बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

पीठ का दर्दः घुमाव वाले जूतों क्या वाकई हैं फायदेमंद?

Updated Tue, 15 Oct 2013 02:01 PM IST
विज्ञापन
curved shoes are not effective for backache
ख़बर सुनें
कर्व यानी घुमाव वाले अस्थिर तले के जूते पीठ के दर्द को कम करने में पारपंरिक जूतों (ट्रेनर्स) के मुकाबले बेहतर नही हैं। लंदन के किंग जॉर्ज कॉलेज की ओर से किए गए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है।
विज्ञापन


इससे पहले हुए शोध में कहा गया था कि इन जूतों से खड़े होने के ढंग पर सकारात्मक असर पड़ता है और यह पीठ और जोड़ों के दर्द को रोकने में सहायक होते हैं।

बिना साइड इफेक्ट के दूर होगा कमर का दर्द


स्वास्थ्य के क्षेत्र से जुड़े पेशेवर इन जूतों की सिफ़ारिश करते रहे हैं।

शोध में यह भी कहा गया है कि सामान्य ट्रेनर्स जूते चलने या खड़े होने से होने वाले पीठ के दर्द में लाभदायक हो सकते हैं।

'ट्रेनर जूते बेहतर'
फ़िज़ियोथेरेपिस्ट डॉक्टर शियान मैकरे ने अपनी पीएचडी के दौरान ही इस शोध का नेतृत्व किया।

अस्थिर घुमाव के तले वाले जूतों को अक्सर यह कहकर बेचा जाता है कि वो मांसपेशियों की सक्रियता बढ़ाने में सहायक होते हैं, उनसे पीठ के निचले हिस्से के दर्द को कम करने और संतुलन, खड़े होने के ढंग को बेहतर बनाने में मदद मिलती है।

डॉक्टर मैकरे कहती हैं कि उनके मरीज़ हमेशा पूछते थे कि क्या उनके "रॉकर सोल" वाले जूते ठीक हैं? इसलिए उन्होंने फ़ैसला किया कि वो ये पता लगाएंगी कि क्या उनसे पीठ के दर्द और अन्य परेशानी में सहायता मिल सकती है।

'स्पाइन' जनरल में छपे क्लिक करें इस शोधपत्र के अनुसार पीठ के निचले हिस्से में दर्द की गंभीर दिक्कत से जूझ रहे 115 लोगों को एक दिन में चलते वक्त या खड़े होते समय में कम से कम दो घंटे रॉकर सोल वाले जूते या ट्रेनर जूते पहनने को कहा गया।

उन लोगों को लगभग एक महीने तक हफ़्ते में एक बार व्यायाम और शैक्षिक कार्यक्रम में भी हिस्सा लेना होता था और इस दौरान अपने जूते पहनने होते थे।

छह हफ़्ते, छह महीने और फिर एक साल बाद एक विकलांगता प्रश्नोत्तरी के आधार पर इन प्रतियोगियों की जांच की गई।

शोध के अंत में शोधकर्ताओं ने पाया कि ट्रेनर जूते पहनने वाले लोगों की दिक्कत में रॉकर सोल वाले ग्रुप के मुकाबले काफ़ी कमी आई है।

छह महीने बाद ट्रेनर ग्रुप के लोगों ने पीठ की लोच में 53 प्रतिशत तक सुधार बताया जबकि रॉकर सोल वाले ग्रुप में यह सिर्फ़ 31 प्रतिशत ही था।

शोध के शुरू में जिन 59 लोगों ने कहा था कि खड़े रहने और चलने से उनकी पीठ का दर्द बढ़ गया है उनमें से ट्रेनर जूतों वाले ग्रुप को एक साल बाद दिक्कत में भारी कमी दिखी बनिस्बत रॉकर सोल ग्रुप के।

डॉक्टर मैकरे कहती हैं, "ّइस बेतरतीब क्लिनिकल ट्रायल के निष्कर्षों के आधार पर पीठ के निचले हिस्से के गंभीर मरीज़ों को डॉक्टर विश्वास के साथ सलाह दे सकेंगे कि वो कठोर तले वाले जूते पहनें या ट्रेनर पहनें उनकी तकलीफ़ और दिक्कत में फ़र्क समान रूप से पड़ेगा।"

"हालांकि अगर मरीज़ को चलने या खड़े होने में पीठ के निचले हिस्से में दर्द होता है तो बेहतर यही होगा कि वो रॉकर सोल वाले जूतों के बजाय ट्रेनर जूते पहनें।"

अस्थिर तले वाले जूते बनाने वाली कंपनी मसाई बेयरफ़ूट टेक्नोलॉजी (एमबीटी) के प्रवक्ता नोएल मे कहते हैं, "बहुत से अन्य शोधों में बताया गया है कि घुमाव वाले जूते जोड़ों पर दबाव को कम करते हैं और खड़े होने की मुद्रा पर सकारात्मक प्रभाव छोड़ते हैं।"

वह कहते हैं, "मेरे मन में प्रश्नावलियों पर आधारित इस जैसे शोधों को लेकर काफ़ी सम्मान है लेकिन हम सभी जानते हैं कि ठीक होने की प्रश्नावलियों पर कई चीज़ों का प्रभाव पड़ता है- जैसे कि शोध करने वाले व्यक्ति का नज़रिया, अर्थव्यवस्था और तो और मौसम भी।"

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us