बजट 2018: स्टैण्डर्ड डिडक्शन, सेस लगाने से बड़े टैक्सपेयर्स की टेक होम सैलरी पर ऐसे पड़ेगा असर

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 05 Feb 2018 03:08 PM IST
 standard deduction and cess will have implication on big taxpayers not on small one
budget
बजट भाषण में स्टैण्डर्ड डिडक्शन की छूट और सेस लगाने मीडिल क्लास को जहां एक तरफ खुशी मिली है, वहीं दूसरी तरफ गम भी मिला है। हालांकि यह गम केवल उन लोगों के हिस्से में आया है जो कि सबसे ज्यादा टैक्स वर्तमान स्लैब्स के अनुसार दे रहे हैं। 
प्रत्येक को मिलेगी 40 हजार की छूट
नए टैक्स प्रस्तावों के अनुसार प्रत्येक टैक्सपेयर को इस बार रिटर्न फाइल करते वक्त 40 हजार रुपये की छूट मिलेगी। हालांकि इसका सबसे ज्यादा फायदा कम टैक्स देने वालों को मिलेगा। इससे प्रत्येक व्यक्ति की टैक्सेबल इनकम में कम से कम 5800 रुपये की बचत होगी। 

अब नहीं देना होगा मेडिकल, ट्रांसपोर्ट अलाउंस का प्रूफ
नए नियमों के हिसाब से अब किसी भी टैक्सपेयर को मेडिकल और ट्रांसपोर्ट अलाउंस का बिल सबमिट नहीं करना पड़ेगा। इससे हेल्थ इन्श्योरेंस अथवा टैक्सी का बिल आदि वित्त वर्ष के आखिर में संभाल के नहीं रखना पड़ेगा। इससे काफी करदाताओं को राहत मिली है। 
आगे पढ़ें

क्या है स्टैंडर्ड डिडक्शन ?

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Business News in Hindi related to stock exchange, sensex news, finance, breaking news from share market news in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Business and more Hindi News.

Spotlight

Most Read

Personal Finance

नोटबंदीः इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने जारी किया नया आदेश, 31 मार्च तक फाइल करना होगा ITR

नोटबंदी के बाद 2016-17 में जिन लोगों ने उस वक्त बैंकों में सबसे ज्यादा कैश जमा किया, उनके लिए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने नया आदेश जारी किया है।

9 फरवरी 2018

Related Videos

बर्थडे पर जानें 1 रुपये का इतिहास, आज हुआ 100 साल का...

30 नवंबर 1917 को तब की अंग्रेज सरकार ने एक रुपये के नोट का देश में प्रचलन शुरू किया था।

30 नवंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen