ट्रंप-किम की मुलाकात में भारत का क्या रोल हो सकता है

बीबीसी, हिंदी Updated Fri, 18 May 2018 06:37 PM IST
डोनाल्ड ट्रंप, किम जोंग
डोनाल्ड ट्रंप, किम जोंग
ख़बर सुनें
भारत ने बताया है कि उसने अपने एक मंत्री को दो दशक बाद उत्तर कोरिया भेजा है। इससे पहली 1998 में आखिरी बार किसी भारतीय मंत्री ने उत्तर कोरिया का दौरा किया था। उस वक्त भी बीजेपी के नेतृत्व वाले गठबंध की सरकार थी। तत्कालिन सूचना और प्रसारण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी प्योंगयांग में एक फिल्म महोत्सव में शिरकत करने पहुंचे थे। इस बार भारत सरकार ने अपने विदेश राज्य मंत्री और पूर्व सेना प्रमुख वीके सिंह को उत्तर कोरिया भेजा है। उनके इस दौरे को काफी अहम माना जा रहा है।
वीके सिंह ने अपने इस दौरे के दौरान उत्तर कोरिया के कई वरिष्ठ मंत्रियों और अधिकारियों से मुलाकात की। इस हफ्ते की शुरुआत में दो दिन चली वार्ताओं में दोनों देशों के बीच राजनीतिक, क्षेत्रीय, आर्थिक, शैक्षणिक और सांस्कृतिक सहयोग बढ़ाने को लेकर चर्चा हुई।

ऐतिहासिक मुलाकात

ये दौरा ऐसे वक्त में हुआ है जब कुछ हफ्तों पहले ही उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच एक दशक से भी ज्यादा समय में पहला शिखर सम्मेलन हुआ। अगले महीने उत्तर कोरिया और अमेरिका के नेताओं के बीच पहली ऐतिहासिक मुलाकात होने की तैयरी चल रही है। हालांकि किम जोंग उन और डोनल्ड ट्रंप के बीच 12 जून को होने वाली इस वार्ता पर आशंका के बादल भी मंडराने लगे हैं। 

दरअसल उत्तर कोरिया के नेता ने कहा है कि अगर अमेरिका उस पर परमाणु हथियार छोड़ने का दबाव बनाएगा तो वो ये मुलाकात रद्द कर देंगे। तो ऐसे समय में भारत का उत्तर कोरिया के पास जाने का क्या कारण है? क्या वो इस बात की तसल्ली कर लेना चाहता है कि अचानक हुए राजनयिक बदलावों के दौर में वो कहीं पीछे ना छूट जाए? या वो अपने सहयोगी अमेरिका का पक्षधर बनकर उत्तर कोरिया पुहंचा है? कई लोगों को ये याद भी नहीं होगा कि उत्तर कोरिया और भारत के बीच 45 सालों तक अच्छे-खासे राजनयिक संबंध रहे हैं।

दिल्ली और प्योंगयांग में दोनों के छोटे दूतावास भी है। दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान से जुड़े प्रोग्राम हुआ करते थे और दोनों ने विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में सहयोग को लेकर समझौतों पर हस्ताक्षर भी किए थे। भारत में विदेशी राजनयिकों के लिए जो कोर्सेस चलाए गए उनमें भी उत्तर कोरिया के राजनयिकों ने भाग लिया था। संयुक्त राष्ट्र के एक कार्यक्रम के तहत भारत उत्तर कोरिया में खाने की सप्लाई कर चुका है।

उत्तर कोरिया के स्वतंत्रता दिवस के मौके पर...

और जब 2004 में भारत में सुनामी आई थी तो उत्तर कोरिया ने 30,000 डॉलर की मदद की थी। हालांकि इस बात को 20 साल हो गए जब भारत ने अपने किसी मंत्री को उत्तर कोरिया भेजा हो। वहीं उत्तर कोरिया के वरिष्ठ नेता सालों से भारत आते रहे हैं। अप्रैल 2015 में उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री भारत आए थे और अपने भारतीय समकक्ष से मिलकर मानवीय सहायता की मांग की थी। वहीं 2016 में एक भारतीय मंत्री उत्तर कोरिया के स्वतंत्रता दिवस के मौके पर उत्तर कोरिया के दूतावास गए थे।

शायद ये पहला मौका था जब उत्तर कोरिया के किसी आधिकारिक समारोह में भारत सरकार का कोई मंत्री शामिल हुआ था। उस वक्त भारतीय मंत्री किरन रिजीजू ने कहा था कि व्यापार और वाणिज्य पर आधारित दोनों देशों के संबंधों लंबे चलेगेंय़

उत्तर कोरिया का मिसाइल कार्यक्रम

2013 में चीन और दक्षिण कोरिया के बाद भारत उत्तर कोरिया का तीसरा सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार था। भारत उत्तर कोरिया को मुख्य रूप से औद्योगिक रसायन, कच्चा तेल और कृषि उत्पाद निर्यात करता था। जबकि उत्तर कोरिया भारत को सूखे और तले मेवे, नैचरल गम और आसाफोटिडा निर्यात करता था। 2014 में दोनों देशों के बीच होने वाला 200 मीलियन डॉलर से ज्यादा का व्यापार घटकर 130 मीलियन डॉलर रह गया। लेकिन 2017 में उत्तर कोरिया के मिसाइल कार्यक्रम को लेकर जब संयुक्त राष्ट्र ने उत्तर कोरिया पर प्रतिबंध लगाए तो भारत ने उसके साथ होने वाले व्यापार पर लगभग पूरी तरह से रोक लगा दी।

'पुराने संबंध'

पूर्वी एशिया में भारत के दखल पर नजर रखने वाले प्रशांत कुमार सिंह ने बीबीसी को बताया, "भारत उन गिने-चुने देशों में से एक है जिसके साथ उत्तर कोरिया ने राजनयिक संबंध बनाए रखे। उत्तर कोरिया के लिए भारत दुनिया तक पहुंचने का अहम रास्ता है। दोनों देशों के बीच लंबे समय तक संबंध रहे हैं।" पिछले साल जब पूर्व अमरीकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने भारत को प्योंगयांग में अपनी राजनयिक मौजूदगी घटाने की सलाह दी तो भारत ने इसे मानने से इनकार कर दिया। तब भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने टिलरसन को कहा था, "आपके कुछ मित्र देशों के दूतावास उत्तर कोरिया में बने रहने चाहिए ताकि बातचीत के कुछ रास्ते खुले रह सकें।" भारतीय सरकार ने बताया है कि उत्तर कोरिया ने वीके सिंह को कोरियाई प्रायद्वीप में हाल की घटनाओं की जानकारी दी।

भारत का क्या रोल हो सकता है

साथ ही वीके सिंह ने भी कोरिया में शांति कायम करने की कोशिशों को भारत सहयोग होने की बात दोहराई है। तो क्या वीके सिंह के दौरे का किम जोंग उन और डोनल्ड ट्रंप की आगामी मुलाकात से भी कोई लेना देना है? इस सवाल के जवाब पर प्रशांत कुमार सिंह कहते हैं, "हम इस बात का सिर्फ अंदाजा ही लगा सकते हैं। ट्रंप कभी भी अपनी शिखर वार्ता को खतरे में नहीं डालना चाहेंगे। हो सकता है कि अमेरीका के लोग इस शिखर वार्ता को रद्द होने से बचाने के लिए भारत का कुछ सहयोग चाहते हों।" 

भारत यहां एक छोटा प्लेयर जरूर है लेकिन कोरियाई प्रायद्वीप की समस्याओं में वो कोई पार्टी नहीं है। बल्कि उसके उत्तर कोरिया से अच्छे संबंध है। जब एक अलग-थलग देश से बातचीत की बात आती है तो एक छोटा-मोटा दोस्त भी मदद कर सकता है।

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

500 में से 499 अंक पाकर टॉप करने वाली मेघना का यह है सफलता का मंत्र 

सीबीएसई 12वीं के नतीजे आ गए हैं। जिसमें इस बार भी लड़कियां लड़कों से आगे रही हैं। इस बार 12वीं में मेघना श्रीवास्तव ने टॉप किया है। मेघाना ने 500 में से 499 नंबर हासिल किए हैं।

26 मई 2018

Related Videos

पीएम मोदी ने पेश किया अपना रिपोर्ट कार्ड, बताया क्यों एक मंच पर आए विरोधी

पीएम नरेंद्र मोदी शनिवार को ओडिशा के कटक में थे। यहां उन्होंने एक जनसभा को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि न हम कड़े फैसले लेने से डरते हैं न हीं बड़े फैसले लेने से चूकते हैं। खुद सुनिए क्या बोले पीएम नरेंद्र मोदी।

27 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen