इधर भारत आजाद हुआ, उधर अफगानिस्तान की बदलने लगी थी तस्वीर 

बीबीसी हिंदी Updated Fri, 09 Feb 2018 04:19 PM IST
Before the year 1949, Afghanistan's picture was different like this time
क्या अफगानिस्तान आज जैसा है, वैसा ही उसका अतीत भी था? हाल ही में एक पुरानी अफगान मैगजीन का डिजिटल वर्जन जारी किया गया तो ऐसा लगा जैसे कोई पुराना मौसम अचानक लौट आया हो। रंग बिरंगे, खूबसूरत और जानकारी से भरे हुए 'जवानदुन' (जिंदगी) मैगजीन के नए डिजिटल किए गए पन्ने सामाजिक और राजनीतिक बदलाव के दौर में अफगानिस्तान के अमीर तबके के लोगों की तमन्नाओं का दस्तावेज हैं। ये मैगजीन बीसवीं सदी के दूसरे हिस्से में लंबे समय तक पब्लिश होती रही थी। 
इस मैगजीन में वैश्विक मामलों, सामाजिक मुद्दे और इतिहास से जुड़े लेखों के अलावा फैशन और फिल्मी सितारों पर भी कॉलम होते थे। 'टाइम' मैगजीन जैसी ही थी 'जवानदुन', बस इसमें कहानियों और कविताओं के लिए भी जगह थी। राजनीतिक उतार-चढ़ावों से भरे पांच दशकों में 'जवानदुन' के पन्ने पर उस दौर की उथलपुथल दिखाई देती थी। इसके अलावा इन पन्नों पर एक नाजुक पक्ष भी होता था- वो था पाठकों के सपने और उम्मीदें। 
आगे पढ़ें

ये वो दौर था जब यूरोपीय साम्राज्य की ताकतें दूसरे विश्व युद्ध के बाद अपना असर खो रहीं थीं

Spotlight

Most Read

Rest of World

बांग्लादेश की PM हसीना बोलीं- चीन से हमारी दोस्ती की भारत न करे चिंता

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा है कि ढाका के चीन के साथ बढ़ते संबंधों को लेकर भारत को चिंता नहीं करनी चाहिए क्योंकि बीजिंग के साथ यह सहयोग उनके देश के विकास को लेकर है।

22 फरवरी 2018

Related Videos

दूध के साथ गलती से भी न करें इन चीजों का सेवन

दूध के साथ हम जिन चीजें का सेवन करते हैं इन सब का सीधा असर हमारे शरीर पर पड़ता है। ऐसे में हम कुछ चीजों का सेवन दूध के साथ नहीं करना चाहिए इससे आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ता है।

22 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen