Hindi News ›   World ›   hongkong Atrocities started as soon as Chinese law came into force 300 protesters arrested on first day

हांगकांग: चीनी कानून आते ही शुरू हुआ जुल्म, पहले दिन 300 प्रदर्शनकारी गिरफ्तार

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, हांगकांग Published by: Sneha Baluni Updated Thu, 02 Jul 2020 02:31 PM IST
हांगकांग में 300 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया
हांगकांग में 300 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया - फोटो : PTI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

हांगकांग में चीन का नया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून आते ही पुलिस ने अपनी कार्रवाई तेज कर दी है। लोकतंत्र समर्थकों ने बुधवार को चीन के खिलाफ रैली निकाली। इसपर पुलिस ने 300 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया। इस रैली का आयोजन हांगकांग के हस्तांतरण को 23 साल पूरे होने पर किया गया था। बता दें कि ‘द लीग ऑफ सोशल डेमोक्रेट्स’ संगठन ने प्रदर्शन किया था।


एक जुलाई 1997 को ब्रिटेन ने चीन को हांगकांग सौंप दिया था। प्रदर्शनकारियों ने आजादी की मांग की और नए कानून का विरोध किया। वहीं, ब्रिटेन ने हांगकांग के लोगों को शर्तों के साथ ब्रिटिश नागरिकता देने का फैसला लिया है। इस बात की पुष्टि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने की है।



जॉनसन ने कहा कि चीन सिनो-ब्रिटिश संयुक्त घोषणापत्र का उल्लंघन कर रहा है। इसमें साफतौर पर कहा गया था कि हांगकांग में 50 साल तक स्वायत्त क्षेत्र के नियम लागू रहेंगे। इसके अलावा अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का कहना है कि चीन हांगकांग के लोगों की आजादी छीन रहा है।

यह भी पढ़ें- चीन ने हांगकांग के लिए पारित किया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून: हांगकांग मीडिया

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने मंगलवार को चीन द्वारा लागू किए गए नए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को लेकर एक बयान में कहा कि यह हांगकांग में लोगों के लिए एक 'दुखद दिन' था, साथ ही रक्षा क्षेत्र और दोहरे उपयोग वाले प्रौद्योगिकी निर्यात को समाप्त करने सहित चीन को नए प्रतिकार की चेतावनी भी दी।

बता दें कि चीनी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून मंगलवार को हांगकांग में प्रभावी ढंग से लागू कर दिया गया और स्थानीय और चीनी अधिकारियों की शक्तियों को व्यापक रूप से जांच, मुकदमा चलाने और दंडित करने वालों को नियमों को और व्यापक बना दिया गया। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग द्वारा अनुमोदित कानून के मुताबिक विदेशी शक्तियों के साथ अलगाव, तोड़फोड़, आतंकवाद और मिलीभगत का अपराधीकरण किया जाएगा है। ऐसे अपराधों में दोषी पाए गए लोग जेल में आजीवन कारावास की सजा भुगत सकते हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00