Hindi News ›   Entertainment ›   Movie Reviews ›   Jalsa Movie Review in Hindi Pankaj Shukla Vidya Balan Shefali Shah Suresh Triveni Rohini Hattangady Surya Kasibhatla

Jalsa Movie Review: सिनेमा में महिला किरदारों को मिली तवज्जो का ‘जलसा’, विद्या और शेफाली दोनों अव्वल नंबर

Pankaj Shukla पंकज शुक्ल
Updated Fri, 18 Mar 2022 03:12 AM IST
जलसा रिव्यू
जलसा रिव्यू - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
Movie Review
जलसा
कलाकार
विद्या बालन , शेफाली शाह , रोहिणी हट्टंगड़ी , सूर्या कासिभाटला , मोहम्मद इकबाल खान , मानव कौल और विधात्री बंदी
लेखक
प्रज्ज्वल चंद्रशेखर , सुरेश त्रिवेणी , हुसैन दलाल और अब्बास दलाल
निर्देशक
सुरेश त्रिवेणी
निर्माता
अबंडनशिया एंटरटेनमेंट और टी सीरीज
ओटीटी
अमेजन प्राइम वीडियो
रेटिंग
3.5/5

सिनेमा क्या है? सवाल सीधा सा है। जवाब शायद उतना सपाट देना मुश्किल है। यह कल्पनाओं की एक दुनिया है। भावनाओं का सैलाब है। इसमें आइनों के छोटे-छोटे टुकड़े तैरते रहते हैं। अक्स दिखाते हैं। दुनिया का भी। दुनिया को भी। होता है कभी-कभी जिंदगी में, मन में कोई चोर छुपा होता है। एक अपराध बोध-सा रहता है। उससे मुक्ति पाने की कोशिश कहें, या पश्चाताप, जिससे ये उसे भुगतना चाहता है। पर समाज में जो उसकी हैसियत है, वह उसे खुलकर पश्चाताप भी करने नहीं देती। जिसके प्रति अपराध हुआ, वह इसी दुखी आत्मा से मदद पा रहा है। और, उसे पता नहीं कि जो दया उस पर की जा रही है, दरअसल वह तो उसके हक से कहीं ज्यादा है। जीवन के जलसे ऐसे ही होते हैं। सब अपना-अपना तंबू तानने में लगे रहते हैं। पता भी नहीं चलता कि शामियाने में लगे किस बांस पर किसकी शातिर निगाह लगी हुई है। फिल्म ‘जलसा’ ऐसी ही एक कहानी है। जिंदगी से छूटती और जिंदगी को पकड़ती कुछ धड़कनों की कहानी, जिसके सारे अहम सिरे महिलाओं ने पकड़ रखे हैं। ये सिनेमा में महिला किरदारों को मिली तवज्जो का ‘जलसा’ है।

शेफाली शाह
शेफाली शाह - फोटो : सोशल मीडिया
विद्या बालन को अपनी फिल्म ‘डर्टी पिक्चर’ से हिंदी सिनेमा की लीक बदले 10 साल से ज्यादा हो गए। कोरोना में लॉकडाउन लगा तो उनकी पिक्चर ‘शकुंतला देवी’ प्राइम वीडियो पर ‘गुलाबो सिताबो’ के बाद सबसे ज्यादा देखी गई फिल्म बनी। फिर ‘शेरनी’ में वह दहाड़ीं और अब अभिनय का उनका ये नया ‘जलसा’ है। साथ में उनके शेफाली शाह हैं और शेफाली शाह को इन दिनों कैमरा देखकर जो हो रहा है, वह सामान्य नहीं है। विद्या बालन की फिल्म में उनके नीचे से कालीन खींच ले जाने की इतनी कुव्वत शायद ही पहले किसी कलाकार ने बीते 10 साल में दिखाई हो। खैर, उस पर भी आते हैं। पहले थोड़ा ‘कहानी’ बताते हैं। विद्या यहां न्यूज पोर्टल की हिट एंकर हैं माया मेनन। इंटर्न, ट्रेनी पत्रकारों के लिए ‘भगवान’ सरीखी, जिनका मोबाइल नंबर मिलना भी वरदान से कम नहीं है। माया के घर में काम करती है रुकसाना। माया की मां हैं। पति अलग होकर नया परिवार बसा चुका है। और, एक बेटा भी है। दिखने में अजब, पर अक्लमंदों से कहीं ज्यादा गजब। काम के बोझ की मारी माया को कार चलाते झपकी आती है और हादसा हो जाता है।

विद्या बालन
विद्या बालन - फोटो : सोशल मीडिया
पूरी कहानी बताकर मैं यहां आपका इस फिल्म को देखने का मजा किरकिरा नहीं करना चाहता। हां, यह जरूर बताना चाहूंगा कि ये फिल्म मैंने देखनी शुरू की थी विद्या बालन की ओटीटी पर संभावित हैट्रिक के हिसाब से और फिल्म खत्म हुई तो अकेले बैठे-बैठे मैंने तालियां भी बजाईं, लेकिन विद्या बालन के साथ-साथ शेफाली शाह, सूर्या, रोहिणी, विधात्री और श्रीकांत मोहन यादव के काम पर। फिल्म खत्म होती है तो लिखकर आता है, ‘ए फिल्म बाई सुरेश त्रिवेणी एंड टीम।’ सुरेश त्रिवेणी का अपनी टीम को इस तरह साथ में सम्मान देना ही उनके सिनेमा के अलहदा रंग सजा जाता है। ‘तुम्हारी सुलु’ से उनकी जोड़ी विद्या के साथ जमनी शुरू हुई। सिनेमा में सुरेश के अनकहे का असर कहे से ज्यादा है। वह संवादों के बीच की जो शांति है, उसमें खेलते हैं। क्लाइमैक्स में समुद्र तट पर मालकिन के बेटे के साथ रुकसाना का पूरा सीक्वेंस फिल्म की जान है। और, उससे पहले हादसे के बाद की माया की घबराहट और उसका चीत्कार।  

मानव कौल
मानव कौल - फोटो : सोशल मीडिया
फिल्म ‘जलसा’ मसाला फिल्म नहीं है। इसमें कोई टोटका, आइटम सॉन्ग या श्रीवल्ली सरीखा नैन मटक्का भी नहीं। यह इंसानी रिश्तों की कहानी है। ऐसी कहानी, जिसमें अपराधी को खुद अपराध बोध होता है। हादसे की गाज जिन पर गिरी, वह इन सबसे अनजान हैं। इंसानी जान की कीमत लगती है। और, फिल्म बड़ा सवाल यह करती है कि क्या हो, अगर गरीब को अमीर की जान की कीमत लगाने का मौका मिल जाए। इस पूरे संतुलन के दो सिरे हैं विद्या बालन और शेफाली शाह। विद्या बालन ने वैसा ही उम्दा काम किया, जिसकी उनसे उम्मीद थी। वह लीक से इतर विषयों पर बनने वाली फिल्मों की सुपरस्टार हैं। ‘विकी डोनर’ और उसके बाद की पिक्चरों के फल विद्या के लगाए पौधे पर ही फूले हैं। उसी धारा में बहती नई नावों की पतवारें तापसी पन्नू, कृति सैनन और शेफाली शाह जैसी अदाकाराओं ने थाम रखी हैं। बस, इस बार विद्या ने कहानी के उत्प्रेरक का काम किया है और रंगमच छोड़ दिया है बाकी कलाकारों के करतब के लिए।

विद्या बालन और शेफाली शाह
विद्या बालन और शेफाली शाह - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें Entertainment News से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे Bollywood News, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट Hollywood News और Movie Reviews आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00