स्टार्टअप : फेक न्यूज की होगी पहचान, 21 वर्षीय भारतीय मूल के ब्रिटिश छात्र ने तैयार की मशीन

वर्ल्ड डेस्क, अमर अजाला Updated Mon, 23 Jul 2018 04:52 AM IST
 Startup: Fake News Catching Machine,21-year-old Indian-origin British student prepares
ख़बर सुनें
डिजिटल होती दुनिया में फेक न्यूज एक बड़ी चुनौती बनकर उभरा है। इसका समाधान तलाशने में सरकारों के साथ-साथ दिग्गज तकनीकी कंपनियों के भी पसीने छूट रहे हैं। इस बीच भारतीय मूल के एक ब्रिटिश उद्यमी के स्टार्टअप ने फेक न्यूज से लड़ाई के लिए कमर कस ली है। कल्पना से तथ्यों को अलग करने के लिए वह एक मशीन आधारित एल्गॉरिथ्म का इस्तेमाल कर रहा है। सबसे खास बात यह है कि उसने इस योजना को भारत को ध्यान में रखकर तैयार किया है।
कैंब्रिज विश्वविद्यालय में इंजीनियरिंग के छात्र 21 वर्षीय लिरिक जैन मूल रूप से मैसूर के रहने वाले हैं। उन्होंने पिछले साल वेस्ट यॉर्कशायर में अपने स्टार्टअप ‘लॉजिकली’ को शुरू किया। इसके बाद उन्होंने अपने स्टार्टअप को कल्पना से वास्तविकता को अलग करने वाली मशीन आधारित एल्गॉरिथ्म प्लेटफॉर्म में तब्दील कर दिया। इस प्लेटफॉर्म का फिलहाल तकनीकी ट्रायल चल रहा है।

सितंबर में जहां इसे ब्रिटेन और अमेरिका में लांच किया जाएगा वहीं भारत में इसे अक्तूबर में लाया जाएगा। यह प्लेटफॉर्म का लक्ष्य समाचार उपलब्ध कराने के साथ-साथ तथ्यात्मक शुद्धता का संकेत भी देना है। जैन ने बताया कि ‘लॉजिकली’ प्लेटफॉर्म 70 हजार से अधिक वेबसाइटों से बड़ी संख्या में खबरों को जुटाएगा और हर खबर में किए गए दावों के सत्यता की पुष्टि करेगा।

यह सब वह एक मशीन आधारित एल्गॉरिथ्म का इस्तेमाल करके करेगा। उसका इस तरह से निर्माण किया गया है कि वह तार्किक झूठ, राजनीतिक पूर्वाग्रह और गलत आंकड़ों को पता लगा लेगा। ‘लॉजिकली’ खबरों में दी गई की जानकारी की गुणवत्ता को भी बताएगा ताकि यूजर पारदर्शिता और व्यावहारिकता के पैमाने पर तय कर सकें कि वे कितनी विश्वसनीय हैं।

यूपी पुलिस की ‘डिजिटल आर्मिज’ फेक न्यूज पर लगाएगी लगाम
फेक न्यूज के कारण होने वाली भीड़ हिंसा की घटनाओं और हिंसा को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस एक डिजिटल आर्मीज’ का गठन करेगी। प्रमुख निवासियों की यह डिजिटल आर्मीज भड़काऊ पोस्टों और अफवाहों पर कड़ी नजर रखेगी।

उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने कहा कि इस पहल के तहत राज्य के 1,469 पुलिस स्टेशनों के पास एक व्हाट्सएप ग्रुप होगा जिसमें पूर्व सैन्यकर्मियों, शिक्षकों, डॉक्टरों, वकीलों और पत्रकारों सहित अन्य क्षेत्रों के करीब 250 लोग शामिल होंगे।

यह डिजिटल सेना अपने स्थानीय पुलिस स्टेशन को सोशल मीडिया पर फैल रही फेक न्यूज के बारे में जानकारी देगी। वहीं इसके साथ ही वे अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए स्थानीय लोगों के बीच सही सूचनाओं पहुंचाने का भी काम करेंगे। 

Recommended

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news, Crime all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

Most Read

Europe

प्रोटोकॉल तोड़कर गर्लफ्रेंड संग छुट्टियां मनाने गए नार्वे के मंत्री, विवाद के बाद इस्तीफा दिया

28 साल की गर्लफ्रेंड संग ईरान घूमने जाने पर नार्वे के मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा।

17 अगस्त 2018

Related Videos

VIDEO: अटल जी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे स्वामी अग्निवेश से धक्का मुक्की

अटल जी के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए बीजेपी मुख्यालय में रखा गया था। उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए समाजसेवी स्वामी अग्निवेश भी पहुंचे थे।

17 अगस्त 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree