इतिहास की गलियों से वर्तमान तक का सफर

कुमार प्रशांत Updated Sun, 28 Jan 2018 02:25 PM IST
 Journey between history to the present
1948 की 12 जनवरी थी! अभी-अभी आजाद हुए देश की राजधानी दिल्ली का बिरला भवन। आज बापू का मौन दिवस था, लेकिन यह दूसरे मौन दिवसों से कुछ अलग था, क्योंकि बापू कहीं भीतर ही गुम थे। प्रार्थना खत्म हुई। उलझते-से पांवों से वह अपने कमरे की ओर चले। मनु ने ओढ़ाकर सुला दिया। बापू सोए नहीं, उठ बैठे और कुछ लिखने लगे।
जो लिखा, उसका अनुवाद सुशीला नैयर करती थीं। सुशीला जी ने पढ़ना शुरू किया कि अचानक वह चीख पड़ीं : अरे, मनु, देख यह क्या! बापू तो कल से अनशन पर जा रहे हैं !! उपवास फिर? अभी ही तो बमुश्किल छह माह पहले कोलकाता का वह भयंकर उपवास हुआ था।

बात जंगल में आग की तरह फैल गई। सरदार, जवाहर, राजेन बाबू, मौलाना, देवदास सभी एक-पर-एक पहुंचने लगे। किसी के पास कहने को कुछ नहीं था, लेकिन यह सबको पता था कि यह बूढ़ा आदमी नहीं रहा, तो किसी के बस का कुछ भी नहीं रह जाएगा।

मौन पूरा हुआ। बापू ने कहा :  पंजाब जाने के लिए आया था यहां, लेकिन देखा कि दिल्ली तो वह दिल्ली बची नहीं है। दिल्ली हाथ से निकली, तो हिंदुस्तान निकला समझिए! मैंने देखा कि हिंदू, मुसलमान, सिख एक-दूसरे के लिए पराए हो चुके हैं। जो मिला, उसी ने बताया कि दिल्ली में मुसलमानों का रह पाना अब संभव नहीं है। ऐसी लाचारी के साथ जीना तो मैं कभी कबूल न करूं। मेरा उपवास लोगों की आत्मा को जाग्रत करने के लिए है, उसे मार डालने के लिए नहीं।
आगे पढ़ें

Spotlight

Most Read

Literature

जब तक आप सपना देखते हैं, आपके पास रास्ता होता है

उपन्यास काल्पनिक कहानियां हैं, इसलिए उसमें झूठ होता है, लेकिन उन झूठी कहानियों के सहारे ही हर उपन्यासकार दुनिया के बारे में सच कहने की कोशिश करता है।

16 फरवरी 2018

Related Videos

दिल्ली के शिवाजी कॉलेज में शाहिद माल्या की LIVE परफॉर्मेंस

बॉलीवुड के ब्लॉकबस्टर गानों ‘इक कुड़ी’, ‘रब्बा मैं तो मर गया ओए’ और ‘कुक्कड़’ से दिल्ली के शिवाजी कॉलेज की शाम रंगीन हो गई जब इन्हें खुद गाया शाहिद माल्या ने।

18 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen