विज्ञापन

रामगढ़ भीड़ हिंसा: एक साल बाद भी मृत्यु प्रमाण पत्र के इंतजार में भटक रहा परिवार

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, रामगढ़ Updated Mon, 06 Aug 2018 12:59 PM IST
Ramgarh Lynching: Victim family is running on every doorstep to get death certificate
विज्ञापन
ख़बर सुनें
29 जून 2017 को अलीमुद्दीन उर्फ असगर अंसारी को झारखंड के रामगढ़ जिले में एक भीड़ ने पीट-पीटकर मार दिया था। उनपर बीफ ले जाने के शक में हमला किया गया था। इस घटना को एक साल से ज्यादा का समय बीत चुका है लेकिन उनके परिवार को आज तक मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं मिला है। वह हर दरवाजे पर जाकर प्रमाण पत्र पाने की कोशिश कर रहे हैं।
विज्ञापन
पुलिस अब तक वह रिपोर्ट जमा नहीं करवा पाई है जिससे उसकी मौत के स्थल का पता चल सके। इसी वजह से परिवार मृत्यु प्रमाणपत्र को पाने के लिए संघर्ष कर रहा है। अलीमुद्दीन के बेटे शहजाद अंसारी ने बताया, 'हम लगातार पुलिस स्टेशन, उप-मंडल अधिकारी के कार्यालय, उप-कमिश्नर के कार्यालय और रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसिंज में भागदौड़ कर रहे हैं। मेरे पिता ने कुछ बीमा योजनाए की हुई थीं। हमें बहन की शादी के लिए पैसों की जरुरत है लेकिन हम बीमा के पैसों पर दावा तभी कर सकते हैं जब हमारे पास मृत्यु प्रमाण पत्र आ जाएगा।'

अलीमुद्दीन का मामला पहला ऐसा था जिसमें फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 12 में से 11 आरोपियों को दोषी पाया था और उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। हालांकि इस साल जून में 9 आरोपियों को झारखंड हाईकोर्ट से जमानत मिल गई थी। जमानत मिलने के बाद आरोपी केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा से मिलने के लिए उनके आवास पर गए थे और मंत्री ने माला पहनाकर उनका स्वागत किया था। जिसकी वजह से विपक्ष ने उनपर निशाना साधा था। इसके बाद उन्हें दो बार सफाई देनी पड़ी थी।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Jharkhand

नाबालिग लड़की को धर्मांतरण के लिए मजबूर करने के आरोप में डॉक्टर गिरफ्तार

पाकुड़ जिले में एक नाबालिग लड़की को धर्मांतरण के लिए मजबूर करने के आरोप में एक वरिष्ठ पशु-चिकित्सक को गिरफ्तार किया गया है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी।

18 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

सुमित्रा महाजन का सवाल, क्या आरक्षण से होगा देश का उद्धार?

रांची में आयोजित लोकमंथन कार्यक्रम के समापन समारोह में शामिल होने आईं लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने आरक्षण के मुद्दे पर खुलकर अपनी बात रखी। सुमित्रा महाजन ने कहा कि डॉ. भीमराव अांबेडकर ने आरक्षण को सिर्फ 10 साल के लिए लागू करने की बात कही थी।

1 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree