लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   Chhattisgarh ›   dharmsabha meeting tomorrow in raipur Chhattisgarh

Chhattisgarh: धर्म सभा आज; देशभर से 300 संत पहुंचे रायपुर, हिंदू राष्ट्र और धर्मांतरण पर भरेंगे हुंकार

अमर उजाला ब्यूरो, रायपुर Published by: ललित कुमार सिंह Updated Sat, 18 Mar 2023 08:16 PM IST
सार

विश्व हिंदू परिषद की धर्म सभा छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 19 मार्च को होगी। इसमें शामिल होने के लिए लगभग 300 संत रायपुर आने वाले हैं। अधिकतर संत आ भी चुके हैं। धर्म सभा से पहले शनिवार को विश्व हिंदू परिषद के नेताओं और संतों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस ली

dharmsabha meeting tomorrow in raipur Chhattisgarh
विश्व हिंदू परिषद ने ली प्रेस कॉन्फ्रेंस - फोटो : संवाद न्यूज एजेंसी

विस्तार

विश्व हिंदू परिषद की धर्म सभा छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 19 मार्च को होगी। इसमें शामिल होने के लिए लगभग 300 संत रायपुर आने वाले हैं। अधिकतर संत आ भी चुके हैं। राजधानी के रावणभाठा मैदान में होने वाले इस आयोजन की पूरी तैयारी हो चुकी है। धर्म सभा से पहले शनिवार को विश्व हिंदू परिषद के नेताओं और संतों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस ली। इसमें धर्मांतरण को लेकर संतों ने तीखे सवाल किए। विश्व हिंदू परिषद के इस यात्रा के संयोजक चंद्रशेखर वर्मा ने बस्तर में धर्मांतरण बढ़ने का दावा करते हुए कहा कि बस्तर में तेजी से बढ़ रहे नक्सलवाद की समस्या के पीछे चर्च है। चर्च और उससे जुड़े हुए लोगों ही वहां के मुख्य षड्यंत्रकारी हैं । उन्हीं की वजह से ये समस्या बनी हुई है। 




 

उन्होंने दावा करते हुए कहा कि बस्तर के 400 से ज्यादा गांवों में चर्च बनाए गए हैं । पिछले 10 सालों में यहां एक भी चर्च नहीं था और न ही कोई इसाई व्यक्ति । दावा किया जाता है कि वहां कोई धर्मांतरण नहीं हुआ, तो फिर ईसाई कहां से आ गए। चर्च कहां से आ गए। यह विचारणीय है। 

'देश में वहीं राज करेगा, जो हिंदू राष्ट्र की बात करेगा'
इस दौरान संतों ने कहा कि देश में वहीं राज करेगा, जो हिंदू राष्ट्र की बात करेगा। सरगुजा और बस्तर में आदिवासी लड़कियों से दूसरे धर्म वर्ग के लोग शादी कर रहे हैं। उनकी जमीनों पर कब्जा कर रहे हैं। मामले में प्रशासन उदासीन है। चंद्रशेखर वर्मा ने कहा कि 18 फरवरी को छत्तीसगढ़ के अलग-अलग जगहों पर में संतों ने पदयात्रा शुरू की थी, जो अब रायपुर में पहुंच चुकी है। धर्मसभा के रूप में इसका कल समापन होगा। 

ये संत होंगे शामिल
कल होने वाली धर्म सभा में करीब 300 संत पहुंचेंगे। इसमें जूना अखाड़े हरिद्वार के पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरी महाराज, काशी से जितेंद्रानंद सरस्वती, युधिष्ठिरलाल शदाणी दरबार रायपुर, देहरादून से साध्वी डॉ. प्राची आर्य, उज्जैन से बालयोगी योगेश्वर उमेशनाथ, पुष्पेंद्र पुरी, राजीवलोचन दास चित्रकूट धाम, यूपी के गोरखपुर जिले के गौरेला से स्वामी परमात्मानंद , दंतेवाड़ा से स्वामी प्रेम स्वरूपानंद, महामंडलेश्वर स्वामी सर्वेश्वर दास कोटमी सुनार, राधेश्याम दास सेत गंगा बिलासपुर, आचार्य राजेश दास तुरंगा रायगढ़, रामानंद सरस्वती बाटीडांड बलरामपुर, सीताराम दास बिलासपुर, श्यामदास जांजगीर, रामरूप दास त्यागी मद्कूदीप समेत कई संत शामिल होंगे। इसके अलावा देश के अलग-अलग मठों से संत भी रायपुर पहुंच चुके हैं। कल धर्म सभा में भारतीय संस्कृति, हिंदू राष्ट्र, धर्मांतरण आदि विषयों पर विचार रखेंगे। 

दो लाख हनुमान चालीसा बांटी
संतों ने 30 दिनों की पदयात्रा में दो लाख हनुमान चालीसा, दो लाख हुनमान लाकेट, 1 लाख रामचरित मानस और भागवत गीता प्रसाद के रूप में बांटी। कई जगह धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस दौरान ढाई लाख लोगों ने भाग लेकर साप्ताहिक हनुमान चालीसा, हिंदू राष्ट की मांग, मेरा गांव धर्मांतरणमुक्त गांव का संकल्प लिया गया। इसी क्रम में 18 मार्च को रायपुर के 134 बस्तियों में संतों ने पदयात्रा निकाली। 
विज्ञापन

चार तीर्थ स्थानों से शुरू हुई थी यात्रा
18 फरवरी को यह पदयात्रा छत्तीसगढ़ के अलग-अलग दिशाओं में देवी के चार तीर्थ स्थानों से शुरू हुई थी। यात्रा रामानुज गंज जिले के महामाया मंदिर, जशपुर जिले के मां चंद्रहासिनी मंदिर, दंतेवाड़ा जिले के मां दंतेश्वरी मंदिर और राजनांदगांव जिले के मां बम्लेश्वरी मंदिर पानाबरस मोहल्ला से शुरू हुई थी। 



मुस्लिम समाज ने किया स्वागत
बता दें कि राज्य के अलग-अलग जगहों से यात्रा रायपुर पहुंच रही है। संतों का जत्था शनिवार को गुढ़ियारी में पहुंचा। यहां मुस्लिम समुदाय के लोगों ने साधुओं का स्वागत किया। कुन्द्रापारा में पहुंचे संतों पर मुस्लिम समाज के लोगों ने फूल बरसाए। भगवा गमछा पहनाकर स्वागत सत्कार किया। संतों के पहुंचते ही में जय श्री राम... जय श्री राम... के नारे लगने लगे। इस दौरान मुस्लिम समाज के लोगों ने संतों से मुलाकात की। विश्व हिंदू परिषद और कई हिंदू संगठन इस आयोजन से जुड़े हुए हैं। यात्रा के दौरान संत समाज के सदस्यों ने दलितों के घर भी गए वहां भोजन किया। संगठन से जुड़े लोगों का कहना है कि पदयात्रा का उद्देय सामाजिक समरसता को बनाए रखना है। 

ये रहे मौजूद
प्रेस कॉन्फ्रेंस में विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय मंत्री राजेश तिवारी, हिंदू जागरण यात्रा संयोजक चंद्रशेखर वर्मा, विश्व हिंदू परिषद के मंत्री विभूति भूषण पांडे मौजूद रहे। 



 
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

फॉन्ट साइज चुनने की सुविधा केवल
एप पर उपलब्ध है

बेहतर अनुभव के लिए
4.3
ब्राउज़र में ही
एप में पढ़ें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed