विज्ञापन
विज्ञापन

वसंत का महाप्राण नायक

राजकिशोर Updated Wed, 05 Feb 2014 01:11 AM IST
Hero of Spring-Suryakant tripathi Nirala
ख़बर सुनें
वसंत पंचमी के साथ महाकवि निराला की याद वैसे ही जुड़ी हुई है, जैसे वे दोनों दो शरीर एक आत्मा हों। निराला ने ‘हिंदी के सुमनों’ को संबोधित करते हुए जो कविता लिखी है, उसमें अपने को ‘वसंत दूत’ ही कहा है। एक जमाने में वसंत पर मौसमी कविताएं लिखना आम था, पर इस विषय पर सबसे श्रेष्ठ गीत निराला ने ही लिखे हैं। उनके जीवन में अभाव ही अभाव रहे, पर उनकी आत्मा में वसंत की खुशबू रची-बसी रही। इसीलिए हिंदी जगत उन्हें ‘महाप्राण’ मानता है।
विज्ञापन
विज्ञापन
जिसके पास कोई रस नहीं होता, उसके पास अभाव रस होता है। हिंदी लेखकों में अभाव रस की लंबी परंपरा रही है। हिंदी के सबसे बड़े कवि तुलसीदास के जीवन में अभाव ही अभाव था। निराला भी जीवन भर अभाव रस से घिरे रहे। बाद में यह परंपरा मुक्तिबोध में प्रकट हुई। नागार्जुन और शमशेर बहादुर सिंह ने भी शिद्दत से जाना कि अभाव क्या होता है। भाव कभी-कभी आता है। आता है, तो जाता भी है। अभाव रस शाश्वत है। कहते हैं, हम सब का सिरजनहार भी अकेलेपन से ऊब गया था, तब उसने अपने कौतुक के लिए यह सृष्टि बनाई। तब से वह अपनी सृष्टि में रमा हुआ है। फिर भी क्या वह अभाव रस से मुक्त हो गया होगा? मुझे शक है। शक इसलिए है कि उसकी बनाई सृष्टि में प्रत्येक प्राणी अभाव रस से आप्लावित दिखाई देता है। जिसके पास सब कुछ है, वह भी प्रेम की खोज में लगा रहता है। अतः ईश्वर की खोज भी अधूरी ही होगी।

निराला का जन्म रविवार को हुआ था। इसी से उनका नाम सूर्यकांत पड़ा। लेकिन सूर्य के पास अपनी धधकन के अलावा और क्या है? हम सूर्य की पूजा करते हैं, क्योंकि वह जीवनदाता है। लेकिन सूर्य किसकी पूजा करे? कवियों के कवि निराला सूर्य की तरह ही जीवन भर धधकते रहे। बचपन में मां चली गईं, जवानी आते-आते पिता न रहे। धर्मपत्नी को प्लेग खा गया। बेटी का विवाह नहीं हो सका और अकालमृत्यु हुई। जीवन भर कभी इतने साधन नहीं हुए कि कल की चिंता न करनी पड़े। किसी प्रतिभाशाली और संवेदनशील लेखक के साथ इससे ज्यादा ट्रेजेडी और क्या हो सकती है? फिर भी, निराला प्रकृति और संस्कृति दोनों के अभिशापों को झेलते हुए अपनी सृजन यात्रा पर चलते रहे। यह आत्मिक शक्ति ही निराला जैसे लेखकों की विलक्षणता है। निराला ने ठीक ही कहा है, मैं बाहर से खाली कर दिया गया हूं, पर भीतर से भर दिया गया हूं। यह कोरा अनुप्रास नहीं था - निराला का यथार्थ था।

वेदना सिर्फ उन्हें ही तोड़ पाती है, जिनके पास व्यक्तित्व नहीं होता। निराला की जिस कमाई का हम अभिनंदन करते हैं, वह है, उनका व्यक्तित्व। अपने समय के लेखकों में सूर्यकांत ‘निराला’ में ही व्यक्तित्व दिखाई देता है। वह अक्खड़ थे, स्वाभिमानी थे और परदुखकातर भी थे। उन्हें मर जाना, या जीते जी मर जाना कुबूल था, पर किसी के सामने रिरियाना नहीं। ताप का यह तनाव उनकी रचनाओं में भी प्रगट होता है। हिंदी में वीर रस की रचनाएं उपलब्ध हैं, पर जिसे हम पॉजिटिव अर्थ में मर्दाना या पैरुषेय कह सकते हैं, वह निराला में जितना दिखाई देता है, उतना कहीं और नहीं।

वेदना वेदना को सब से ज्यादा पहचानती है। इसलिए गरीबी से निकला हुआ कवि मानव-द्रोही हो ही नहीं सकता। लेकिन उसके लेखन में सरसता के इंद्रधनुष नहीं उग पाते। गौर कीजिए, तुलसी, निराला और मुक्तिबोध में कितनी सरसता है या कितना मनोरंजन है। इन सभी में सुख और आनंद की सबसे ज्यादा छवियां निराला में ही मिलती हैं। क्योंकि वे एक पूर्ण व्यक्ति थे अथवा उनकी साधना पूर्ण व्यक्ति बनने की थी। इसीलिए निराला ने वह तोड़ती पत्थर और कुकुरमुत्ता जैसी रचनाएं कीं, तो जुही की कली जैसी कविताएं और बांधो न नाव इस ठांव, बंधु जैसे गीत भी लिखे। लेकिन उनमें शृंगार रस की सीमा है, करुण और वीर रस की अधिकता है। वास्तव में, इन्हीं दोनों से उनके व्यक्तित्व में अद्भुत निखार आया है। देखा जाए, तो शृंगार, वीर और करुण रस ही जीवन का सशक्त त्रिभुज है।

निराला ने दो ही लंबी कविताएं लिखीं, तुलसीदास और राम की शक्तिपूजा। इन दोनों की जीवन कथा से निराला का एकात्म्य बहुत सहज था। तुलसीदास महाकवि थे, पर उनके जीवन में विषाद ही विषाद था। उनके जीवन में भक्ति रस की गंगा न बहती होती, तो वह भी पागल हो गए होते। निराला ने राम के जीवन का वह क्षण पकड़ा, जब वह हर तरह से असहाय और शक्ति की पूजा पर बैठे थे। निराला की साहित्य साधना के दूसरे सभी पहलुओं की चर्चा होती है, पर उनकी भक्ति भावना की नहीं। दरअसल, यह भावना ही उनके जीवन का आधार थी। लेकिन यह खाए-पिए-अघाए की भक्ति नहीं थी। वेदना के आर्तनाद की तह में घोर आशावाद था, जो उन्हें सब कुछ सहने और सब कुछ से संघर्ष करने की शक्ति देता था।

वस्तुतः निराला की आधुनिकता में यही एक दरार थी। तुलसी के समय में भक्ति की लहर आई हुई थी। लेकिन निराला के समय तक बुद्धिवाद का जश्न मनना शुरू हो गया था। टोने-टोटके में विश्वास करने के बावजूद प्रेमचंद घोषित रूप से नास्तिक थे। महादेवी का झुकाव बौद्ध धर्म की ओर था। पर देखना यह चाहिए कि निराला के काव्य में भक्ति रस कितनी उदात्तता के साथ व्यक्त हुआ है। कविता कहीं से भी फूट सकती है। जिस आधुनिक पाठक को तुलसी की विनय पत्रिका में आनंद नहीं मिलता, उसे मैं मूढ़ मानता हूं। समाज को अच्छे कवियों की तरह अच्छे पाठक भी चाहिए। मैं यह दावा करना चाहता हूं कि छायावाद के चारों स्तंभों में निराला ने ही कविता के सब से ज्यादा पाठक पैदा किए।

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

जानिए जल्दी से सरकारी नौकरी पाने के उपाय।
Astrology

जानिए जल्दी से सरकारी नौकरी पाने के उपाय।

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

सच्चाई से दूर भागती कांग्रेस

यदि वह राहुल को पद पर बने रहने को विवश करती है, तो इसे सिर्फ नौटंकी की तरह देखा जाएगा। इस संकट से उबरने में नाकाम रहने पर कांग्रेस के प्रति देश में निराशा का भाव ही बढ़ेगा।

12 जून 2019

विज्ञापन

मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर हो रही थी प्रेस कॉन्फ्रेंस, लेकिन सो रहे थे मंत्री जी

रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने मुजफ्फरपुर के अस्पतालों का जायजा लिया। उन्होंनें दिमागी बुखार से पीड़ित बच्चों से मुलाकात भी की। इसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की।

17 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election