आरबीआई के पूर्व डिप्टी गवर्नर : क्रिप्टो कोई मुद्रा नहीं, इसे अलग संपत्ति की तरह माना जाए

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Kuldeep Singh Updated Wed, 08 Sep 2021 02:01 AM IST

सार

  • पूर्व डिप्टी गवर्नर ने कहा, लोग समझ गए हैं कि क्रिप्टो मुद्रा नहीं हो सकती है क्योंकि यह कानूनी रूप से वैध नहीं
  • क्रिप्टो वित्तीय साधन के रूप में भी नहीं स्वीकार करना चाहिए क्योंकि इसका कोई स्पष्ट जारीकर्ता नहीं है
बिटक्वाइन
बिटक्वाइन - फोटो : pixabay
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

आरबीआई के पूर्व डिप्टी गवर्नर आर गांधी ने मंगलवार को कहा कि क्रिप्टो कोई मुद्रा नहीं है बल्कि इसे एक अलग संपत्ति वर्ग की तरह माना जाना चाहिए। इसका नियमन भी उसी रूप में किया जाना चाहिए। इससे दुनियाभर की सरकारों को आभासी मुद्राओं से जुड़ी अवैध गतिविधियों से प्रभावी ढंग से निपटने में मदद मिलेगी।
विज्ञापन


एक कार्यक्रम में आर गांधी ने कहा कि वर्षों की बहस के बाद लोग समझ गए हैं कि क्रिप्टो मुद्रा नहीं हो सकती है क्योंकि यह कानूनी रूप से वैध नहीं है। इसलिए कोई भी किसी अन्य व्यक्ति को क्रिप्टो स्वीकार करने के लिए बाध्य नहीं कर सकता।


उन्होंने कहा कि इसे एक भुगतान या एक वित्तीय साधन के रूप में भी नहीं स्वीकार करना चाहिए क्योंकि इसका कोई स्पष्ट जारीकर्ता नहीं है। पूर्व डिप्टी गवर्नर ने आशंका जताई कि नियमन के अभाव में इस आभासी संपत्ति का आपराधिक गतिविधियों के लिए उपयोग हो सकता है। 

पाम तेल आयात अगस्त में 84 फीसदी बढ़ा
देश का पाम तेल आयात मासिक आधार पर अगस्त में करीब 84 फीसदी बढ़कर 8.50 लाख टन पहुंच गया। एसएंडपी ग्लोबल प्लैट्स के मुताबिक, वर्तमान विपणन वर्ष 2020-21 (नवंबर-अक्बूतर) के दौरान यह किसी एक महीने में किया गया सबसे ज्यादा आयात है। इससे पहले जुलाई में 4,65,606 टन पाम तेल आयात किया गया था। ट्रांसग्राफ कंसल्टिंग के रिसर्च प्रमुख आदित्य जेरीपोटुला ने कहा कि आयात शुल्क में कटौती से पिछले महीने में आयात बढ़ा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00