बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

अहम दिन: भारत-चीन कोर कमांडर के बीच 11वें दौर की बातचीत आज चुशूल में, उठेंगे ये मुद्दे

अमर उजाला ब्यूरो, नई दिल्ली Published by: Amit Mandal Updated Fri, 09 Apr 2021 04:21 AM IST
विज्ञापन
India China Talk
India China Talk - फोटो : PTI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
भारत और चीन के कोर कमांडर स्तर की 11वें दौर की बातचीत आज पूर्वी लद्दाख के चुशुल में हो रही है। सुबह 10.30 शुरू होने वाली इस वार्ता में एजेंडे के तहत गोगरा और हॉट स्प्रिंग से दोनों सेनाओं के पीछे हटने और डेपसांग के जुड़े जटिल मुद्दे पर फैसले लिए जाएंगे। इससे पहले 20 फरवरी को हुए 10वें दौर की बातचीत में इन मुद्दों पर विस्तार से चर्चा हुई थी। इसके साथ ही पेंगौंग झील से पीछे हटने के बाद की प्रक्रिया के अनसुलझे मसलों पर भी दोनों पक्ष अपनी बात रखेंगे। भारत और चीन की सेना इस बात को लेकर काफी सतर्क है कि किसी नाजुक मसले पर माहौल ना बिगड़े।
विज्ञापन


सेना सूत्रों के मुताबिक पेगौंग से दोनों सेना आमने सामने की स्थिति में तो नहीं है लेकिन एक दूसरे की फायरिंग रेंज में अभी भी हैं। तापमान बढ़ने और बर्फ पिघटने के बाद कई संवेदनशील जगहों पर दोनों सेनाएं ऐसी स्थिति में होंगी जहां मामला तनावपूर्ण हो सकता है। आज की बातचीत में गर्मी में दोनों सेनाओं के आपसी तालमेल पर भी अहम फैसले लिए जा सकते हैं। सूत्रों ने बताया कि इस बातचीत में दोनों सेनाओं के अप्रैल 2020 की स्थिति में वापस लौटने के मुद्दे पर सकारात्मक नतीजे निकलने की उम्मीद है। उधर, इस मकसद के लिए वर्किंग मैकेनेजिम फॉर कनसल्टेशन एंड कोऑर्डिनेशन (डब्लूएमसीसी) और विशेष प्रतिनिधि स्तर पर भी विचारों का आदान-प्रदान हो रहा है।


पूर्वी लद्दाख में पुरानी स्थिति बहाल करने के भारतीय प्रस्ताव पर वार्ता को तैयार चीन
वहीं, चीन ने बृहस्पतिवार को कहा कि दोनों देशों के बीच अगली बैठक में पूर्वी लद्दाख में अप्रैल, 2020 से पहले की स्थिति बहाल करने के भारतीय प्रस्ताव पर चर्चा की जाएगी। पड़ोसी देश का यह सकारात्मक रुख 11वें दौर की कोर कमांडर स्तरीय वार्ता से पहले सामने आया है।  हालांकि चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने बीजिंग में अभी तक इस वार्ता की तारीख तय नहीं होने की बात कही, लेकिन नई दिल्ली में भारतीय सैन्य सूत्रों ने कोर कमांडर स्तर की बातचीत का 11वां दौर शुक्रवार को पूर्वी लद्दाख के चुशूल में शुरू होने की पुष्टि की है।

भारत-चीन बॉर्डर: चीनी सेना ने पूर्वी लद्दाख में शांति को सराहा, बाकी जगह से सेना हटाने पर साधी चुप्पी 

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने मीडिया से कहा कि 11वें दौर की वार्ता को लेकर भारत और चीन में बातचीत चल रही है। जहां तक आगामी वार्ता के लिए किसी खास तारीख के तय होने की बात है तो इसकी मुझे जानकारी नहीं है। लेकिन भारतीय सैन्य सूत्रों ने बताया कि चुशूल में वार्ता सुबह 10.30 बजे शुरू होगी और इसके एजेंडे में गोगरा व हॉट स्प्रिंग से दोनों सेनाओं के पीछे हटने और डेपसांग के पठारी मैदान से जुड़े जटिल विवाद पर सहमति बनाने को शामिल किया गया है। साथ ही दोनों पक्ष वार्ता के दौरान पेंगोंग झील से पीछे हटने के बाद की प्रक्रिया के अनसुलझे मसलों पर भी अपनी बात रखेंगे। सूत्रों ने बताया कि इस बातचीत में दोनों सेनाओं के अप्रैल, 2020 से पूर्व की स्थिति में वापस लौटने के मुद्दे पर भी सकारात्मक नतीजे निकलने की उम्मीद है। इस मकसद के लिए वर्किंग मैकेनेजिम फॉर कनसल्टेशन एंड कोऑर्डिनेशन (डब्लूएमसीसी) और विशेष प्रतिनिधि स्तर पर भी विचारों का आदान प्रदान हो रहा है।

इससे पहले 20 फरवरी को पेंगोंग क्षेत्र से सेनाओं के पीछे हटने की प्रक्रिया पूरी होने के बाद कोर कमांडर स्तर की 10वें दौर की बातचीत हुई थी। उस वार्ता में भी इन मुद्दों पर विस्तार से चर्चा हुई थी। दोनों देशों के बीच सैन्य विवाद को लेकर हाल ही में हुई राजनयिक स्तर की वार्ता में भी इन मुद्दों पर बात की गई थी। 

आपसी माहौल को बिगड़ने से बचाने के लिए सतर्क हैं दोनों सेनाएं
भारत और चीन की सेना इस बात को लेकर काफी सतर्क है कि किसी भी नाजुक मसले पर आपसी माहौल नहीं बिगड़ना चाहिए। सेना सूत्रों के मुताबिक पेंगोंग झील के इलाके में अब दोनों सेनाएं आमने-सामने टकराव की स्थिति में नहीं होने के बावजूद एक-दूसरे की फायरिंग रेंज में मौजूद हैं। तापमान बढ़ने और बर्फ पिघलने के बाद कई संवेदनशील जगहों पर दोनों सेनाएं ऐसी स्थिति में होंगी, जहां मामला तनावपूर्ण हो सकता है। ऐसे में 11वें दौर की बातचीत के दौरान गर्मी में दोनों सेनाओं के आपसी तालमेल पर भी अहम फैसले लिए जा सकते हैं। 

बातचीत के अगले दौर में नहीं हो रही देरी : चीन
बीजिंग में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने यह भी कहा कि भारत के साथ पूर्वी लद्दाख में आपसी टकराव वाले अन्य इलाकों से सेना पीछे हटाने के मुद्दे पर बातचीत करने में किसी तरह की देरी नहीं की जा रही है। उन्होंने सेनाओं के पीछे हटने की शुरुआत को दो महीने होने और 10वें दौर की वार्ता को एक माह बीतने की तरफ ध्यान दिलाए जाने पर यह बात कही। प्रवक्ता ने कहा, बैठक में जैसा आप कह रहे हैं, ऐसी कोई देरी नहीं है। मैं जोर देकर कहना चाहता हूं कि भारत-चीन सीमा पर हालात स्पष्ट हैं और चीनी पक्ष की तरफ कोई भी जिम्मेदारी शेष नहीं है। हमें आशा है कि भारतीय पक्ष दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच बनी आम सहमति के पालन पर चीन के साथ मिलकर काम करेगा। यह सहमति सीमा पर तनाव को खत्म करने से संबंधित समझौतों और संधियों को पूरा करने से जुड़ी है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X