विज्ञापन
विज्ञापन

अमेरिका को क्यों नहीं सुहाता भारत-रूस संबंध : यह परमाणु पनडुब्बी 2025 में नौसेना में शामिल हो जाएगी

योगेश जोशी Updated Fri, 05 Jul 2019 01:13 AM IST
पुतिन-मोदी
पुतिन-मोदी - फोटो : a
ख़बर सुनें
मार्च, 2019 में भारत ने अकुला वर्ग की परमाणु पनडुब्बी (एसएसएन) पट्टे पर लेने के लिए रूस के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किया। यह परमाणु पनडुब्बी 2025 में भारतीय नौसेना में शामिल हो जाएगी। इससे पहले भारत ने 2012 में मॉस्को से अकुला वर्ग की परमाणु पनडुब्बी एसएसबीएन पट्टे पर ली थी। भारतीय बेड़े में चक्र के नाम से यह पनडुब्बी संभवतः 2025 तक भारतीय नौसेना में नई अकुला पनडुब्बी के चालू होने तक सेवा में रहेगी।
विज्ञापन
इस समझौते के बाद मॉस्को के साथ नई दिल्ली के रक्षा संबंधों को लेकर वाशिंगटन ने गंभीर चिंता व्यक्त की है। शीतयुद्ध के दौरान भारत और अमेरिका के रिश्ते अच्छे नहीं रहे, लेकिन पिछले पच्चीस वर्षों में दोनों देशों के रिश्ते काफी मजबूत हुए हैं। वाशिंगटन ने भारत के रक्षा बाजार में महत्वपूर्ण पैठ बनाई है, जो कभी रूसी रक्षा उद्योग के लिए ही विशिष्ट रूप से संरक्षित था। बाजार की प्रतिस्पर्धा के बावजूद वाशिंगटन और मॉस्को के बीच बढ़ते तनाव ने नई दिल्ली को हाशिये पर डाल दिया है।

एक तरफ जहां वाशिंगटन ने प्रतिबंधों के माध्यम से रूस को दंडित करने का प्रयास किया है, वहीं मॉस्को के साथ भारत के रक्षा सौदे उसके लिए असहनीय हो गए हैं। अलबत्ता अमेरिका की नाराजगी भारत के निर्णय लेने की प्रक्रिया को मामूली रूप से ही प्रभावित करेगी।

वर्ष 1966 की शुरुआत में भारत के परमाणु ऊर्जा प्रतिष्ठान ने नौसैनिक परमाणु प्रक्षेपण से संबंधित एक संभाव्यता कार्यक्रम शुरू किया। होमी भाभा ने इस अपेक्षा के साथ इसकी शुरुआत की कि अमेरिकी परमाणु ऊर्जा आयोग समुद्री प्रक्षेपण को विकसित करने के लिए भारत की सहायता करेगा। भाभा के अनुरोध को हालांकि तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जॉनसन के विज्ञान और प्रौद्योगिकी कार्यालय ने मुख्य रूप से दूसरे देशों के साथ नौसेना रिएक्टर प्रौद्योगिकी साझा न करने की एडमिरल रिकोवर की नीति के कारण अस्वीकार कर दिया था।

Recommended

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय
Invertis university

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

Howdy Modi Event: इस बड़ी वजह से अमेरिका में हाउडी मोदी रैली में शामिल होंगे ट्रंप

इंडियन अमेरिकन द्वारा आयोजित कार्यक्रम हाउडी मोदी की इस समय जोरदार चर्चा है। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ह्यूस्टन में आयोजित होने वाल रैली ‘हाउडी मोदी’ मे

21 सितंबर 2019

विज्ञापन

रानू के बाद मोहम्मद रफी की आवाज में बुजुर्ग का गाना वायरल

स्वर कोकिला लता मंगेशकर का गाना गाकर रानू मंडल आज मशहूर हो गई हैं। अब बारी है मोहम्मद रफी की। सोशल मीडिया पर दो बुजुर्गों के वीडियो वायरल हो रहे हैं जिसमें वो मोहम्मद रफी की तरह गाना गा रहे हैं।

21 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree