विज्ञापन

कानों देखी: योगी जी और 2019, प्रियंका संभालेंगी जिम्मेदारी

शशिधर पाठक, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 27 Aug 2018 09:51 PM IST
प्रियंका गांधी वाड्रा
प्रियंका गांधी वाड्रा
ख़बर सुनें
योगी जी और 2019 
विज्ञापन
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार कदम उठा रहे हैं। वहीं भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व और संघ दोनों राज्य के हालात से खुश नहीं है। पार्टी के अंदरुनी सूत्रों का मानना है कि यही हाल रहा तो लोकसभा चुनाव में नुकसान बड़ा हो सकता है। लेकिन योगी की कुछ अपनी समस्याएं हैं। राज्य के मंत्रियों के सुर भी अपने हिसाब से चल रहे हैं।

दूसरे योगी ने साफ कर दिया है कि वह तो योगी संन्यासी हैं। उनका रुपये-पैसे से क्या लेना-देना। इसलिए वह सबकुछ कर सकते हैं, लेकिन पार्टी के अन्य संसाधनों का इंतजाम उनसे संभव नहीं है। बताते हैं कि इसके लिए भी बीच का रास्ता निकाला जा रहा है।

केंद्र सरकार चाहती है कि भाजपा शासित सभी राज्य अपने यहां सरकारी पदों समेत अन्य पर भर्ती प्रक्रिया तेजी से शुरू करें। केंद्र सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं का जमीनी स्तर पर प्रचार प्रसार हो। इस मामले में योगी सरकार लगातार सक्रिय है, लेकिन इन सबके बावजूद वह पार्टी कार्यकर्ताओं और संघ के लोगों को खुश नहीं कर पा रहे हैं। 

मैं थारे से दूर कब था?

राजस्थान राजनीतिक रूप से तिलिस्मी राज्य बन रहा है। सरकारी अधिकारी भी मानने लगे हैं कि स्विंग स्टेट में चुनाव बाद वसुंधरा की सरकार आनी मुश्किल है। जनता वसुंधरा से नाराज है और सरकार विरोधी लहर है। भाजपा भी मजबूरी में वसुंधरा के चेहरे को आगे रखकर चुनाव अभियान का आगाज कर चुकी है। वसुंधरा की निगाह चेहरा घोषित होने के बाद भाजपा के राज्य स्तरीय संगठन, उसके कामकाज, टिकट बंटवारे पर पूरा हस्तक्षेप बनाए रखने की है।

इसको लेकर अंदरूनी टसल का दूसरा भाग जारी हैं। इसके सामानांतर कांग्रेस ने सचिन पायलट को राज्य का प्रदेश अध्यक्ष बनाया है। वह खुद को अपना चेहरा पेश करके चल रहे हैं। लेकिन सचिन पायलट की लोकप्रियता अशोक गहलोत के मुकाबले कम है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सीपी जोशी समेत अन्य नेताओं को मिशन राजस्थान के लिए फ्री कर दिया है।

कांग्रेस अध्यक्ष चाहते हैं कि अशोक गहलोत राज्य में कांग्रेस की सत्ता में वापसी के लिए हर स्तर पर अपना सहयोग दें, लेकिन खुद को केंद्रीय राजनीति के लिए ठीक समझें। वहीं जब राजस्थान में कोई गहलोत से पार्टी के भावी मुख्यमंत्री के चेहरे के पूछता है तो कह देते हैं कि मैं थारे से दूर कब था? 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

रॉ के पूर्व सचिव आलोक जोशी रह गए...

विज्ञापन

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

ऐसी जिंदगी जीने को क्यों मजबूर हैं लड़कियां? भारत में क्यों हैं औरतों की ये स्थिति?

girls safety in india देश-दुनिया में महिलाओं के सम्मान और अधिकार के नाम पर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाने और महिला सशक्तिकरण की सारी बातें महिलाओं की सुरक्षा के आगे जाकर फेल हो जाती हैं।

19 मार्च 2019

विज्ञापन

कच्चे केले के सेवन से ठीक हो सकती हैं ये पांच बीमारियां

पके हुए केले को तो लोग खूब चाव से खाते हैं, लेकिन कच्चे केले का इस्तेमाल सिर्फ सब्जी बनाने में ही किया जाता है। लेकिन आज हम आपको कच्चे केले के ऐसे 5 फायदे बताएंगे जिसे जानने के बाद आप पके केले के साथ-साथ कच्चा केला भी खाने लगेंगे।

24 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election