चीन में 85 साल के बुजुर्ग की गुहार- कोई मुझे गोद ले ले, मैं अकेला नहीं मरना चाहता

एजेंसी, बीजिंग Updated Fri, 04 May 2018 12:00 AM IST
china: eighty five years old lonely pensioner demands himself for adoption
ख़बर सुनें
‘कोई मुझे गोद ले ले, मैं अकेला नहीं मरना चाहता।’ चीन में हान जिचेंग नाम के 85 साल के एक बुजुर्ग ने अपने आसपास पड़े कागज के पन्नों पर यह लिखा। उन्होंने अपने अब तक के जीवन में चीनी गृह युद्ध, जापानी आक्रमण और सांस्कृतिक क्रांति जैसा दौर देखा है। लेकिन अब अकेले जीते-जीते थक चुके हैं।
80 के दशक से अकेले रह रहे जिचेंग अपने सभी कामों को स्वयं ही करते हैं। इसमें दुकान चलाने, खाना बनाने से लेकर स्वयं की देखभाल करने सहित सभी काम शामिल हैं। उन्होंने स्वयं के बारे में लिखा, ‘मुझे कोई बीमारी नहीं है, मुझे हर महीने 950 डॉलर पेंशन मिलती है, मैं टियांजिन में एक वैज्ञानिक शोध संस्थान से सेवानिवृत्त हुआ था।’ 

‘मुझे उम्मीद है कि कोई एक दयालु व्यक्ति या परिवार मुझे गोद लेगा और बुढ़ापे में मेरा ध्यान रखेगा। मरने के बाद मेरा अंतिम संस्कार भी कोई कर दे। 

जिचेंग अपनी इन सभी बातों को एक सफेद कागज पर लिखकर अपने घर के पास एक बस स्टैंड के सामने पोस्टर चिपका दिया है। हान अपने जीवन से निराश हो चुके हैं, उनकी पत्नी की मौत हो चुकी है। उनके बेटे ने अन्हें अकेला छोड़ दिया है। लेकिन वह चाहते है कि जिस दिन उनका शरीर काम करना बंद कर दे, तो कोई उसकी देखरेख करने वाला हो।
आगे पढ़ें

ऑस्ट्रेलियाई बुजुर्ग वैज्ञानिक चाहते हैं इच्छा मृत्यु

Recommended

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news, Crime all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

Most Read

China

ट्रेड वॉर: अमेरिका से नजदीकी पर चीन की भारत को खुली धमकी

चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर के बीच ड्रैगन ने भारत को लेकर अपना रुख कड़ा किया है। चीन ने अमेरिका से नजदीकी बढ़ाने पर भारत को चेताया है।

21 जुलाई 2018

Related Videos

World Photography Day: एक कूड़ा बीनने वाले ने कैमरे से कैसे बनाई अपनी तकदीर

world photography day पर हम आपको एक ऐसे फोटोग्राफर की कहानी बता रहे हैं जो बचपन में कूड़ा बीनते थे। विक्की के घर में गरीबी थी. कोई साथ देने वाला नहीं था। लेकिन आज विक्की ने अपनी मेहनत के दम पर एक अलग मुकाम हासिल किया है।

19 अगस्त 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree