गुजरात चुनावः अल्पेश और नरेश पटेल बने गुजरात के किंग मेकर

संजय मिश्र/ नई दिल्ली Updated Fri, 06 Oct 2017 06:24 PM IST
Gujarat Election: Alpesh thakur and Naresh Patel will play the King Maker
डेमो इमेज
गुजरात विधानसभा चुनाव की जंग बेशक देश के दो प्रमुख दलों भाजपा और कांग्रेस के बीच है। मगर खोडलधाम के चेयरमैन नरेश पटेल और पिछडों के मसीहा बनकर उभरे अल्पेश ठाकुर सूबे के दो सामाजिक चेहरे चुनाव परिणाम की धुरी बन गए हैं। दोनों ही दल इन चेहरों को अपने पाले में करने के लिए हर दांव चल रहे हैं। लेकिन दोनों ही चेहरों ने खुले तौर पर अभी किसी दल के साथ जाने के संकेत नहीं दिए हैं। इसलिए गुजरात विधानसभा का चुनाव रोचक बन गया है। 

माना जा रहा है कि जिस किसी एक दल के पक्ष में ये दोनों चेहरे साथ खड़े हो गए तो विधानसभा चुनाव में उसकी जीत तय है। ‌बताया जा रहा है कि इन चेहरों को साधने की कवायद में परदे के पीछे से मोलभाव का सियासी खेल जारी है। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही सियासी दल नरेश और अल्पेश पर डोरे डाल रही हैं। 

राहुल के बाद नरेश पटेल से मिले रूपानी
गुजरात चुनाव की धुरी बन चुके नरेश पटेल को साधने की कवायद में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बीते दिनों संपन्न प्रदेश की चुनावी यात्रा के दौरान उनसे मुलाकात की थी। कांग्रेस का प्रयास है कि नरेश पटेल गुजरात चुनाव में उनके उम्मीदवारों के पक्ष में प्रदेश की जनता के सामने अपील जारी कर दें। 

मगर राहुल की नरेश पटेल से मुलाकात के चंद दिन बाद ही प्रदेश के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने पटेल से मुलाकात कर कांग्रेस के अरमानों पर ग्रहण लगा दिया है। अब खुद नरेश पटेल असमंजस में हैं। नरेश की सौराष्ट्र के पटेल समुदाय पर अच्छी पकड़ मानी जा रही है। तो दूसरी ओर अल्पेश को साधने के लिए भाजपा आलाकमान ने सूबे के एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी को मोर्चे पर लगा रखा है। 

पीएम मोदी के खास अधिकारी रहे कैलाश नाथन भी अल्पेश पर जोर आजमाइश कर चुके हैं। लेकिन अभी तक उन्हें कामयाबी नहीं मिल पाई है। उल्टे अल्पेश ने दिल्ली आकर कांग्रेस महासचिव अहमद पटेल से मुलाकात भाजपा रणनीतिकारों को चौंका दिया है।

सूत्र बताते हैं कि तीन दिन पहले दिल्ली पहुंचकर अल्पेश ने अहमद पटेल से मुलाकात कर उनसे विधानसभा चुनाव की रणनीति पर चर्चा की है। बावजूद उसके अल्पेश ने कांग्रेस के साथ जाने का सार्वजनिक ऐलान अभी नहीं किया है। जबकि सूबे के विभिन्न आंदोलन से निकले हार्दिक पटेल और जिगनेश मवानी जैसे चेहरों ने भाजपा विरोध की नीति को आगे कर अपने मंसूबे पहले ही स्पष्ट कर दिए हैं। 

हार्दिक पटेल गुजरात में पटेल आरक्षण की मांग को लेकर हुए आंदोलन से चमके हैं। तो जिगनेश मवानी उना में दलितों के विरुद्ध हुई घटना के बाद से दलित मसीहा बनकर उभरे हैं। मवानी और जिगनेश ने गुजरात में भाजपा को हराने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाया हुआ है। लेकिन नरेश पटेल और अल्पेश ठाकुर ने अपने पत्ते खोले बिना दोनों ही दलों के साथ अपने लिए भविष्य के अवसर खोले रखे हैं।
आगे पढ़ें

भाजपा-कांग्रेस के लिए क्यों जरूरी हैं नरेश और अल्पेश 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

कमजोर मिट जाते हैं, शक्तिशाली जिंदा रहते हैं, ताकतवर के साथ ही होता है गठबंधनः नेतन्याहू

इजरायल के प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू छह दिवसीय दौरे पर भारत पहुंचे हुए हैं। दिल्ली में रायसीना वार्ता में उन्होंने अपने देश के ताकतवर होने के पीछे का राज बताया है।

16 जनवरी 2018

Related Videos

सरकार ने खत्म की हज यात्रा पर सब्सिडी, अब यहां खर्च होगा पैसा

केंद्र सरकार ने हज यात्रियों को दी जाने वाली सब्सिडी को पूरी तरह से खत्म कर दिया है। इसका सीधा-सीधा असर देश के 1 लाख 75 हजार हज यात्रियों पर पड़ेगा। सरकार ने ये कहा है कि सब्सिडी के पैसों को बच्चों की पढ़ाई में लगाया जाएगा। देखिए पूरी रिपोर्ट।

16 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper