पर्यावरण को भी हथियार में बदल देगी हार्प

नई दिल्ली/एजेंसी Updated Mon, 18 Jun 2012 12:00 PM IST
Harp-tech-can-make-the-weapons-to-environment
ख़बर सुनें
परमाणु कार्यक्रम और उसके विनाशकारी प्रभाव को लेकर व्याप्त चिंताओं के बीच पर्यावरण को भी हथियार बनाकर दुनिया को नष्ट करने की तकनीक अब तैयार हो गई है। हालांकि इसे शोध का नाम दिया जा रहा है लेकिन इसके भयानक परिणामों को लेकर दबी जुबान में इसका विरोध भी शुरू हो चुका है। इस खतरनाक तकनीक का नाम है हार्प।
अमेरिकी वायुसेना, नौसेना और अलास्का विश्वविद्यालय के सहयोग से अलास्का के गाकोन में वर्ष 1990 में हार्प कार्यक्रम को प्रारंभ किया गया था। अमेरिका ने अपने इस कार्यक्रम को बेहद गोपनीय रखा है लेकिन इसे लेकर उठने वाले हजारों सवालों के कारण अब हार्प कार्यक्रम की वेबसाइट पर कुछ जानकारी साझा गई है।

इससे जुडे़ सवाल और विवादों से भी वेबसाइट अटी पड़ी है, जिस पर इस कार्यक्रम को पर्यावरण का एक हथियार के रूप में उपयोग करने का आरोप लगाया गया है। यदि इस शोध का इस्तेमाल कभी सैन्य फायदों के लिए किया गया तो इससे मानव जीवन तबाह हो सकता है। खुद वैज्ञानिक भी मानते हैं कि इससे हजारों जीव ही नहीं बल्कि धरती के एक बड़े हिस्से को नुकसान पहुंचाया जा सकता है।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिक डॉक्टर कुमार कृष्ण ने कहा कि वायुमंडल हमारी धरती पर एक रक्षा कवच के तौर पर काम करता है। वायुमंडल को नियंत्रित करना आसान नहीं है और न ही जमीनी स्तर ऐसा संभव हो सकता है। हमारी धरती स्थिर नहीं है क्योंकि इस पर कई प्रकार के दबाव रहते हैं। इसके अलावा यहां उल्का पिंडों की बारिश आदि हो सकती है। साथ ही अंतरिक्ष के विकिरण से धरती में कई सौ वर्षों के बाद काफी व्यापक बदलाव आने की आशंका भी है।

डॉ. कृष्ण ने कहा कि आयन मंडल या पर्यावरण का शोध बदलते पर्यावरण और ग्लोबल वार्मिंग तथा इससे होने वाले प्रभावों को कम करने में कारगर साबित हो सकता है। ऐसे समय में जब दुनिया के कई हिस्सों में बाढ़, सूखा, सुनामी, भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ रहा है। यह शोध धरती पर जीवन को बचाने के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। हालांकि उन्होंने यह स्वीकार किया कि अगर इस तकनीक का सैन्य इस्तेमाल किया जाता है तो इसमें कोई संदेह नहीं है कि इससे न केवल एक क्षेत्र या देश को नहीं बल्कि पूरी धरती को ही भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

क्या है हार्प तकनीक
हार्प यानी हाई फ्रीक्वेंसी एक्टिव एरोरल रिसर्च प्रोग्राम। इसकी मदद से वायुमंडल की ऊपरी परतों में से एक आयन मंडल या आयनोस्फेयर को समझने और उसके बारे में और जानकारी एकत्र की जा रही है। गौरतलब है कि आयन मंडल हमारे वायुमंडल की वह परत है जिसका उपयोग नागरिक और रक्षा नौवहन प्रणाली में किया जाता है।

कैसे है यह खतरनाक
हार्प कार्यक्रम की अधिकारिक वेबसाइट पर इस तकनीक के बारे में बताया गया है कि इस तकनीक में विद्युत चुंबकीय तरंगें वायुमंडल में उच्च आवृत्ति के तहत छोड़ी जाती है, जिससे वायुमंडल का एक सीमित हिस्सा नियंत्रित किया जा सकता है। इससे बाढ़ तक की स्थिति पैदा की जा सकती है या फिर तूफान भी लाया जा सकता है। साफ है कि इसमें पर्यावरण को नियंत्रित करके उसे हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।


हार्प तकनीक धरती पर जीवन को बचाने के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है लेकिन यदि इस तकनीक का सैन्य इस्तेमाल किया जाता है तो इससे न केवल एक क्षेत्र या देश बल्कि पूरी धरती को ही भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।
डॉक्टर कुमार कृष्ण, वैज्ञानिक, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा

Spotlight

Most Read

Other Archives

शहरियों ने कटा दी नाक, सिर्फ 58.89 फीसदी मतदान

बिंदकी समेत अन्य ने की पूरी मेहनत, रहे अव्वल हथगाम ने इस बार भी बाजी मारी, पांच फीसदी उछला

30 नवंबर 2017

Other Archives

35 घायल

28 नवंबर 2017

Related Videos

यूपी में दलित सुरक्षित नहीं! समेत सुबह की पांच बड़ी खबरें

यूपी में दलित सुरक्षित नहीं! और आइफा में 20 साल बाद झूमकर नाचीं रेखा समेत सुबह की पांच बड़ी खबरें।

25 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen