21 में से 14 बैंकों के शेयर 52 हफ्ते के निचले स्तर पर, सेसेंक्स में 284 अंकों की गिरावट

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 07 Mar 2018 03:55 PM IST
sensex
sensex
ख़बर सुनें
14 फरवरी को देश भर में के सामने उजागर हुए पीएनबी महाघोटाले से शेयर बाजार बुधवार को बुरी तरह से हलकान हुआ। पीएसयू बैंकों के शेयरों में गिरावट रहने से सेंसेक्स 284 अंक गिरकर बंद हुआ। वहीं 21 में से 14 बैंकों के शेयर 52 हफ्ते के सबसे निचले स्तर पर रहे। सेंसेक्स 33033 पर और निफ्टी 95 अंक टूटकर 10154 पर बंद हुआ। 
पीएनबी का शेयर 40 फीसदी गिरा
पीएनबी का शेयर 14 फरवरी से लेकर के अब तक 40 फीसदी से ज्यादा गिर गया है। पिछले दो दिनों में आईसीआईसीआई बैंक के स्टॉक में गिरावट जारी है और स्टॉक 6 फीसदी तक टूट गया है। वहीं 13 दिनों में स्टॉक्स में 13 फीसदी तक की गिरावट आई है।

इससे स्टॉक 4 महीने के निचले स्तर पर आ गया है। सरकारी बैंकों के स्टॉक्स में गिरावट से निफ्टी पीएसयू बैंक इंडेक्स 2 दिन में 7 फीसदी टूटकर 19 महीने के लो लेवल पर आ गया है।

एसएंडपी ने कहा कि पड़ेगा बैंकों पर असर
मुश्किल में फंसे सरकारी बैंकों पर एनपीए के साथ ही अब घोटालों की दोहरी मार पड़ रही है। ग्लोबल रेटिंग एजेंसी एसएंडपी ने कहा है कि एनपीए से निपटने के लिए भले ही रीकैपिटलाइजेशन से मदद मिलेगी लेकिन बड़े घोटालों के सामने आने पर बैंकों को और ज्यादा पूंजी की जरूरत पड़ेगी।

एसएंडपी ने सरकारी बैंकों में  तुरंत रिफार्म करने पर जोर दिया है। एसएंडपी का कहना है कि पीएनबी फ्रॉड के बाद ऐसा करना तुरंत जरूरी हो गया है।

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Business News in Hindi related to stock exchange, sensex news, finance, breaking news from share market news in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Business and more Hindi News.

Spotlight

Most Read

Bazar

जेटली का इशारा, तेल पर नहीं कम होगा उत्पाद शुल्क, कहा- नागरिक ईमानदारी से चुकाएं कर

केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले उत्पाद शुल्क के बारे में कटौती नहीं करने के संकेत दिए हैं। इसके साथ ही पेट्रोलियम पदार्थों पर लगने वाले टैक्स को लेकर केंद्र सरकार का रूख भी साफ कर दिया है। 

18 जून 2018

Related Videos

जानिए आखिर क्यों इंदिरा गांधी मजबूर हुईं देश में इमरजेंसी लागू करने के लिए

साल 1975 में भारत ने इतिहास का सबसे काला दौर देखा था। उस वक्त देश की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का राज था।

24 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen