विज्ञापन
विज्ञापन

जयंती विशेष: जेपी की छतरी से निकली समकालीन राजनीति की पूरी पीढ़ी

Ajay Khemariyaअजय खेमरिया Updated Fri, 11 Oct 2019 11:49 AM IST
सत्ताई तानाशाही और सार्वजनिक जीवन के कदाचरण के विरुद्ध जेपी ने समग्र क्रांति का बिगुल फूंका था।
सत्ताई तानाशाही और सार्वजनिक जीवन के कदाचरण के विरुद्ध जेपी ने समग्र क्रांति का बिगुल फूंका था।
ख़बर सुनें
देश ने अपनी  आजादी के स्वर्णिम आंदोलन के बाद जिस महान नेता को लोकनायक के रूप में स्वीकार किया उस जयप्रकाश नारायण यानी जेपी के बिना आजाद भारत का कोई भी राजनीतिक विमर्श आज पूर्ण नहीं होता है। समकालीन राजनीति में नेतृत्व करने वाली पूरी पीढ़ी वस्तुतः जेपी की छतरी से निकलकर ही स्थापित हुई है, जो आज पक्ष विपक्ष की भूमिकाओं में है।
विज्ञापन
जेपी के महान व्यक्तित्व को लोग कैसे स्मरण में रखना चाहेंगे यह निर्धारित करने की जबाबदेही असल मे उनके राजनीतिक चेलों की ही थी। लिहाजा आज जेपी का मूल्यांकन उनकी विरासत के हामियों के योगदान के साथ की जाए तो जेपी का मूल्यांकन वैसी ही निराशा के साथ याद किया जाएगा जैसा जनता सरकार के असफल प्रयोग ने जेपी के अन्तस् को घटाटोप तिमिर के अहसास में डूबो दिया था।

सत्ताई तानाशाही के खिलाफ समग्र कांति का बिगुल फूंका
जिस सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और शैक्षणिक क्रांति के लिए जेपी ने आह्वान किया था वह आज भी भारत में कहीं नजर नहीं आती है। सत्ताई तानाशाही और सार्वजनिक जीवन के कदाचरण के विरुद्ध जेपी ने समग्र क्रांति का बिगुल फूंका था। अपनी बेटी के समान प्रिय इंदिरा गांधी के साथ उनके मतभेद असल में व्यवस्थागत थे बुनियादी रूप से शासन में भ्रष्ट आचरण को लेकर जेपी यह मानते थे कि देश की जनता के साथ छलावा किया जा रहा है जिस उद्देश्य से गांधी और अन्य नेताओं ने आजादी की लड़ाई लड़ी थी उसे इंदिरा औऱ कांग्रेस ने महज सत्ता तक सीमित करके रख दिया है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

गरीबी उन्मूलन का प्रयोगधर्मी नजरिया

भले ही आप बनर्जी, डुफ्लो और क्रेमर के नुस्खे से सहमत हों या नहीं, उन्हें नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा ने दिखाया है कि कैसे गरीबों के सामने आने वाली चुनौतियों को हल किया जाए, जिनमें से लाखों लोग इस देश में रहते हैं।

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

500 सालों से यह गांव फ्री में बांट रहा दूध

आज जहां मार्केट में हर चीज एक प्राइस टैग के साथ उपलब्ध होती है वहीं दूसरी तरफ एक ऐसा भी गांव है जहां दूध लोगों को मुफ्त में दिया जाता है। गुजरात के कच्छ जिले में बसा धोकड़ा गांव में लोगों को रोजाना दूध मुफ्त में मिलता है।

15 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree