विज्ञापन
विज्ञापन

मंजिलें और भी हैं: किसानों के बीच काम करने के लिए दिल्ली छोड़ दिया

Anika Pandeyअनिका पांडे Updated Fri, 20 Sep 2019 08:53 AM IST
Anika Pandey
Anika Pandey - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
मैं कभी सोचती भी नहीं थी कि इस आदिवासी इलाके में किसानों के बीच उनकी लीडर बनकर काम करूंगी। मैं इन किसानों को अतिरिक्त आमदनी के तरीके बता रही हूं। मैंने इससे पहले कभी मधुमक्खी पालन नहीं किया। यों तो मैं उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद की रहने वाली हूं। मैंने दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ काॅमर्स से ग्रेजुएशन किया है। इसके बाद मैं बंगलूरू में ‘गोल्डमेन सेस एसेट मैनेजमेंट’ के लिए काम करने लगी।
विज्ञापन
साथ ही सप्ताह के अंत में बंगलूरू की एक संस्था ‘मैजिक बस फाउंडेशन’ के लिए वालंटियर के तौर पर काम करती थी। वहां मैं तकरीबन दो हजार बच्चों की मेंटरिंग का काम करती थी। उन बच्चों को खेल के जरिये लाइफ स्किल सिखाती थी। धीरे-धीरे मुझे समाज के लिए काम करने की प्रेरणा मिली। इसके बाद मैं आदिवासी किसानों के साथ काम करने के लिए ओडिशा में एक एनजीओ में शामिल हुई। मैंने किसानों के लिए काम करने का निर्णय लिया।

मुझे लगा कि उनकी समस्या को जानने और समझने के लिए उनके बीच रहना जरूरी है। इसलिए मैं दिल्ली छोड़कर ओडिशा के गजपति जिले में पहुंच गई। जंगलों से घिरे इस इलाके के किसान अतिरिक्त आय के लिए मधुमक्खियों के छत्ते से शहद निकालते थे। मैंने वहां महसूस किया कि स्थानीय लोगों को मधुमक्खियों से डर नहीं लगता और उनको शहद बेचना भी पसंद है।

मैंने देखा कि किसान जब मधुमक्खी के छत्ते से शहद निकालते थे, तो वे उन छत्तों को जला देते थे या फिर छत्ते में लगी मधुमक्खियों को मार देते थे। मधुमक्खी के मरने से उनके द्वारा किया जाने वाला परागण भी खत्म हो जाता था, जिससे किसानों की फसल को बीस-तीस प्रतिशत तक नुकसान होता था। तब मैंने इन किसानों को आधुनिक तरीके से मधुमक्खी पालन सिखाने का विचार किया।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

नए युग का उदय और सौ साल की योजना

शी की यात्रा 'सफल' होनी ही थी। विश्व की दो सर्वाधिक गतिशील अर्थव्यवस्थाओं के नेता एक-दूसरे के देश की यात्रा विफलता हासिल करने के लिए नहीं करते।

14 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

आरबीआई की पीएमसी ग्राहकों को और राहत, खाते से रुपये निकालने की सीमा 25 से बढ़ाकर 40 हजार की

त्योहारी सीजन को देखते हुए आरबीआई ने पीएमसी बैंक पर लगी पाबंदियों के बीच ग्राहकों को बड़ी राहत दी है। पीएमसी ग्राहक अब खाते से 25 हजार के बजाय 40 हजार रुपये तक निकाल सकेंगे।

14 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree