विज्ञापन
विज्ञापन

पेन मसाला

नई दिल्ली Updated Mon, 28 Jan 2013 09:55 AM IST
penn masala
ख़बर सुनें
पिछले दिनों अमेरिका से भारत आया म्यूजिक बैंड पेन मसाला सुर्खियों में है। पेनसिलवेनिया यूनिवर्सिटी के छात्रों द्वारा तैयार इस बैंड की खासियत है, इसके संगीत की शैली। गाने के संगीत के लिए यह बैंड किसी वाद्य यंत्र का सहारा नहीं लेता, बल्कि अपने कंठ से ही विभिन्न वाद्य यंत्रों की ध्वनि निकालता है।
विज्ञापन
यह दुनिया का पहला एकैपेला (बिना किसी वाद्य यंत्र के गले से संगीत की प्रस्तुति) बैंड है, जो हिंदी में गीत गाता है। इस बैंड की शुरुआत 1996 में पेनसिलवानिया यूनिवर्सिटी के चार दोस्तों ने मिलकर की थी।

उन लोगों का उद्देश्य था कि हिंदुस्तानी संगीत के विभिन्न रूपों को पश्चिमी संगीत के साथ मिलाकर एक बैंड की शुरुआत की जाए। इसी सोच के साथ पेन-मसाला म्यूजिक बैंड की शुरुआत हुई। अब तक इस बैंड के सात अलबम निकल चुके हैं। दिलचस्प है कि पेनसिलवानिया यूनिवर्सिटी के नाम पर ही इसका नाम रखा गया है।

इस बैंड की खास बात यह है कि इसके किसी भी सदस्य ने संगीत की औपचारिक शिक्षा नहीं ली है। पढ़ाई के बीच में ही समय निकालकर वे रियाज करते हैं। कुछ समय पहले इस बैंड ने संगीतकार ए आर रहमान और गायिका सुनिधि चौहान के साथ भी काम किया और बॉलीवुड की फिल्मों में काम करने की इच्छा जताई।

अमेरिका, ब्रिटेन, भारत सहित दुनिया के कई देशों में अपना कार्यक्रम पेश कर चुके इस बैंड में कोई लड़की नहीं है। जैसे ही कोई सदस्य पेनसिलवानिया यूनिवर्सिटी की डिग्री पा लेता है, तो उसे हटाकर यूनिवर्सिटी के नए छात्र को बैंड में शामिल किया जाता है। बराक ओबामा, बान की मून, सचिन तेंदुलकर, फारूक अब्दुल्ला और मुकेश अंबानी जैसे लोग इस बैंड के प्रशंसकों में शामिल हैं।
विज्ञापन

Recommended

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश
Dholpur fresh

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

नए भारत के निर्माण में आखिर क्यों पीछे छूट रहे हैं बच्चे?

सत्यार्थी ने 2014 में ओस्लो में जब इस पुरस्कार को ग्रहण किया, तब उन्होंने अपने भाषण में इस बात पर विशेष रूप से जोर दिया  हरेक बच्चा मायने रखता है, वहीं दूसरी ओर हरेक बचपन भी मायने रखता है।

10 दिसंबर 2019

विज्ञापन

माइक्रोनेशिया के यप द्वीप में आज भी चलते हैं पत्थर के सिक्के !

दुनिया में Yap एक ऐसी जगह है जहां Rai Stone Money चलती है। Micronesia Island की ये जगह पुरानी मानी जाती है।

10 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election