कोर्ट का आदेश नहीं ‌म‌िलेगी कोई ‌ड‌िग्री!

अमर उजाला, नई ‌द‌िल्ली Updated Fri, 31 Jan 2014 05:02 PM IST
school of fashion technology is not affiliated
हाईकोर्ट ने मेघालय स्थित महात्मा गांधी विश्वविद्यालय से कोलोब्रेशन के साथ चलाने का दावा करने वाले स्कूल ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट को सभी डिग्री कोर्स में दाखिला करने पर रोक लगा दी।

अदालत ने कहा कि राजधानी में मान्यता प्राप्त न होने पर इस इंस्टीट्यूट में कैसे दाखिल कर बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ किया जा रहा है। कोर्ट ने यूजीसी से भी स्पष्ट करने का निर्देश दिया है कि मेघालय के उक्त विवि के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई है।

न्यायमूर्ति मनमोहन ने मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि जब महात्मा गांधी विवि (मेघालय) मात्र मेघालय में कोर्स करवाने के लिए मान्यता प्राप्त है तो उससे जुड़े इंस्टीट्यूट दिल्ली में कैसे दाखिले दे सकते हैं। अदालत ने उक्त विश्वविद्यालय को भी निर्देश दिया कि वे दिल्ली के किसी भी बच्चे का दाखिला स्वीकार नहीं करेंगे।

अदालत गाजियाबाद यूपी निवासी छात्र मो. शाजिद द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई कर रही है। याची के अधिवक्ता सिताब अली चौधरी ने अदालत को बताया कि स्कूल ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट साउथ एक्स स्थित अंसल प्लाजा में चल रहा है।

उन्होंने कहा उक्त इंस्टीट्यूट में एमबीए, बीबीए, बीसीए, एमसीए व फैशन संबंधी कोर्स को चला रहा है। उनके मुवक्किल ने भी वर्ष 2012-14 सत्र के लिए इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स में दाखिला लिया व एक लाख रुपये से ज्यादा फीस अदा की।

उन्होंने कहा कि अब पता चला है कि यह इंस्टीट्यूट गैरकानूनी रूप से संचालित है और तथाकथित रूप से मंजूरी का तर्क देकर मासूम व गरीब बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहा है।

Spotlight

Most Read

Campus Archives

अब चलेगा ‘नींद से जागो’ अभियान

14 सितंबर को हिंदी दिवस के मौके पर नैनीताल उच्च न्यायालय में हिंदी में फैसले की मांग पर अमर उजाला की मुहिम नए रंग में रंगती नजर आ रही है।

14 सितंबर 2017

Related Videos

दावोस पीएम मोदी की तारीफ में सुपरस्टार शाहरुख खान ने पढ़े कसीदे

दावोस में 'विश्व आर्थिक मंच' सम्मेलन में बच्चों और एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए काम करने के लिए क्रिस्टल अवॉर्ड से नवाजे गए बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान..

24 जनवरी 2018