विज्ञापन
विज्ञापन

ई-कॉमर्स कंपनियों पर तीन महीने में घटी बिक्री, छूट भी हुई खत्म

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 16 May 2019 02:49 PM IST
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
ख़बर सुनें
तीन महीने से देश की दो बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों पर बिक्री काफी घट गई है। ऐसा इसलिए क्योंकि इन कंपनियों पर मिलने वाली भारी भरकम छूट पर रोक लग गई है। इससे बाजार में मौजूद दुकानदारों के पास भीड़ फिर से बढ़ने लगी है। 

फरवरी में लागू हुई थी नई पॉलिसी

केंद्र सरकार ने इस साल फरवरी में ई-कॉमर्स कंपनियों पर नकेल कसने के लिए नई एफडीआई पॉलिसी को लागू किया था। इसका सबसे ज्यादा नुकसान फ्लिपकार्ट और अमेजन को हुआ है। यह दोनों कंपनियां अपने प्लेटफॉर्म पर सबसे ज्यादा छूट देती थीं, जिससे इनके यहां पर काफी बिक्री होती थी। 

खुदरा दुकानदारों को हुआ फायदा

हालांकि जहां एक तरफ ई-कॉमर्स कंपनियों को काफी नुकसान हुआ है, वहीं दूसरी तरफ खुदरा दुकानदारों को फायदा पहुंचा है। जहां पहले इन दुकानों पर ग्राहक आ नहीं रहे थे, वहीं पिछले तीन महीने में इनके यहां ग्राहक आने से दुकानदार काफी खुश हैं। 

नई सरकार का इंतजार

फ्लिपकार्ट और अमेजन को अब नई सरकार का बेसब्री से इंतजार है। ऐसा इसलिए क्योंकि इन कंपनियों का मानना है कि नई सरकार के आने से ई-कॉमर्स पॉलिसी में किसी तरह की ढील मिल सकती है। खुदरा व्यापारी सरकार के लिए बड़ा वोट बैंक हैं। इस लिए फिलहाल वर्तमान सरकार से इन कंपनियों को किसी तरह की राहत मिलेगी, इसकी संभावना काफी कम है। 

इन पर मिलती थी भारी छूट

अभी तक ई-कॉमर्स कंपनियों पर कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स, मोबाइल फोन, फैशन और लाइफस्टाइल जैसे सेगमेंट पर लोगों को काफी छूट मिलती थी। भारत के ई-कॉमर्स बिजनेस में इन उत्पादों की हिस्सेदारी 80 फीसदी के करीब है। इस वजह से लोग इन कंपनियों से ही सामान मंगाना ज्यादा पसंद करते थे। छूट का अनुपात इतना ज्यादा था, जिसे खुदरा व्यापारी नहीं दे पाते थे।

सेल में भी नहीं मिल रही है छूट

फिलहाल तीन महीने में ई-कॉमर्स कंपनियों ने कोई बड़ी सेल भी नहीं निकाली है। जो भी सेल चली, उसमें छूट नहीं मिलने से लोगों ने सामान नहीं खरीदा। लोगों को लग रहा है कि जो छूट अब ई-कॉमर्स कंपनियों पर मिल रही है, उससे ज्यादा छूट वो दुकान में जाकर ले लेंगे।  

छूट में आई 14 फीसदी की कमी

फिलहाल ई-कॉमर्स कंपनियों पर पहले जो छूट मिलती थी, उसके मुकाबले अब इसमें 14 फीसदी की कमी आ गई है। अब यह कंपनियां एमआरपी पर ही सामान बेच रही हैं। जो छूट दी भी जा रही है वो सामान बेचने वाले विक्रेता ही दे रहे हैं। 

एक्सचेंज पर सामान खरीदने पर नुकसान

फिलहाल कंपनियों में एक्सचेंज पर सामान खरीदने से भी नुकसान हो रहा है। वहीं बैंक के जरिए भी मिलने वाली छूट में कमी आई है। सबसे ज्यादा 36 फीसदी स्मार्टफोन, 20 फीसदी टीवी और कपड़ों की बिक्री आठ फीसदी होती थी। फिलहाल इनकी बिक्री में 20-25 फीसदी की कमी देखने को मिली है। 
विज्ञापन
विज्ञापन

Recommended

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
Astrology

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
Astrology

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Online Market

पेटीएम की जांच में 10 करोड़ की धोखाधड़ी का खुलासा, कई कर्मचारी बर्खास्त

वॉलेट भुगतान कंपनी पेटीएम के प्रमुख विजय शेखर शर्मा ने मंगलवार को बताया कि कंपनी की जांच में 10 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का खुलासा हुआ है।

14 मई 2019

विज्ञापन

संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी का संबोधन, लोकसभा चुनाव को बताया समाज को एक करने का जरिया

कैबिनेट गठन के लिए एनडीए की बैठक में पीएम मोदी का संबोधन। मोदी ने सहयोगी दलों से एकता से कार्य करने की अपील की।

25 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree