अबू धाबी के पहले हिंदू मंदिर की आधारशिला पीएम मोदी के हाथों

बीबीसी हिंदी Updated Sun, 11 Feb 2018 10:50 AM IST
अबू धाबी
अबू धाबी
ख़बर सुनें
संयुक्त अरब अमीरात की राजधानी अबू धाबी में बनने जा रहे पहले हिंदू मंदिर का भूमिपूजन भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 फरवरी को करेंगे। पीएम मोदी नौ फरवरी से पश्चिम एशियाई देशों के दौरे पर हैं।
दुबई में मौजूद बीबीसी सहयोगी रौनक कोटेचा ने बताया कि चूंकि प्रधानमंत्री 11 फरवरी को दुबई में होंगे इसलिए वो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अबूधाबी में मंदिर के 'भूमिपूजन' में शामिल होंगे।

यूएई सरकार ने अबू धाबी में मंदिर बनाने के लिए 20,000 वर्ग मीटर जमीन दी थी। यूएई सरकार ने साल 2015 में उस वक्त ये एलान किया था जब प्रधानमंत्री मोदी दो दिवसीय दौरे पर वहां गए थे।

ये मंदिर क्यों होगा इतना खास?

मंदिर अबू धाबी में 'अल वाकबा' नाम की जगह पर 20,000 वर्ग मीटर की जमीन में बनेगा। हाइवे से सटा अल वाकबा अबू धाबी से तकरीबन 30 मिनट की दूरी पर है। मंदिर को बनाने की मुहिम छेड़ने वाले बीआर शेट्टी हैं जो अबू धाबी के जाने-माने भारतीय कारोबारी हैं। वो 'यूएई एक्सचेंज' नाम की कंपनी के एमडी और सीईओ हैं।

वैसे तो मंदिर साल 2017 के आखिर तक बन कर तैयार हो जाना था लेकिन कुछ वजहों से देरी हो गई। अब पीएम मोदी के दौरे और भूमिपूजन के बाद मंदिर की नींव रखी जाएगी और काम शुरू होगा।

रौनक के बताया कि फिलहाल वहां बस जमीन है और उसके आस-पास किसी तरह की बाउंड्री या साइन बोर्ड नहीं है। पहली नजर में ये एक रेगिस्तान जैसा लगता है।

मंदिर में कृष्ण, शिव और अयप्पा (विष्णु) की मूर्तियां होंगी। अयप्पा को विष्णु का एक अवतार बताया जाता है और दक्षिण भारत खासकर केरल में इनकी पूजा होती है।

रौनक ने बताया, " सुनने में आ रहा है कि मंदिर काफी शानदार और बड़ा होगा। इसमें एक छोटा 'वृंदावन' यानी बगीचा और फव्वारा भी होगा।

मंदिर बनने को लेकर अबू धाबी के स्थानीय हिंदुओँ में उत्साह और खुशी का माहौल है। फिलहाल इन्हें पूजा या शादी जैसे समारोह करने के लिए दुबई आना पड़ता है और इसमें तकरीबन तीन घंटे का वक्त लगता है।

दुबई में दो मंदिर (शिव और कृष्ण के) और एक गुरुद्वारा पहले से हैं। अबू धाबी में चर्च जरूर हैं, लेकिन कोई मंदिर नहीं हैं।

भारतीय दूतावास के आंकड़ों के मुताबिक यूएई में तकरीबन 26 लाख भारतीय रहते हैं जो वहां की आबादी का लगभग 30% हिस्सा है।

रौनक बताते हैं कि बीआर शेट्टी का अबूधाबी में लंबा-चौड़ा कारोबार है, इसलिए उन्हें लगा कि यहां रहने वाले हिंदुओं के लिए एक प्रार्थनास्थल होना चाहिए।

रौनक बताते हैं कि सभी हिंदू अपने घरों में देवी-देवताओं की मूर्तियां रखते हैं और बाकायदा पूजा-पाठ करते हैं। गणेश चतुर्थी, नवरात्र से लेकर होली और दिवाली सारे त्योहार धूमधाम से मनाए जाते हैं।

उन्होंने कहा, "लोग बोट में ले जाकर गणपति विसर्जन करते हैं। दिवाली में तो यहां आपको लगेगा ही नहीं कि आप भारत में नहीं है। चारों ओर रौशनी और जश्न का माहौल रहता है।" 

यूएई कुछ साल पहले तक भारत का सब से बड़ा व्यापारिक साझेदार था। अब भी चीन और अमरीका के बाद ये तीसरे स्थान पर है।

कच्चे तेल और ऊर्जा के क्षेत्र में यूएई भारत का एक महत्वपूर्ण पार्टनर है। भारत को गैस और तेल की जरूरत है और यूएई इसका एक बड़ा आपूर्तिकर्ता है और इससे भी बड़ा भागीदार बनने की क्षमता रखता है।

यूएई की आर्थिक कामयाबी का मतलब ये है कि इसकी अर्थव्यवस्था 800 अरब डॉलर की है। यूएई में रहने वाले प्रवासी भारतीय अमरीका और यूरोप से कई मायने में अलग हैं।

निवेश के लिए इसे मार्केट चाहिए जो भारत के पास है। फिलहाल भारत में इसका निवेश केवल तीन अरब डॉलर का है। 

RELATED

Spotlight

Most Read

Gulf Countries

प्रवासी भारतीय को यूएई की कंपनी से मिला लाखों रुपये का मुआवजा

संयुक्त अरब अमीरात में नौकरी के दौरान एक दुर्घटना के बाद संक्रमण की वजह से अपने दोनों हाथ और पैर गंवाने वाले व्यक्ति को अपने नियोक्ता से 2,02,000 दिरहम (करीब 38 लाख रुपये) का मुआवजा मिला।

23 जून 2018

Related Videos

शिक्षक से ऐसा प्यार कभी आपने देखा नहीं होगा

तमिलनाडु में तिरुवल्लूर जिले के एक सरकारी स्कूल में टीचर-स्टूडेंट्स के बीच बॉन्डिंग का अनूठा नजारा देखने को मिला। तबादले के आदेश के बाद जब यहां के एक टीचर स्कूल से जाने लगे तो स्टूडेंट्स ने उन्हें घेरकर रोक लिया।

23 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen