विज्ञापन

जानिए कौन है पुतिन का यह परम मित्र, जिससे चिढ़ता है अमेरिका

बीबीसी हिंदी Updated Sun, 15 Apr 2018 04:26 PM IST
know who is the best friend of vladimir putin, who dislike by america
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सीरिया के गृह युद्ध ने दुनिया के दो ध्रुवों को फिर उभार दिया है। ब्रिटेन, फ्रांस और अमेरिका की सेनाएं सीरिया में हमले कर रही हैं और दूसरी तरफ रूस सीरिया सरकार के साथ खड़ा है। अमेरिका और उसके सहयोगी देशों का मानना है कि राष्ट्रपति बशर अल-असद ने डूमा में विद्रोहियों के खिलाफ रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल किया, जबकि सीरिया और रूस इससे इनकार कर रहे हैं। इस पूरे विवाद में एक चेहरा जो बेहद अहम हो चला है, वह राष्ट्रपति बशर अल-असद का है। कौन हैं 52 वर्षीय बशर अल-असद, जिन्होंने इतने लंबे गृह युद्ध के बाद भी सीरिया में अपनी सत्ता को बचाए रखा है और जिनकी सरकार पर दुनिया में एक बड़ी जंग की आशंकाएं पैदा करने का आरोप लगाया जा रहा है।
विज्ञापन
सियासत, एक अनचाही विरासत

कम लोग जानते हैं कि बशर शायद एक नेत्रविज्ञानी (ऑप्टीशियन) होते अगर उनके भाई की सड़क हादसे में मौत न हुई होती। दरअसल, असद उस परिवार से आते हैं जिसका सीरिया पर चार दशकों से भी ज्यादा वक्त से शासन है। असद के पिता हफीज अल-असद आधुनिक सीरिया के शिल्पी कहे जाते हैं। यह देश दशकों तक बगावत और बगावत-रोधी संघर्षों से जूझता रहा। साल 1970 में हफीज अल-असद ने अपने उस नेटवर्क की मदद से सत्ता हासिल कर ली, जो उन्होंने सीरियाई वायुसेना के कमांडरों और रक्षा मंत्री के बीच बनाया था। 

हफीज ने ऐसी व्यवस्था को बढ़ावा दिया जिससे राज्य का ज्यादातर नियंत्रण उन्हीं के पास रहा। हफीज के बड़े बेटे बासिल को उनका राजनीतिक उत्तराधिकारी माना जाता था। वह राष्ट्रपति की सुरक्षा के प्रमुख थे और आधिकारिक मौकों पर सैन्य वर्दी में दिखाई पड़ते थे। लेकिन साल 1994 में एक कार हादसे में बासिल की मौत हो गई और सारा सियासी जिम्मा हफीज के छोटे बेटे बशर अल-असद के कंधों पर आ गया।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

साल 2000 में बने राष्ट्रपति

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Rest of World

भूटान चुनाव: दोकलम विवाद के बाद चीन से बढ़ रही है नजदीकी, भारत से बढ़ेगा तनाव

इन दिनों भूटान में चुनाव चल रहे हैं। राजशाही खत्म होने के बाद यह भूटान का तीसरा चुनाव है।

17 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी के छात्रों ने सफाईकर्मी को दिया हैरतंगेज तोहफा

ब्रिटेन की ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी के छात्रों ने कुछ ऐसा किया कि उनकी हर जगह वाहवाही हो रही है। उन्होंने अपनी यूनिवर्सिटी के एक सफाईकर्मी को कभी न भूलने वाला तोहफा दिया है। हरमन गोर्डन पिछले एक दशक से अपने देश नहीं जा पा रहे थे जिनकी मदद छात्रों ने की।

21 सितंबर 2018

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree