विज्ञापन

बेतुके बयानों पर सरकार सिखाएगी मलयेशिया को सबक, पाम तेल आयात पर लग सकती है रोक

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Tue, 07 Jan 2020 08:07 PM IST
विज्ञापन
रिफाइंड-पाम आयल
रिफाइंड-पाम आयल - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें

सार

भारत सरकार पाम तेल के आयात पर रोक लगाकर मलयेशिया को सबक सिखाना चाहती है। 

विस्तार

केंद्र सरकार मलयेशिया से पाम तेल की खरीद पर रोक लगाने की तैयारी में है। सरकार एवं उद्योग सूत्रों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाए जाने के बाद मलयेशिया ने पाकिस्तान का साथ देते हुए भारत के इस कदम की आलोचना की थी। इसके अलावा, नए नागरिकता कानून पर भी बेतुका बयान दिया था। इस पर भारत सरकार पाम तेल के आयात पर रोक लगाकर मलयेशिया को सबक सिखाना चाहती है। 
विज्ञापन
इस संबंध में सरकार ने पाम तेल रिफाइनरी कंपनियों और कारोबारियों से अनौपचारिक रूप से कहा है कि वे मलयेशिया से पाम तेल आयात न करें। दुनिया का सबसे बड़ा पाम तेल खरीदार भारत अगर मलयेशिया से आयात नहीं करता है तो वहां इसके स्टॉक में बढ़ोतरी होगी, जिससे कीमतों में गिरावट आ सकती है।

उद्योग से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सोमवार को नई दिल्ली में उद्योग जगत के करीब 24 अधिकारियों की बैठक हुई थी। इसमें मयलेशिया से पाम तेल की खरीद करने से बचने को कहा गया। वहीं, एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि केंद्र और उद्योग जगत के बीच इस मुद्दे पर कई बैठकें हो चुकी हैं। उन्होंने आगे कहा कि भारत अन्य विकल्पों पर विचार कर रहा है। 

ऑयलमील के निर्यात में 79 फीसदी की भारी गिरावट

सोयाबीन खली के निर्यात में भारी गिरावट की वजह से देश से दिसंबर में ऑयलमील का निर्यात 79.20 फीसदी की भारी गिरावट के साथ 67,562 टन रह गया। दिसंबर, 2018 में 3,24,927 टन ऑयलमील का निर्यात किया गया था। तेल उद्योगों के प्रमुख संगठन सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एसईए) ने मंगलवार को कहा कि भारतीय सोयाबीन ऑयलमील के दाम ऊंचे होने के कारण मांग कमजोर रही।

उसके अनुसार, चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-दिसंबर अवधि में ऑयलमील का कुल निर्यात 25 फीसदी घटकर 18.02 लाख टन रहा, जबकि एक साल पहले यह निर्यात 24.11 लाख टन रहा था। एसईए ने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य अधिक होने की वजह से अंतरराष्ट्रीय बाजार में घरेलू सोयाबीन खली अन्य देशों के मुकाबले महंगी पड़ती है, जिससे इसका निर्यात घटा है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us