विज्ञापन

Valentine Day Special: प्रेम आपका अधिकार हो सकता है लेकिन प्रेमी पर जताया गया हक नहीं

Bhawna Masiwalभावना मासीवाल Updated Fri, 14 Feb 2020 07:53 AM IST
विज्ञापन
प्रेम करने और चाहने के इस दौर में प्रेम सोचना भी अपने आप में डर है।
प्रेम करने और चाहने के इस दौर में प्रेम सोचना भी अपने आप में डर है। - फोटो : Pexels
ख़बर सुनें
फरवरी का महीना है जो प्रेमोत्सव के रूप में मनाया जाता है। एक ओर बसंत का आगमन है तो दूसरी ओर वेलेंटाइन डे का आगाज़। हर कोई प्रेम करना और पाना चाह रहा है। बाज़ार भी पूरी तैयारी के साथ इस प्रेम को बेच रहा है। प्रेम करने और चाहने के इस दौर में प्रेम सोचना भी अपने आप में डर है। क्योंकि हर प्रेमी, प्रेम में 'हां' सुनने की फरमाइश रखता है और 'ना' सुनना उसके कोष का हिस्सा नहीं होता है।
विज्ञापन
ऐसे में ना कहना कितना घातक हो सकता है ये सिर्फ जान गवाने वाला जान सकता है। आज का प्रेम, प्रेम नहीं सिर्फ जिद्द का हिस्सा है। यहाँ कोई किसी को पसंद करता है तो उस पर अधिकार जताने लगता है, अधिकार काम नहीं करता तो मार देता है, जला देता है और वजह बताता है कि वो उससे प्यार करता था।

 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us