विज्ञापन
विज्ञापन

कब होगा इवनिंग क्लास का 'उजियारा'?

ब्यूरो / अमर उजाला, देहरादून Updated Thu, 06 Nov 2014 10:33 AM IST
evening class plan flop in dehradun.
ख़बर सुनें
उत्तराखंड में इवनिंग क्लास में पढ़ने के ख्वाहिशमंद छात्र पूछते फिर रहे हैं कि कहां हैं इवनिंग क्लासेज? हाईकोर्ट के आदेश के बाद कॉलेजों में पैदा हुए दाखिला संकट को खत्म करने के लिए सरकार ने ईवनिंग क्लासेज की घोषणा तो कर दी।
विज्ञापन
लेकिन उसे जमीन पर नहीं उतार पाई। जिन महाविद्यालयों में सांध्यकालीन कक्षाओं की ज्यादा जरूरत थी, वहां अब तक कोई काम नहीं हुआ है। आलम यह है कि सात करोड़ रुपये के बजट की घोषणा सरकार ने की थी लेकिन अभी तक किसी भी कालेज को एक पाई तक नहीं मिली है।

जहां जरूरत है वहां कुछ भी नहीं
हाईकोर्ट का आदेश आने के बाद डीएवी, डीबीएस, एमकेपी और एसजीआरआर कॉलेज में सबसे ज्यादा दाखिला संकट पैदा हुआ था। जहां हर साल दाखिलों की संख्या 10 हजार पार कर जाती थी, वहां मेरिट पर निर्धारित सीटों पर दाखिला होने के बाद पांच हजार से ज्यादा छात्र दाखिले से वंचित रह गए।

डीएवी कॉलेज में सांध्य कालीन कक्षाओं के लिए सीटों की संख्या 980 दी गई, लेकिन यहां अभी तक एक भी दाखिला नहीं हो पाया है। पांच हजार से ज्यादा छात्र यहां दाखिले के इंतजार में हैं। डीबीएस कॉलेज में इवनिंग क्लासेज में दाखिले तो हो गए।

लेकिन अब तक शिक्षक नहीं होने से छात्र पढ़ने के लिए भटक रहे हैं। एसजीआरआर पीजी कॉलेज को सीटों की संख्या पता है, लेकिन इससे आगे प्रवेश कब होंगे, कैसे होंगे, इसका कुछ पता नहीं है।

सरकारी औपचारिकता

हर साल प्रदेश में सरकारी डिग्री कॉलेजों में सीटें खाली रहती थी। विकासनगर, डोईवाला सहित कुछ कॉलेजों को छोड़ दें तो बाकी जगहों पर बीए, बीएससी व बीकॉम की सीटें खाली बचती थीं।

बावजूद इसके सरकारी कॉलेजों में इवनिंग क्लासेज लांच की गई। यहां शिक्षकों की भर्ती भी कर ली गई है। यह बात अलग है कि इन कॉलेजों में इवनिंग क्लासेज की सीटें नहीं भर पाई हैं।

एक्ट बन गया परेशानी
दरअसल, अशासकीय महाविद्यालयों में शिक्षक की भर्ती प्रक्रिया में एक एक्ट आड़े आ रहा है। इन कॉलेजों में शिक्षकों की भर्ती के लिए बनने वाली चयन समिति का अध्यक्ष प्रबंधन का पदाधिकारी होता है।

लेकिन सरकार चाहती है कि यहां इवनिंग क्लासेज के लिए डीएम स्तर पर ही शिक्षकों की भर्ती हो जाए। इस पर अशासकीय महाविद्यालय ऐतराज जता रहे हैं। इस संबंध में कई बार अशासकीय महाविद्यालयों के प्राचार्य, निदेशक और सचिव स्तर पर मांग भेज चुके हैं, लेकिन शिक्षक भर्ती का रास्ता साफ नहीं हो पाया है।

180 दिन पूरे होने मुश्किल
जितनी तेजी से सत्र बीत रहा है, उस लिहाज से 180 दिन का शिक्षण सत्र पूरा होना मुश्किल है। यूजीसी के निर्देशानुसार और हाईकोर्ट के आदेशों के तहत मॉर्निंग हो या इवनिंग, 180 दिन का शिक्षण अनिवार्य है।

श्रीदेव सुमन विवि का सत्र अगस्त में शुरू हो गया था, लेकिन यहां नवंबर आने तक भी विवि से संबद्ध इवनिंग क्लासेज का शिक्षण शुरू नहीं हो पाया है।

मॉर्निंग की संबद्धता प्रक्रिया भी अटकी

सरकार ने यह भी घोषणा की थी कि इसी सत्र से गढ़वाल विवि से संबद्ध डिग्री कॉलेजों को असंबद्ध करके, श्रीदेव सुमन विवि से संबद्धता की जाएगी। लेकिन यह प्रकरण भी एक्ट के बीच में फंस गया।

एक ओर श्रीदेव सुमन विवि के एक्ट में ऐसा प्रावधान नहीं था तो दूसरी ओर केंद्रीय गढ़वाल विवि के एक्ट के मुताबिक असंबद्ध करने के लिए कुछ बदलाव करने थे। जिसकी फाइल मानव संसाधन विकास मंत्रालय में धूल फांक रही है।

अशासकीय महाविद्यालयों में शिक्षक भर्ती के लिए अब तक दिशा निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं। हम कालेजों की मांग पर लगातार प्रयास कर रहे हैं कि हल निकाला जाए, लेकिन निदेशालय की ओर से कोई भी फाइल नहीं आई।
- डॉ. एनपी माहेश्वरी, उपनिदेशक, उच्च शिक्षा निदेशालय

एडमिशन ले लिया, पढ़ाने वाला नहीं

देहरादून के डीबीएस पीजी कॉलेज में इवनिंग क्लासेज में एडमिशन लेने वाले छात्र शिक्षक नहीं होने की वजह से आंदोलन की राह पर हैं। छात्रों ने बुधवार को प्राचार्य को घेरा। चेतावनी दी कि अगर जल्द शिक्षक न आए तो वह कालेज नहीं चलने देंगे।

इवनिंग क्लासेज के छात्र बुधवार को प्राचार्य डॉ. ओपी कुलश्रेष्ठ के पास पहुंचे। छात्रों का कहना था कि जब शिक्षक की व्यवस्था नहीं थी तो उन्हें दाखिला क्यों दिया गया?

छात्रों का यह भी कहना था कि कॉलेज प्रशासन की ओर से मॉर्निंग की कक्षाओं में उन्हें एडजस्ट किया जा रहा है, लेकिन वहां इतनी भीड़ हो जाती है कि बैठने की जगह नहीं मिलती।

पूर्व छात्र संघ महासचिव देवेंद्र और वर्तमान सचिव विपुल गौड़ ने कहा कि कॉलेज प्रशासन जल्द शिक्षकों की व्यवस्था कराए, नहीं तो वह मॉर्निंग शिफ्ट की कक्षाएं चलने नहीं देंगे। इस पर प्राचार्य ने उनका ज्ञापन शासन और उच्च शिक्षा निदेशालय तक भेजने को कहा और जल्द कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद छात्र लौट गए।
विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Crime Archives

यूपी: रामलीला मंच पर डांस करने को लेकर विवाद, गोलीबारी में किशोर घायल

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में रामलीला में डांस को लेकर लोगों में जमकर मारपीट हो गई। झगड़ा इतना बढ़ गया कि इस दौरान रामलीला मंच पर तोड़फोड़ कर दी और फायरिंग भी हुई। फायरिंग करते समय छर्रा लगने से एक किशोर घायल हो गया...

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

खराब मौसम की वजह से राहुल गांधी के हेलीकॉप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग, बच्चों संग क्रिकेट खेल काटा समय

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के हेलीकॉप्टर की खराब मौसम के कारण हरियाणा के रेवाड़ी में आपात लैंडिंग करानी पड़ी। जिसके बाद वो बच्चों संग क्रिकेट खेलते नजर आए।

18 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree