भारतीय रिजर्व बैंक ने 68 हजार करोड़ रुपये बट्टे खाते में डाले, यह है वजह

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली। Updated Wed, 29 Apr 2020 05:27 AM IST
विज्ञापन
रुपये
रुपये

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
बैंकों से कर्ज लेकर हजम करने वाले देश के 50 सबसे बड़े बकायेदारों से पैसा वसूली की आस छोड़ दी गई है। बैंकों ने इन लोगों के पास कर्ज के रूप में फंसे 68,607 करोड़ रुपये को तकनीकी तौर पर राइट ऑफ (बट्टे खाते में डालना) कर दिया है। इस सूची में भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी पहले नंबर पर है, जबकि भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या का नाम भी इसमें शामिल है।
विज्ञापन

दरअसल, यह खुलासा भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की तरफ से आरटीआई कार्यकर्ता साकेत गोखले की एक रिट पर दिए जवाब से हुआ है। गोखले ने आरबीआई से सूचना का अधिकार कानून (आरटीआई) के जरिये देश के 50 शीर्ष विलफुल डिफॉल्टर (जानबूझकर कर्ज न चुकाने  वालों) की जानकारी मांगी थी।
साथ ही इनके कर्ज की 16 फरवरी तक की मौजूदा स्थिति पूछी गई थी। गोखले का कहना है कि उन्होंने आरटीआई इस कारण दाखिल की थी, क्योंकि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने बजट सत्र के दौरान कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की तरफ से 16 फरवरी को तारांकित प्रश्न के तहत मांगने पर यह जानकारी देने से इनकार कर दिया था।
गोखले ने कहा, जो जानकारी सरकार ने नहीं दी, वह आरबीआई के केंद्रीय जन सूचना आधिकारी अभय कुमार ने 24 अप्रैल को दी। आरबीआई ने बताया कि 30 सितंबर, 2019 तक इन विलफुल डिफॉल्टरों पर 68,607 करोड़ रुपये बकाया था। इस रकम को तकनीकी तौर पर राइटऑफ कर दिया गया। हालांकि आरबीआई ने सुप्रीम कोर्ट के 16 दिसंबर, 2015 के एक निर्णय का हवाला देकर विदेशी बकायेदारों का नाम बताने से इनकार कर दिया।

क्या होता है विलफुल डिफॉल्टर
कोई भी व्यक्ति या कंपनी, जिसके पास लोन चुकाने लायक रकम हो, लेकिन किस्त अदा नहीं करे और बैंक उसके खिलाफ अदालत जाए, तो ऐसा व्यक्ति या कंपनी विलफुल डिफॉल्टर कहलाता है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

ये हैं तीन सबसे बड़े बकायेदार

विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us