हनुमान जयंती विशेषः कहां मिले थे हनुमान जी अपने बेटे से

अमर उजाला, दिल्ली / टीम डिजिटल Updated Tue, 15 Apr 2014 09:57 AM IST
विज्ञापन
hanuma makardhwaj temple gujrat bet dwarika
ख़बर सुनें
हनुमान जी का विवाह भी हुआ था और उनका एक बेटा भी था। हनुमान जी अपने बेटे से कहां और कब मिले थे इस बात का गवाह है यह मंदिर
विज्ञापन
एक मत के अनुसार महावीर हनुमान जी का जन्म वैशाख पूर्णिमा के दिन हुआ था। हनुमान जी ने अपना पूरा जीवन राम की भक्ति में समर्पित कर दिया। भक्ति भाव में डूबे हनुमान जी को पता ही नहीं चला कि उनका एक बेटा भी है।

इस बात का पता हनुमान जी को तब चला जब रावण के भाई अहिरावण ने राम और लक्ष्मण जी का अपहरण कर लिया। अहिरावण से राम लक्ष्मण को मुक्त करवाने के लिए हनुमान जी जब पाताल में प्रवेश कर रहे थे उस समय हनुमान जी पहली बार अपने पुत्र मकरध्वज से मिले।

पढ़ें,यह आठ चीजें आपके पास हो तो हनुमान की तरह महावीर बन जाएंगे


वह स्थान जहां हनुमान और मकरध्वज पहली बार मिले थे वह स्थान द्वारिका पुरी के पास स्थित बेट द्वारिका माना जाता है। इस मिलन के प्रतीक के तौर पर यहां हनुमान जी के साथ उनके पुत्र मकरध्वज की भी प्रतिमा विराजमान है।

कथा है कि पाताल के प्रहरी के तौर पर काम कर रहे मकरध्वज ने हनुमान जी को पाताल में प्रवेश करने से रोक दिया। इसके बाद हनुमान जी का मकरध्वज से लंबे समय तक युद्घ चला।

पढ़ें,साप्ताहिक राशिफल: 14 अप्रैल से 20 अप्रैल तक


जब हनुमान जी ने मकरध्वज को परास्त कर दिया तो आधा शरीर वानर और आधा शरीर मछली वाले मकरध्वज से पूछा कि तुम्हारा शरीर ऐसा क्यों है और तुम्हारे पिता कौन हैं।

मकरध्वज ने उत्तर दिया कि मेरे पिता महावीर हनुमान हैं और मेरी माता एक मछली है। लंका दहन के बाद जब हनुमान जी अपनी पूंछ में लगी आग सागर में बुझा रहे थे।

पढ़ें,पता चल गया, शरीर में आत्मा आखिर कहां रहती है

उस समय हनुमान जी के शरीर से टपके पसीने की बूंद को मेरी माता ने अपनी मुख में रख लिया। इससे मेरा जन्म हुआ। मकरध्वज के उत्तर को सुनकर हनुमान जी खुश हो गए और मकरध्वज को पुत्र कहकर गले लगा लिया।
विज्ञापन
विज्ञापन

Recommended

आईआईटी से कम नहीं एलपीयू, जानिए कैसे
LPU

आईआईटी से कम नहीं एलपीयू, जानिए कैसे

गुप्त नवरात्रों की नवमी को कामाख्या देवी मंदिर में कराएं दुर्गा सप्तशती पाठ और हवन, मिलेगी हर बाधा से मुक्ति : 3-फरवरी-2020
Astrology Services

गुप्त नवरात्रों की नवमी को कामाख्या देवी मंदिर में कराएं दुर्गा सप्तशती पाठ और हवन, मिलेगी हर बाधा से मुक्ति : 3-फरवरी-2020

अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Religion

30 जनवरी 2020: पंचांग, शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

30 january 2020 panchang in hindi पढ़ें 30 जनवरी 2020 का पंचांग, जानें शुभ तिथि, मुहूर्त, राहुकाल, सूर्योदय और सूर्यास्त का समय।

29 जनवरी 2020

विज्ञापन

जानिए 1 फरवरी से WhatsApp, ATM कार्ड, गैस सिलिंडर समेत में हो रहे कौन से बड़े बदलाव

1 फरवरी से देश में WhatsApp, ATM कार्ड, गैस सिलिंडर,एलआईसी समेत कई जरूरी चीजों में अहम बदलाव होने जा रहे हैं। एक नजर डालिए इन्हीं अहम बदलावों पर जिनके बारे में जानकारी लेना आपके लिए है बेहद जरूरी।

29 जनवरी 2020

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us