नेपाल में नोट को लेकर बना नया कानून, फाड़ने या लिखने पर हो सकती है जेल

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 10 Aug 2018 02:36 PM IST
New law in Nepal, any damage caused to currency notes will be crime
ख़बर सुनें
नेपाल सरकार ने नोटों को लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए नया कानून पारित किया है। जो कि 18 अगस्त से लागू होगा। इस कानून के तहत नोट पर कुछ लिखने, उसे फाड़े, जलाने या फिर उसपर लाइन आदि खींचने पर तीन माह तक की जेल की सजा हो सकती है। साथ ही पांच हजार रुपये का जुर्माना भी लग सकता है।
सरकार के बयान के मुताबिक क्रिमिनल प्रोसिजर एक्ट के तहत सजा और जुर्माने का प्रावधान रखा गया है। इसके तहत देश के करंसी नोट और सिक्के दोनों आते हैं। नियम को सुनिश्चित करने के लिए बुधवार को नेपाल राष्ट्र बैंक, सेंट्रल बैंक ने अपनी सभी शाखाओं को निर्देश दिए हैं। एनआरबी नोट प्रबंधन विभाग के अधिकारी ने गुरुवार को कहा कि ऐसा करने से मुद्रा के जीवनकाल को बढ़ाने में मदद मिलेगी। इससे एनआरबी को भी बचत होगी।

बता दें नेपाल में इससे पहले केवल नकली नोटों से संबंधित कानून था। इस नए कानून में न तो कोई नोट को मोड़ सकता है और न ही किसी अन्य प्रकार से नुकसान पहुंचा सकता है। अधिकारी ने आगे बताया कि देश में कुल 28 हजार करोड़ रुपये यानि 458 अरब नेपाली रुपये चलन में हैं। इनमें से 30 फीसदी ऐसे हैं जो कुछ लिखा होने या लाइन खींचने के कारण खराब हो गए हैं।

Recommended

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

Most Read

World

21वीं सदी की सबसे बड़ी प्राकृतिक आपदा में बचा पेड़, विश्व फोटोग्राफी दिवस पर लोगों का जीता दिल

जापान के भयंकर सुनामी में 70 हजार से ज्यादा पेड़ भी धाराशायी हो गये थे लेकिन इतने बड़े प्रकृतिक आपदा के बाद भी रिकुजेन्ताकाता कस्बे में एक पेड़ सुरक्षित बच गया ।

19 अगस्त 2018

Related Videos

नहीं रहे नोबेल पुरस्कार विजेता कोफी अन्नान, जानिए घाना से लेकर संयुक्त राष्ट्र तक के सफर की कहानी

साल 1997 से लेकर साल 2006 तक यूएनओ के महासचिव रहे कोफी अन्नान का शनिवार को निधन हो गया।  इस रिपोर्ट में जानिए कोफी अन्नान के घाना से संयुक्त राष्ट्र तक के सफर की कहानी।

18 अगस्त 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree