विज्ञापन

दान करते समय पड़ताल है जरूरी

Advise Updated Mon, 18 Jun 2012 12:00 PM IST
its-Important-to-investigate-donation
विज्ञापन
ख़बर सुनें
दान से जहां आप समाज कल्याण के लिए कुछ करते हैं, वहीं इससे आपको कर बचत में भी मदद मिलती है। लेकिन, दान करने से पहले पूरी सतर्कता के साथ यह पड़ताल जरूरी है कि आप दान पात्र संस्था को दे रहे हैं और वह इसका इस्तेमाल सही उद्देश्य के लिए करेगी। इसके साथ ही संबंधित संस्था को दान की गई रकम की रसीद पर आप कर में कटौती का दावा कर सकते हैं।
विज्ञापन
वेतनभोगी व्यक्ति दान कर आयकर कानून की धारा 80जी और 80जीजीए के तहत करछूट का दावा कर सकते हैं। स्कूल, मंदिर या अस्पताल ट्रस्ट, खेल संगठन, शैक्षणिक एवं वैज्ञानिक शोध संगठनों को दिए दान पर आप कर में कटौती का दावा कर सकते हैं।

नामचीन संगठनों या संस्थाओं के अलावा छोटी संस्थाओं को भी दान किया जा सकता है। बशर्ते, यह जानना जरूरी है कि किस तरह के लोग कल्याणकारी संस्थाएं चला रहे हैं। जैसे कि, प्राकृतिक आपदा के समय कई ऐसे संगठन होते हैं, जो रकम इकट्ठा करते हैं। इन्हें दान करने से पहले यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि रकम संग्रह करने वाला व्यक्ति या संस्था सही है या नहीं।

आसान नहीं पात्र व्यक्ति या संस्था का चयन
आज के समय में कई ऐसे संगठन हैं जो समाज कल्याण से जुड़े कार्यों जैसे बाल विकास, गरीबी उन्मूलन, महिलाओं से संबंधित मुद्दे, विकलांग लोगों आदि के लिए अपना समर्थन देते हैं। ऐसे में अगर कोई दान देने की शुरुआत करना चाहता है तो उसके लिए चयन करना आसान नहीं होता। इन दिनों एनजीओ और कई धार्मिक व कल्याणकारी संस्थाओं से जुड़ी सूचनाएं आप ऑनलाइन आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

जिनका दान करने का मकसद कर बचत का होता है उन्हें भी यह जरूर देखना चाहिए कि जिस संगठन को वह दान दे रहे हैं वह आयकर अधिनियम की धारा 80जी के तहत करछूट के योग्य है या नहीं। सरकार समर्थित संगठन प्रधानमंत्री राहत कोष, सूखा राहत फंड, भूकंप राहत फंड आदि दान दी हुई रकम पर बिना कोई शर्त शत-प्रतिशत छूट देते हैं।

अलग-अलग है करछूट की सीमा
अधिकांश मामलों में करों में छूट दान दी हुई रकम की 50 फीसदी तक हो सकती है। बशर्ते, रकम दानदाता की कुल आय के 10 फीसदी से अधिक नहीं है। कुछ मामलों में 100 फीसदी छूट उपलब्ध है, जो कुल आय की 10 फीसदी सीमा पर निर्भर है।

2012-13 के बजट में कहा गया है कि 10,000 रुपये नकद से अधिक के दान पर करों में छूट नहीं मिलेगी। धार्मिक संस्थानों जैसे मंदिर, मस्जिद या गुरुद्वारे को दिया गया दान आयकर की धारा 80जी के तहत कर मुक्त है। लेकिन, दान खास मकसद जैसे इमारत की मरम्मत आदि के लिए होना चाहिए। करछूट का लाभ पाने के लिए यह जरूरी है कि संगठन सरकार के पास पंजीकृत है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Business News in Hindi related to stock exchange, sensex news, finance, breaking news from share market news in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Business and more Hindi News.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Personal Finance

अगर नहीं किया ये काम तो 1 दिसंबर से बंद हो जाएगी एसबीआई की नेटबैंकिंग सुविधा

अगर आप भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के ग्राहक हैं और नेटबैंकिंग सुविधा का लाभ ले रहे हैं, तो फिर 30 नवंबर से यह सुविधा बंद हो जाएगी।

13 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

क्या आपके पास भी है SBI का ATM कार्ड ? तो इस खबर पर जरूर दें ध्यान

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के ग्राहकों को जल्द ही अपना एटीएम कार्ड बदलवाना पड़ सकता है। एसबीआई ने अपने ट्विटर हैंडल पर इस मामले में जानकारी दी है। एसबीआई का कहना है कि वे ग्राहक जिनके पास पुराने मैजिस्ट्रिप डेबिट कार्ड हैं उन्हें जल्द बदलावाना होगा।

12 अगस्त 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree