विज्ञापन

अनोखे तरीके से प्रजनन दर कम करेगा ये राज्य, मुख्यमंत्री ने निकाला रास्ता

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Updated Tue, 12 Nov 2019 12:19 PM IST
विज्ञापन
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
ख़बर सुनें
जनसंख्या नियंत्रण और प्रजनन दर कम करने के लिए देशभर में अलग-अलग कवायद हो रही है। हाल में असम ने दो से ज्यादा बच्चे होने पर सरकारी नौकरी न मिलने का प्रावधान बनाया, तो अब बिहार में दूसरा अनोखा तरीका ढूंढा गया है। यहां हम आपको खबर बता रहे हैं बिहार की। यहां की सरकार ने राज्य की सभी पंचायतों में उच्चतर माध्यमिक विद्यालय खोले जाने की घोषणा की है।

मुख्यमंत्री ने क्या कहा?

इस संबंध में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का कहना है कि 'हमने अगले साल अप्रैल तक राज्य की सभी पंचायतों में एक उच्चतर माध्यमिक स्कूल (Higher Secondary School) खोलने का फैसला किया है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि प्रजनन दर कम हो सके। हमने एक अध्ययन में पाया है कि अगर लड़कियां इंटर पास हैं तो देश का प्रजनन दर 1.7 है, जबकि बिहार का 1.6 है।'
विज्ञापन
ये भी पढ़ें : IAS इंटरव्यू में सिगरेट पर उठा सवाल, जानें टॉपर ने क्या दिया जवाब

ये बातें बिहार सरकार द्वारा जारी की गई एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कही गई। सरकार ने ये विज्ञप्ति सोमवार, 11 नवंबर 2019 को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के मौके पर जारी की है।

इसमें बताया गया कि 'नीतीश कुमार ने कहा है कि 2005 में जब वह सत्ता में आए, तो राज्य में प्रजनन दर 4.3 था। जो अब घटकर 3.3 पर आ गया है। वहीं, स्कूल न जाने वाले बच्चों का प्रतिशत 12.5 से घटकर एक फीसदी पर आ गया है। यह सब इसलिए संभव हो सका है क्योंकि सरकार ने नए स्कूल खोलने, नई कक्षाएं बनाने और शिक्षकों की भर्तियों पर खास ध्यान दिया है।' 

ये भी पढ़ें : गणित में लड़के ज्यादा तेज हैं या लड़कियां, इस अध्ययन से हुआ खुलासा
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us