चुनाव आयोग ने नहीं छोड़ी ईवीएम में टोटलाइजर की मांग

ब्यूरो/ अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Sat, 25 Feb 2017 06:36 AM IST
भारतीय निर्वाचन आयोग
भारतीय निर्वाचन आयोग
विज्ञापन
ख़बर सुनें
केंद्र सरकार भले ही इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन में टोटलाइजर उपकरण लगाने की चुनाव आयोग की मांग को खारिज कर चुकी है मगर चुनाव आयोग ने अपनी इस पुरानी मांग को छोड़ा नहीं है। केंद्र को भेजी मांग में चुनाव आयोग ने दलील दी है कि एक-एक ईवीएम मशीन के जरिये गिनती करने से गोपनीयता नहीं रहती है। 
विज्ञापन


चुनाव आयोग ने माना है कि पोलिंग स्टेशन वार मतगणना होने की स्थिति में ऐसी स्थिति आ जाती है कि कई क्षेत्रों और पॉकेट में वोटिंग पैटर्न सबको पता लग जाता है, जिससे उस क्षेत्र के मतदाताओं को डराया-धमकाया जा सकता है।


वहीं केंद्र का मानना है कि इस मशीन के इस्तेमाल से सभी पोलिंग स्टेशनों के आंकड़े एकत्र हो जाने के बाद यह पता चलना कठिन हो जाएगा कि किस बूथ से किस पार्टी या प्रत्याशी को कितने वोट मिले।

आयोग ने कंडक्ट ऑफ इलेक्शन रूल्स, 1961 में संशोधन की मांग की है

केंद्रीय चुनाव आयुक्त डॉ. नसीम जैदी
केंद्रीय चुनाव आयुक्त डॉ. नसीम जैदी
आयोग ने इसके लिए कंडक्ट ऑफ इलेक्शन रूल्स, 1961 में संशोधन की मांग की है। मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने केंद्र सरकार को भेजे प्रस्तावों की सूची में इस मांग को प्रमुखता से शामिल किया है। चुनाव आयोग का कहना है कि ईवीएम टोटलाइजर मशीन एक साथ 14 ईवीएम में पड़े वोटों की गिनती कर सकती है। टोटलाइजर मशीन को ईवीएम में केबल के जरिये जोड़ा जाता है।

आयोग का कहना है कि टोटलाइजर के इस्तेमाल से ईवीएम में पड़े वोटों की गोपनीयता बनी रहती है। चुनाव आयोग की यह मांग जनवरी, 2013 में भी कानून आयोग के पास गई थी। उसके बाद कानून आयोग ने मार्च, 2015 में भेजी रिपोर्ट में चुनाव आयोग के इस प्रस्ताव का समर्थन किया था। 

चुनाव आयोग के सूत्रों का कहना है कि इस टोटलाइजर मशीन का प्रदर्शन राजनीतिक दलों के सामने भी किया जा चुका है। उस समय कांग्रेस, बसपा, एनसीपी ने इसका खुला समर्थन किया था। वहीं भाजपा और माकपा ने सैद्घांतिक रूप से इस पर सहमति जताई थी और साथ ही यह भी कहा था कि इसके इस्तेमाल को लेकर पूरी सतर्कता बरती जाए। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00