विज्ञापन

संकट में पाकिस्तानी मीडिया

मरिआना बाबर Updated Thu, 14 Feb 2019 06:33 PM IST
मीडिया
मीडिया
ख़बर सुनें
प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक, दोनों मीडिया ने दुनिया को इससे पहले शायद ही कभी हिलाया होगा। मीडिया की ताकत का प्रभाव कभी ऐसा नहीं था, जैसा कि इन दिनों देखा जा रहा है। यही कारण है कि दुनिया भर की राजधानियों में सरकारें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को दबाने की कोशिश कर रही हैं। इस हफ्ते इस्लामाबाद में एक टीवी एंकर को उनके घर से गिरफ्तार किया गया और हथकड़ी लगाकर ले जाया गया। उनका गुनाह यही था कि उन्होंने कथित तौर पर मीडिया के कुछ नियमों का उल्लंघन किया था। बाद में पत्रकारों के व्यापक हंगामे और सोशल मीडिया पर अभियान के बाद सरकार दबाव में आई और फिर उन्हें छोड़ दिया गया।
विज्ञापन
विज्ञापन
पाकिस्तान में सुरक्षा, नफरत और राष्ट्रीय हित के नाम पर बने कुछ कानून दोधारी तलवार हैं, क्योंकि सुरक्षा एवं राष्ट्रीय हित के नाम पर उनकी व्याख्या सरकार द्वारा किसी भी तरह से मीडिया के खिलाफ की जा सकती है। पाकिस्तान में मीडिया का गला घोंटने की कोशिश 2017 में ही की गई थी, लेकिन तब पत्रकारों एवं नागरिक समूह के सदस्यों ने पलटवार किया था। इसलिए पिछले वर्ष सत्ता में आने के बाद जब पाकिस्तान तहरीक-ए इंसाफ (पीटीआई) सरकार ने एक बार फिर मीडिया का दमन करने की कोशिश की, तो लोगों को हैरानी हुई। इस कदम का समर्थन करने के लिए कोई भी आगे नहीं आया, इसलिए सरकार अब नए कानून लाने की कोशिश कर रही है। बदलाव के लिए मीडिया एकजुट हो गया है और सभी अखबारों के मालिकों, संपादकों और पत्रकारों ने सरकार के प्रयास को खारिज कर दिया है और सरकार को सभी हितधारकों से परामर्श लेने के लिए कहा है। जब नवाज शरीफ ने इन मीडिया कानूनों को लाने की कोशिश की थी, तो उनका काफी विरोध हुआ था, लेकिन वह रुके नहीं और आज मीडिया को बेहद खतरा महसूस हो रहा है।

यहां के वरिष्ठ पत्रकारों का हमेशा से यह विचार रहा है कि एक लोकतांत्रिक सरकार में मीडिया को स्व-नियामक होना चाहिए, लेकिन यहां की किसी भी सरकार के पास इसकी अनुमति देने के लिए पर्याप्त आत्मविश्वास नहीं रहा, क्योंकि वे मानती हैं कि उन्हें मीडिया पर नियंत्रण करने का हर अधिकार है। भयानक बर्बर अपराध के कारण सऊदी राजघराने द्वारा जमाल खशोगी की हत्या लगातार सुर्खियों में है। इस तरह तड़पाकर मारे जाने के बारे में किसी ने कभी सुना नहीं होगा, निहत्थे पत्रकार को तो निश्चित रूप से नहीं। जहां समाज ने एक महान पत्रकार को खो दिया, वहीं उनके हत्यारे खुलेआम घूम रहे हैं।

सेंटर फॉर लॉ ऐंड डेमोक्रेसी के कार्यकारी निदेशक टोबी मेंडल ने प्रस्तावित पाकिस्तानी कानून की आलोचनात्मक प्रशंसा की, तो पाकिस्तान मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी ने कहा कि अगर पाकिस्तान मीडिया के लिए अपनी नियामक प्रणाली में सुधार करने जा रही है, तो उसे इस प्रणाली की महत्वपूर्ण खामियों को दूर करना चाहिए, जैसे अखबारों के लिए लाइसेंस की आवश्यकता। यह सुनिश्चित करने के लिए एक मजबूत प्रतिबद्धता दिखाई जानी चाहिए कि कोई भी नियामक निकाय सरकारी दबाव से स्वतंत्र है, साथ ही साथ मीडिया क्षेत्र स्वयं को विनियमित करने के लिए जिम्मेदार है। उन्होंने यह भी सलाह दी कि संहिता को कानून में ही निर्धारित नहीं किया जाना चाहिए, बल्कि उसे मीडिया के खिलाड़ियों और अन्य इच्छुक हितसाधकों के साथ गहन परामर्श कर पर्यवेक्षण निकाय पर विकसित करने के लिए छोड़ देना चाहिए। कम से कम प्रिंट मीडिया के लिए शिकायत के लिए संस्थागत संरचना को महत्वपूर्ण मीडिया भागीदारी के साथ एक सह-नियामक दृष्टिकोण प्रतिबिंबित करना चाहिए। महत्वपूर्ण यह भी है कि प्रिंट एवं ब्रॉडकास्ट मीडिया के लिए अलग-अलग संहिता बनाई जानी चाहिए और इस पर भी सावधानीपूर्वक विचार करना चाहिए कि डिजिटल मीडिया के मुद्दों को इससे कैसे निपटा जा सकता है।

पीटीआई सरकार ने प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को विज्ञापन देना बंद कर दिया, जिसने पाकिस्तानी मीडिया को बुरी तरह प्रभावित किया। टीवी से जहां कई एंकरों को हटा दिया गया, वहीं अंग्रेजी और उर्दू के अखबारों से पत्रकारों को निकाल दिया गया। वक्त टीवी तो पूरी तरह बंद हो गया और कई अन्य छोटे टीवी चैनल के बंद होने की आशंका है।

कई अखबारों ने पृष्ठों में कटौती की है, क्योंकि न्यूजप्रिंट आयातित और महंगे होते हैं। अंग्रेजी दैनिकों ने सभी कर्मचारियों के वेतन में 40 फीसदी की कटौती का आदेश दिया है, जबकि कई टीवी एंकरों ने नौकरी बचाने के लिए वेतन में कटौती स्वीकार कर ली है।
 
 अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त मानवाधिकार कार्यकर्ता आई ए रहमान कहते हैं कि अस्तित्व के लिए प्रगति और पुनर्प्राप्ति का रास्ता व्यापक लोकतंत्र, खुलापन, स्वतंत्र विमर्श और असंतुष्टों के प्रति अधिकतम सहिष्णुता में निहित है, न कि अधिनायकवाद, बंद शासन, विचारों पर नियंत्रण और असंतुष्टों के दमन में। दिवंगत अस्मा जहांगीर के साथ वह हमेशा पाकिस्तान में स्वतंत्र मीडिया और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पक्षधर रहे। केवल तानाशाही के वक्त ही नहीं, बल्कि लोकतांत्रिक सरकारों के दौरान भी हमेशा मीडिया का मजाक उड़ाया गया है।
 
आई ए रहमान पीटीआई सरकार द्वारा वर्तमान मीडिया कानूनों में संशोधन के प्रयासों के बारे में बताते हैं-प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और डिजिटल मीडिया को रोकने के लिए एक कानून के प्रस्ताव को मंजूरी देकर, संघीय कैबिनेट ने संसद को परीक्षा में डाल दिया है। क्या यह मीडिया पर पूर्ण कार्यकारी नियंत्रण की अनुमति देगी, या यह मीडिया और लोगों की सबसे बुनियादी स्वतंत्रता की रक्षा करेगी-जो लोकतांत्रिक व्यवस्था की स्थापना के लिए भी आवश्यक शर्तें हैं?
 
वे आगे तर्क देते हैं कि भारत-पाकिस्तान उपमहाद्वीप में प्रेस के दो शताब्दी पुराने इतिहास के दौरान, प्रकाशन के अधिकार को कभी भी अस्वीकार नहीं किया गया है। पत्रकारों को जेल में डाल दिया गया, प्रतिभूतियों की मांग की गई और उन्हें जब्त कर लिया गया, और प्रिंटिंग प्रेसों को सील कर दिया गया, लेकिन घोषणाओं के माध्यम से प्रकाशक, संपादक और प्रिंटर की पहचान करने के बाद प्रकाशन के अधिकार को कभी खत्म नहीं किया गया।

Recommended

जम्मू कश्मीर में 20 साल में सबसे बड़ा आतंकी हमला, विस्तृत कवरेज यहां पढ़ें
Pulwama Exclusive

जम्मू कश्मीर में 20 साल में सबसे बड़ा आतंकी हमला, विस्तृत कवरेज यहां पढ़ें

कब होंगे सपने पूरे और कब किस्मत को लेकर रहेगा मलाल, सितारे बताएंगे पूरे साल का हाल, जानें वार्षिक राशिफल जाने-माने ज्योतिषी से
ज्योतिष समाधान

कब होंगे सपने पूरे और कब किस्मत को लेकर रहेगा मलाल, सितारे बताएंगे पूरे साल का हाल, जानें वार्षिक राशिफल जाने-माने ज्योतिषी से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

जल्दबाजी की जरूरत नहीं

सरकार का इरादा एक संदेश देना, निडरता पैदा करना और राष्ट्रीय आत्मविश्वास का निर्माण करना होना चाहिए। इसका एक संदेश यह भी होना चाहिए कि ऐसी कार्रवाइयां भारत को प्रभावित नहीं कर सकती हैं।

15 फरवरी 2019

विज्ञापन

पुलवामा अटैक वीडियो: वो छेड़ेंगे हम तोड़ेंगे, न भूलेंगे न छोड़ेंगे

एक कायर आकर बम फोड़ गया देश को बिलखता छोड़ गया एक-एक आंसू, एक-एक कतरा कीमत उसे चुकानी होगी पाकिस्तानी आकाओं को देश की ताकत दिखानी होगी वो छेड़ेंगे हम तोड़ेंगे न भूलेंगे न छोड़ेंगे

15 फरवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree