विज्ञापन
विज्ञापन

#कबतकनिर्भयाः आखिर कैसे बचेंगी हमारी बेटियां?

Dhruva Guptध्रुव गुप्त Updated Sat, 30 Nov 2019 01:58 PM IST
तेलंगाना की घटना बताती है कि समाज में कानून का डर नहीं रहा है।
तेलंगाना की घटना बताती है कि समाज में कानून का डर नहीं रहा है। - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
अभी तेलंगाना की घटना से  जिस तरह से एक महिला डॉक्टर के साथ कुछ अपराधियों ने सामूहिक दुष्कर्म कर उसे जिंदा जला दिया, उससे पूरा देश सदमे में है। हाल के वर्षों में ऐसी असंख्य दर्दनाक ख़बरों के साथ जीने को हम अभिशप्त रहे हैं। ऐसा लग रहा है जैसे हम यौन मनोरोगियों के देश में हैं जिसमें रहने वाली समूची स्त्री जाति के अस्तित्व और अस्मिता पर घोर संकट उपस्थित है।
विज्ञापन


दरअसल, आज यह सवाल हर मां-बाप के मन में है कि इस वहशी समय में वे कैसे बचाएं अपनी बहनों-बेटियों को? उन्हें घर में बंद रखना समस्या का समाधान नहीं। अपनी ज़िंदगी जीने का उन्हें पूरा हक़ है। वे सड़कों पर, खेतों में, बसों और ट्रेनों में निकलेंगी ही। हर सड़क पर, हर टोले-मोहल्ले में, हर स्कूल-कालेज में पुलिस की तैनाती संभव नहीं है।

आखिर कहां है कानून का डर?  
आमतौर पर क़ानून और पुलिस का डर ही लोगों को अपराध करने से रोकता है। यह डर तो अब अब रहा नहीं। वैसे भी हमारे देश के क़ानून में जेल, बेल, रिश्वत और अपील का इतना लंबा खेल है कि न्याय के इंतज़ार में एक जीवन खप जाता है।

दरिंदों के हाथों बलात्कार की असहनीय शारीरिक, मानसिक पीड़ा और फिर अमानवीय मौत झेलने वाली देश की हमारी बच्चियों और किशोरियों के लिए हमारे भीतर जितना भी दर्द हो, हमारी व्यवस्था के पास उस दर्द का क्या उपचार है?

संवेदनहीन पुलिस, सियासी हस्तक्षेप, संचिकाओं में वर्षों तक धूल फांकता दर्द, भावनाशून्य न्यायालय, बेल का खेल और तारीख पर तारीख का अंतहीन सिलसिला। कुछ चर्चित मामलों को छोड़ दें तो सालों की मानसिक यातना के बाद निचले कोर्ट का कोई फैसला आया भी तो उसके बाद उच्च न्यायालय, उच्चतम न्यायालय और दया याचिकाओं का लंबा तमाशा! स्थिति विस्फोटक हो चुकी है। लोगों का धैर्य जवाब देने लगा है। इन परिस्थितियों में इस बात की पूरी आशंका है कि लोग क़ानून को अपने हाथ में लेकर सड़कों पर बलात्कारियों को सजा देने लगें।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

स्वास्थ्य के लिए मक्खन से ज्यादा फायदेमंद है देशी घी, जानिए कैसे
Dholpur Fresh (Advertorial)

स्वास्थ्य के लिए मक्खन से ज्यादा फायदेमंद है देशी घी, जानिए कैसे

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

स्टेंट के शोध में और निवेश की जरूरत

देश में गंभीर बीमारियों से मरीजों को होने वाले नुकसान को देखते हुए यूएसएफडीए के मानकों के अनुसार, कम से कम 1000-2000 मरीजों पर क्लिनिकल ट्रायल होने चाहिए, जिससे दिल के विभिन्न रोगों के इलाज में इस उपकरण का मूल्यांकन किया जा सके।

11 दिसंबर 2019

विज्ञापन

टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने बच्चे के साथ डाली इंस्टाग्राम पर तस्वीर तो लोगों ने कह दी मन की बात

सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहने वाली टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक तस्वीर पोस्ट की। जिसको लेकर लोगों ने अपने जज्बात बयां किए। इस रिपोर्ट में जानिए कि आखिर उस तस्वीर की इतनी चर्चा सोशल मीडिया पर क्यों हो रही है।

11 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election