अब बीएड के बाद ये कोर्स भी करना होगा...

अमर उजाला, देहरादून Updated Mon, 03 Feb 2014 11:31 AM IST
diploma in elementary education
उत्तराखंड में साढ़े तीन हजार प्राइमरी शिक्षकों के पदों पर 31 मार्च तक बीएड टीईटी पास युवाओं की नियुक्ति नहीं हुई तो यह पद तीन-चार वर्षों तक खाली पड़े रहेंगे।

उत्तराखंड में यह कोर्स नहीं कराया जाता
एनसीटीई के नियमों के मुताबिक 31 मार्च के बाद केवल डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजूकेशन (डीएलएड) धारी युवाओं को ही प्राइमरी शिक्षक बनने का मौका मिलेगा, लेकिन प्रदेश में फिलहाल किसी भी संस्थान में यह कोर्स नहीं कराया जाता।

पढ़ें, तो सतपाल महाराज से बाल-बाल बची रावत की कुर्सी

नेशनल काउंसिल फोर टीचर एजूकेशन (एनसीटीई) ने डायट की ओर से गए आवेदनों के अलावा 13 प्राइवेट संस्थानों के आवेदन भी वापस कर दिए हैं।

पढ़ें, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के आगे 'नतमस्तक' हुई कांग्रेस

प्रदेश सरकार की ओर से एनसीटीई को भेजे गए जवाब में कहा गया है कि प्रदेश में प्राइवेट या अशासकीय कॉलेजों में डीएलएड पाठ्यक्रम संचालित नहीं किया जा सकता। इस आधार पर आवेदन वापस कर दिए हैं।

पढ़ें, हरीश रावत के जन्म के लिए माता-पिता ने किया था तप

जबकि डायट को एनसीटीई मानक पूरे न करने का पत्र भेज चुकी है। बावजूद इसके किसी भी डायट ने अभी तक जवाब नहीं दिया है।

पढ़ें, पहले ‌ही दिन उत्तराखंड के सीएम ने जताई अपनी 'मंशा'

ऐसे में इस साल प्रदेश में डीएलएड पाठ्यक्रम शुरू होने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। यदि आगामी वर्ष से डायट में भी यह कोर्स शुरू होता है तो इसे पूरा करने में दो वर्ष का समय लगेगा।

फिर होगा पलायन
प्रदेश में डीएलएड शुरू नहीं हुआ तो युवाओं को यह कोर्स करने के लिए दूसरे प्रदेशों के चक्कर काटने पड़ेंगे।

एसोसिएशन आफ सेल्फ फाइनेंस इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष सुनील अग्रवाल ने बताया कि हरियाणा में 300 और यूपी में 500 से ज्यादा डीएलएड संस्थान चल रहे हैं। प्रदेश में सरकार का रुख सरासर गलत है। इस संबंध में वे जल्द ही मुख्यमंत्री से मुलाकात करेंगे।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

आत्महत्या को फैशन मानते हैं इस राज्य के सीएम साहब

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ट्रांस्पोर्टर आत्महत्या मामले को लेकर एक विवादास्पद बयान दिया।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls