Hindi News ›   World ›   World Happiness Report 2021, Finland is the happiest nation on earth

खुशहाली: कोरोना महामारी के बावजूद फिनलैंड में लोग सबसे ज्यादा खुश, जानें इस सूची में भारत का नंबर

अमर उजाला रिसर्च टीम, स्टॉकहोम। Published by: Jeet Kumar Updated Sat, 20 Mar 2021 08:24 AM IST
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
विज्ञापन
ख़बर सुनें

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है। अब तक 27 लाख से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। इस बीच एक रिपोर्ट से पता चला कि कोरोना संकट के दौरान भी फिनलैंड के लोग सबसे अधिक खुश रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र की ओर से जारी 'वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट' में फिनलैंड को लगातार चौथे साल दुनिया का सबसे खुशहाल देश पाया गया है। वहीं भारत 149 देशों की इस सूची में 139वें नंबर पर है।

विज्ञापन


'वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट' में पाया गया है कि  कोरोना महामारी से सबक लेते हुए पूंजी नहीं स्वास्थ्य पर जोर देना होगा। संयुक्त राष्ट्र के सस्टेनेबल डेवलपमेंट सॉल्यूशन्स नेटवर्क की ओर से जारी वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट के अनुसार, खुशहाल देशों की सूची में डेनमार्क दूसरे, स्विट्जरलैंड तीसरे नंबर पर है।


पांच सबसे खुशहाल देश 

  • फिनलैंड
  • डेनमार्क
  • स्विट्जरलैंड
  • आइसलैंड
  • नीदरलैंड

 शीर्ष-10 में शामिल अकेला गैर यूरोपीय देश न्यूजीलैंड एक अंक फिसलकर नौवें स्थान पर आ गया है। दुनिया का सबसे ताकतवर देश अमेरिका इस सूची में पिछले साल 18वें नंबर पर था, जो इस बार 14वें नंबर पर है। इसी तरह ब्रिटेन पांच अंक फिसलकर 18वें नंबर पर आ गया है। रिपोर्ट को तैयार करने में 149 देशों में खुशहाली का स्तर पता करने के लिए गैलप के आंकड़ों का प्रयोग किया गया है। मुख्य रूप से जीवन की गुणवत्ता, सकारात्मक और नकारात्मक भावों के आधार पर इस रिपोर्ट को तैयार किया गया है।

चीन खुश देशों में 20वें नंबर पर

रिपोर्ट के अनुसार, बुरूंडी, यमन, तंजानिया, हैती, मालावी, लेसोथो, बोत्सवाना, रवांडा, जिम्बॉम्बे और अफगानिस्तान भारत से कम खुशहाल देश हैं। इसी तरह पड़ोसी मुल्क चीन पिछले साल इस सूची में 94वें स्थान पर था, जो अब उछलकर 19वें स्थान पर आ गया है। नेपाल 87वें, बांग्लादेश 101, पाकिस्तान 105, म्यांमार 126 और श्रीलंका 129वें स्थान पर है।

क्या आप बीते दिन खूब हंसे थे
सकारात्मक भाव की श्रेणी में सर्वे में शामिल लोगों से पूछा गया था कि क्या आप पिछले दिन खूब हंसे या मुस्कुराए थे। इसी तरह नकारात्मक भावों में ये पूछा गया कि जिस दिन आप हंसे या मुस्कुराए थे, क्या उस दिन आप किसी बात को लेकर निराश हुए थे। इसी तरह जीवन की गुणवत्ता के आधार पर लोगों के संतोष भाव को जाना गया है।

महामारी से हमें सीखना होगा
रिपोर्ट के अनुसार, महामारी के बीच फिनलैंड में लोगों के बीच आपसी विश्वास देखा गया। यहां के बीच लोगों में एक-दूसरे का जीवन बचाने और मदद करने का भाव देखा गया। रिपोर्ट तैयार करने वाले जेफरी सच्स का कहना है कि कोरोना महामारी से हमें सीखना होगा। महामारी ने दुनिया को बताया है कि पूंजी से ज्यादा जोर स्वास्थ्य पर देना होगा।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00