लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Business ›   Business Diary ›   Retail inflation softens to Below 7 percent in July from June Govt data Industrial Productivity Rate Updates

Retail Inflation: जुलाई में खुदरा महंगाई दर घटी, यह बीते पांच महीनों में सबसे कम, जून के मुकाबले आई इतनी कमी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: अभिषेक दीक्षित Updated Fri, 12 Aug 2022 06:29 PM IST
सार

जून में यह आंकड़ा 7.01 फीसदी था। इससे पहले फरवरी में खुदरा महंगाई 6.07 फीसदी की दर से बढ़ी थी।

सांकेतिक फोटो
सांकेतिक फोटो - फोटो : Istock
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

देश में महंगाई और बेरोजगारी के गरमाते मुद्दे के बीच बड़ी खबर आ रही है। बताया जा रहा है कि जुलाई में खुदरा महंगाई दर घट गई है। बीते महीने खुदरा महंगाई दर घटकर 6.71 फीसदी रह गई है। यह बीते पांच महीनों में सबसे कम है। जून में यह आंकड़ा 7.01 फीसदी था। इससे पहले फरवरी में खुदरा महंगाई 6.07 फीसदी की दर से बढ़ी थी।



आंकड़ों के मुताबिक, जुलाई 2021 में खुदरा महंगाई दर 5.59 फीसदी थी। हालांकि, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित खुदरा मुद्रास्फीति अभी भी भारतीय रिजर्व बैंक के संतोषजनक स्तर की उच्च सीमा 6 फीसदी से ऊपर बनी हुई है। यह पिछले सात महीने से छह फीसदी से ज्यादा है। चालू वित्त वर्ष के पहले तीन महीने में खुदरा मुद्रास्फीति 7.0 फीसदी से ऊपर रही है।


उम्मीद के मुताबिक आई गिरावट
इससे पहले उम्मीद भी जताई गई थी कि जुलाई महीने में खुदरा महंगाई की दर 6.65 फीसदी पर रह सकती है। खाद्य पदार्थों की कीमतों में गिरावट और ईंधन पर टैक्स में कमी से महंगाई घटने के आसार जताए गए थे। बार्कलेज ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि जून में 7.01 फीसदी के मुकाबले जुलाई में 0.36 फीसदी की कमी आ सकती है। इससे पहले अप्रैल में खुदरा महंगाई की दर 8 साल के ऊपरी स्तर 7.79 फीसदी पर पहुंच गई थी।

मार्च तक घटकर 5 फीसदी पर आएगी
लगातार बढ़ रही खुदरा महंगाई अगले साल मार्च तक दो फीसदी घटकर पांच फीसदी के स्तर पर आ सकती है। एसबीआई ने रिपोर्ट में कहा गया कि देश में खुदरा महंगाई दर लगातार छठे महीने छह फीसदी से ऊपर रही है। हालांकि, पिछले तीन महीने में सरकार और आरबीआई की ओर से उठाए गए कदमों से महंगाई के मोर्चे पर थोड़ी राहत मिली है। इन कदमों में पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती, खाद्य निर्यात पर प्रतिबंध शामिल हैं।

जून में औद्योगिक उत्पादन 12.3 फीसदी बढ़ा
देश के औद्योगिक उत्पादन (आईआईपी) में जून 2022 के दौरान 12.3 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) की तरफ से शुक्रवार को जारी औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) के मुताबिक, जून के महीने में औद्योगिक उत्पादन 12.3 फीसदी बढ़ गया। एक साल पहले जून 2021 के दौरान आईआईपी में 13.8 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी। वहीं, जून 2022 में विनिर्माण क्षेत्र का उत्पादन 12.5 फीसदी, खनन उत्पादन 7.5 फीसदी और बिजली उत्पादन 16.4 फीसदी बढ़ा। प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इस तरह चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) के दौरान आईआईपी 12.7 प्रतिशत बढ़ा है।

देश का निर्यात जुलाई में 36.27 अरब डॉलर रहा
देश का निर्यात जुलाई में 2.14 फीसदी बढ़कर 36.27 अरब डॉलर रहा। वहीं, व्यापार घाटा इसी महीने में लगभग तीन गुना होकर 30 अरब डॉलर पहुंच गया। आंकड़ों के अनुसार आयात जुलाई महीने में सालाना आधार पर 43.61 प्रतिशत बढ़कर 66.27 अरब डॉलर रहा। व्यापार घाटा जुलाई 2021 में 10.63 अरब डॉलर था।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और Budget 2022 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00