Hindi News ›   Uttarakhand ›   Dehradun ›   Rishikesh-Neelkanth ropeway got green signal, board approved

भक्तों की भोलेनाथ से दूरी होगी कम: ऋषिकेश-नीलकंठ रोप-वे को हरी झंडी, बोर्ड ने लगाई मुहर, जानिए अब कैसा होगा सफर

आफताब अजमत, अमर उजाला, देहरादून Published by: रेनू सकलानी Updated Sat, 14 May 2022 10:30 AM IST

सार

ऋषिकेश से नीलकंठ महादेव के बीच का सफर खासा मुश्किल है। यहां हर साल होने वाली भारी भीड़ की वजह से लगातार रोप-वे निर्माण की मांग उठती आई है। अब बोर्ड बैठक में ऋषिकेश-नीलकंठ रोप-वे का प्रस्ताव पास कर दिया है।
नीलकंठ मंदिर
नीलकंठ मंदिर - फोटो : अमर उजाला फाइल फोटो
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

ऋषिकेश से नीलकंठ महादेव मंदिर तक जाने में अब श्रद्धालुओं को मिनटों का समय लगेगा। उत्तराखंड मेट्रो रेल अर्बन इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कारपोरेशन लिमिटेड (यूकेएमआरसी) की बोर्ड बैठक में ऋषिकेश-नीलकंठ महादेव रोप-वे निर्माण पर मुहर लग गई है। अब प्रस्ताव कैबिनेट के लिए भेज दिया गया है। कैबिनेट से स्वीकृति मिलने के बाद निर्माण शुरू होगा।
विज्ञापन


दरअसल, ऋषिकेश से नीलकंठ महादेव के बीच का सफर खासा मुश्किल है। यहां हर साल होने वाली भारी भीड़ की वजह से लगातार रोप-वे निर्माण की मांग उठती आई है। यूकेएमआरसी के पास रोप-वे निर्माण की जिम्मेदारी है। कारपोरेशन ने हाल ही में हुई बोर्ड बैठक में ऋषिकेश-नीलकंठ रोप-वे का प्रस्ताव पास कर दिया है। इस प्रस्ताव को कैबिनेट मंजूरी के लिए भेज दिया गया है।


450 करोड़ के रोप-वे में होंगे दो स्टेशन
यूकेएमआरसी की ओर से जो प्रस्ताव पास किया गया है, उसके तहत रोप-वे की कुल दूरी 5.5 किलोमीटर की होगी। इसमें बीच में दो पड़ाव आएंगे। एक आईएसबीटी और दूसरा त्रिवेणी घाट। घाट से सीधे नीलकंठ तक का सफर होगा।
 

चंडी देवी रोप-वे का टेंडर अटका

हरकी पैड़ी से चंडी देवी तक बनने वाले करीब सवा दो किलोमीटर रोप-वे की टेंडर प्रक्रिया अटक गई है। इस रोप-वे के लिए सिंचाई विभाग की कुछ जमीन की जरूरत थी। इसके लिए कारपोरेशन ने सिंचाई विभाग को पत्र भेजा था। सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज की ओर से अभी हरी झंडी नहीं मिल पाई है। यह करीब 150 करोड़ का प्रोजेक्ट है। चंडी देवी जाने के लिए 740 मीटर का एक रोपवे पहले से भी है।

दून मेट्रो नियो का भी पहला पड़ाव पार

देहरादून में मेट्रो नियो के संचालन के प्रस्ताव का भी पहला पड़ाव पार हो गया है। जो डीपीआर केंद्रीय मंत्रालय को भेजी गई थी, उसका थर्ड पार्टी रिव्यू पूरा होने के बाद उससे जुड़े सवालों के जवाब सरकार दे चुकी है। इसके बाद मंत्रालय ने नियो मेट्रो को लेकर कुछ सवाल पूछे थे, जिनका जवाब शासन स्तर से मंत्रालय को भेजा जा रहा है। उम्मीद जताई जा रही है कि साल के आखिर तक देहरादून मेट्रो नियो को भी मंत्रालय से हरी झंडी मिल जाएगी।

ये भी पढ़ें...खौफनाक रात: लहूलुहान महिला को घर का दरवाजा खटखटाता देख सन्न रह गए लोग, फिर सुनी रौंगटे खड़े कर देने वाले आपबीती, तस्वीरें

ऋषिकेश-नीलकंठ महादेव रोप-वे को हमारे बोर्ड ने पास करके कैबिनेट मंजूरी के लिए भेज दिया है। चंडीदेवी रोप-वे में सिंचाई विभाग की जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया गतिमान है। देहरादून मेट्रो नियो का प्रस्ताव सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ रहा है। -जितेंद्र त्यागी, एमडी, उत्तराखंड मेट्रो रेल कारपोरेशन
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00