाह प्रधानमंत्री मोदी से भी चर्चा कर रहे हैं और मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के भी संपर्क में हैं। गुजरात सरकार ने हार्दिक के आवास के बाहर कड़ा पहरा लगा दिया है। किसी को मिलने की इजाजत नहीं है। इसके जवाब में हार्दिक ने आमरण अनशन शुरू कर दिया है।

सूत्र बताते हैं कि भाजपा आलाकमान को इसका समाधान नजर ही नहीं आ रहा है। क्योंकि जैसे जैसे समय बीत रहा है, गुजरात में लोगों पर हार्दिक का बुखार चढ़ने की भी सूचना आ रही है। बलपूर्वक अनशन तुड़वाना ही एक उपाय है और भाजपा इसके बाद आने वाले नतीजे की तपिश भी महसूस कर रही है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

खोदा नोटबंदी का पहाड़, निकली चुहिया

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Blog

म्यांमार के जरिये चीन ने बढ़ाया भारत पर दबाव, बांग्लादेश से मिल सकता है दूसरा झटका.!

चीन से एक और झटका। पाकिस्तान, नेपाल, मालदीव और श्रीलंका के बाद म्यांमार भी चीन के क़र्ज़- जाल में उलझ गया। गुरुवार को म्यांमार और चीन के बीच बंगाल की खाड़ी में क्यूकफ्यू शहर के किनारे गहरे पानी का एक बंदरगाह बनाने पर समझौता हुआ।

12 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

फिर से पीएम को लेकर थरूर ने दिया विवादित बयान, कहा नेहरू की वजह से बने PM

शशि थरूर एक बार फिर से पीएम पर दिए अपने बयान को लेकर फंस गए हैं। थरूर ने कहा कि आज जवाहरलाल नेहरू की वजह से ही एक चायवाला प्रधानमंत्री बन पाया है।

14 नवंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree