विज्ञापन
विज्ञापन

चीन की बीआरआई बैठक पर भारत ने दिए फिर विरोध के संकेत

एजेंसी, बीजिंग Updated Thu, 21 Mar 2019 05:34 AM IST
file
file
ख़बर सुनें
चीन की महत्वाकांक्षी परियोजना बीआरआई (बॉर्डर रोड इनीशिएटिव) को लेकर भारत की आपत्तियां कायम हैं। इसी कारण भारत ने दूसरी बार भी इस मुद्दे पर चीन के साथ मंच साझा करने से बहिष्कार करने के संकेत दिए हैं। चीन में भारतीय राजदूत विक्रम मिसरी ने कहा है कि इस परियोजना में भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता संबंधी चिंताओं का सम्मान नहीं किया जा रहा है। ऐसे में इससे जुड़ी दूसरी बैठक में भारत के हिस्सा लेने का कोई सवाल ही नहीं उठता।
विज्ञापन
विज्ञापन
विक्रम मिसरी ने कहा, ‘बीआरआई जैसी कोई भी कोशिश इस तरह से लागू की जानी चाहिए कि संबंधित देशों की प्रभुसत्ता, उनकी इलाकाई अखंडता, संप्रभुता और समानता आदि का सम्मान बना रहे। अगर ऐसा नहीं किया जाता तो कोई भी देश अपनी इन प्रमुख चिंताओं को दरकिनार कर इस तरह के प्रयासों का हिस्सा नहीं बन सकता है।’

 चीन की इस महत्वाकांक्षी बीआरआई परियोजना से संबंधित दूसरी अहम बैठक अगले महीने बीजिंग में होने वाली है। भारत 2017 में पहली बैठक का भी इसी आपत्तियों के चलते बहिष्कार कर चुका है। चीन ने बीआरआई को मूर्त रूप देने के लिए बीआरएफ (बेल्ड एंड रोड फोरम) फॉर इंटरेशनल कोऑपरेशन बनाया है। इसमें पाकिस्तान, सिंगापुर, इटली जैसे कई देश सदस्य हैं। चीन द्वारा श्रीलंका के हंबनटोटा बंदरगाह को कर्ज के बदले 99 साल की लीज पर लेने के बाद भारत की चिंताएं और बढ़ गई थीं।

वैश्विक कानून के दायरे का पालन हो
भारतीय दूत विक्रम मिसरी ने कहा है कि वह खुद कई देशों और विश्व संस्थाओं के साथ सड़क, रेल व जहाज संपर्क को मजबूत करने की वैश्विक आकांक्षा साझा कर चुका है और यह हमारी आर्थिक व कूटनीतिक पहल का अभिन्न हिस्सा है। लेकिन हमारा भरोसा है कि यह पहल मान्यता प्राप्त अंतरराष्ट्रीय मानदंडों, सुशासन और कानून के दायरे में होना चाहिए। इसके लिए सामाजिक व पर्यावरण संरक्षण पर जोर देने के साथ खुलेपन, पारदर्शिता और वित्तीय स्थिरता के सिद्धांतों का पालन करना चाहिए।

पीओके से गुजरने वाले हिस्से पर आपत्ति 
बीआरआई के तहत चीन दुनिया के कई देशों को सड़क के रास्ते से जोड़ रहा है। इसी पहल का हिस्सा है चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी), जो पाक अधिकृत कश्मीर से होकर गुजर रहा है। चूंकि इस हिस्से पर भारत अपना दावा करता है इसलिए इसे लेकर भारत शुरू से आपत्ति जताता रहा है। यही भारत की ओर से इस परियोजना का विरोध किए जाने की बड़ी वजह भी है।

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

क्या आपकी नौकरी की तलाश ख़त्म नहीं हो रही? प्रसिद्ध करियर विशेषज्ञ से पाएं समाधान।
Astrology

क्या आपकी नौकरी की तलाश ख़त्म नहीं हो रही? प्रसिद्ध करियर विशेषज्ञ से पाएं समाधान।

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news, Crime all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

China

अमेरिकी जीपीएस से होड़ की तर्ज पर चीन ने लॉन्च किए दो नेविगेशन सैटेलाइट

चीन ने ग्लोबल पोजीशनिंग नेटवर्क के निर्माण में एक और कदम बढ़ते हुए अमेरिकी जीपीएस से होड़ की तर्ज पर दो नेविगेशन उपग्रहों को सफलता पूर्वक लॉन्च किया है।

27 मार्च 2019

विज्ञापन

अधीर रंजन के 'नाली' पर पीएम ने याद दिलाया कांग्रेस का 'गटर' वाला बयान

लोकसभा में धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान अधीर रंजन के 'नाली' वाले बयान पर पीएम ने याद दिलाया कांग्रेस का 'गटर' वाला बयान।

25 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election