Hindi News ›   World ›   expert says fatf Grey List to have negative impact on turkey and pakistan ties Latest News Update

FATF: पाकिस्तान का साथ देना तुर्की को पड़ सकता है भारी, विशेषज्ञों ने बताया किस तरह से होगा नुकसान

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, इस्लामाबाद Published by: अभिषेक दीक्षित Updated Mon, 22 Nov 2021 05:51 PM IST
सार

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पॉलिसी रिसर्च ग्रुप में एक लेख में लंदन स्थित व्यापार सलाहकार जेम्स क्रिक्टन ने बताया कि ऐसे में जब राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन और प्रधानमंत्री इमरान खान की दोस्ती जग जाहिर है। तुर्की और पाकिस्तान के बीच संबंध दिन पर दिन मजबूत होते जा रहे हैं। ऐसे में एफएटीएफ के कदम से तुर्की और पाकिस्तान के संबंधों पर असर पड़ सकता है।

एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में तुर्की और पाकिस्तान दोनों के नाम।
एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में तुर्की और पाकिस्तान दोनों के नाम। - फोटो : Amar Ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

आतंकी फंडिंग पर नजर रखने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था ने बीते महीने माली और जॉर्डन के साथ तुर्की को भी ग्रे-लिस्ट में रखा था। फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स दुनिया में आतंकी फंडिंग पर नजर बनाए रखती है। पाकिस्तान पहले से ही इस सूची में था। इसके बाद माली, जॉर्डन और तुर्की को इस सूची में शामिल किया गया। पाकिस्तान पहले से ही ग्रे लिस्ट में था। अब मामले से जुड़े विशेषज्ञों का कहना है कि एफएटीएफ के इस कदम से तुर्की का काफी नुकसान हो सकता है। भारत के खिलाफ लामबंदी में पाकिस्तान का साथ देने वाला तुर्की आर्थिक मोर्चे पर कमजोर पड़ सकता है। 



समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पॉलिसी रिसर्च ग्रुप में एक लेख में लंदन स्थित व्यापार सलाहकार जेम्स क्रिक्टन ने बताया कि ऐसे में जब राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन और प्रधानमंत्री इमरान खान की दोस्ती जग जाहिर है। तुर्की और पाकिस्तान के बीच संबंध दिन पर दिन मजबूत होते जा रहे हैं। ऐसे में एफएटीएफ के कदम से तुर्की और पाकिस्तान के संबंधों पर असर पड़ सकता है।


क्रिक्टन ने बताया कि कि एफएटीएफ के फैसले के बाद हालात बदल गए हैं। आने वाले वक्त में तुर्की पहले की तरह इस्लामाबाद को सहायता देने वाला नहीं है। उनका मानना है कि समय के साथ तुर्की के लिए हालात और खराब होते ही जाएंगे। दरअसल, कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान को तुर्की का साथ हमेशा मिलता रहा है। एफएटीएफ के फैसले के बाद पाकिस्तान की स्थिति तो अधर में लटक गई है, पर तुर्की के लिए भी आने वाला समय आसान नहीं रहने वाला है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00