विज्ञापन
विज्ञापन

सीख: पेशे में सफलता के लिए आध्यात्मिक रूप से दो चीजें बहुत जरूरी

धर्म डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 12 Jul 2019 09:04 AM IST
आध्यात्मिक ताकत का महत्व
आध्यात्मिक ताकत का महत्व
ख़बर सुनें
भारतीय संस्कृति में आध्यात्म और दर्शन का बहुत महत्व है। आध्यात्म से जहां एक ओर मन को शान्ति और सुखद अनुभव की प्राप्ति होती है तो वहीं भारतीय दर्शन से जीवन को सफल बनाने में कई तरह की प्रेरणाएं मिलती है। पेशेवर तौर पर किसी व्यक्ति को अपने क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए आध्यात्मिक रूप से उतना मजबूत होना चाहिए जितना पेशेवर सफलता प्राप्त करने के लिए जरूरी है। दो ऐसी चीजें जो किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को निखारने में बड़ी भूमिका अदा करता है।
विज्ञापन
विज्ञापन
स्वयं की ताकत पर करें भरोसा न की दूसरे पर
अक्सर देखा जाता है व्यक्ति अपनी शक्ति न होने के कारण दूसरों पर ज्यादा निर्भर रहता है। अपने अंदर की शक्ति को बढ़ाने के लिए रोजमर्रा के जीवन में छोटी-छोटी चीजों पर ध्यान दें। जैसे कि एक दिन में आप कितने बातें बोलते हैं? अगले दिन उन्हीं बातों को कहें, लेकिन पिछले दिन की अपेक्षा लगभग आधे शब्दों का इस्तेमाल करके इसे कहने की कोशिश कीजिए। ऐसा करके आप लोगों से संवाद कम नहीं कर रहे, बस शब्दों का इस्तेमाल आधा कर दिया है। निश्चित तौर पर इससे भाषा में आपकी कुशलता भी बढ़ेगी और तब आप देखेंगे कि आपने अपने भीतर स्वयं की शक्ति विकसित कर ली है। अगर आपके भीतर अपनी कोई निजी शक्ति ही नहीं होगी, तो आप दूसरों की राय के मुताबिक ही जिएंगे। 

अपनी ताकत को बढ़ाने के बजाय हम सहारों को बढ़ाने में लगे हैं 
उदाहरण के तौर पर मान लिया जाए कि आप खुद चलने में सक्षम नहीं हैं तो आप छड़ी का सहारा लेते हैं, इसमें कोई हर्ज नहीं। लेकिन यह मत सोचिए कि छड़ी ही आपकी ताकत है। यह ताकत नहीं है।आप जो हैं, वही आपकी असली ताकत है। इस शक्ति को बढ़ाने के बजाए हम सहारों को बढ़ाने में लगे हैं। आप तभी मजबूत कहलाएंगे, जब आप कम से कम मदद के बिना खड़े हो सकें। अगर आप कम से कम मदद के बिना खड़े हो सकें तो इसका मतलब होगा कि आप मजबूत हैं। इसका मतलब हुआ कि आप कहीं भी जा सकते हैं।

Recommended

'अभिरुचि' एक नई पहल जो बना रही है छात्रों का भविष्य
Invertis university

'अभिरुचि' एक नई पहल जो बना रही है छात्रों का भविष्य

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक - 22/ जुलाई/2019
Astrology

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक - 22/ जुलाई/2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Festivals

Shravan 2019 : आज से शुरू हुआ सावन मास, जानें किस पूजन से प्रसन्न होंगे महादेव

सावन मास में भगवान शिव की पूजा का विशेष महत्व है। इस मास में भगवान शिव को जलाभिषेक, रुद्राभिषेक करने से भक्त की मनोकामनाएं पूर्ण होती है। शिव को समर्पित इस पावन मास से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए पढ़ें ये लेख —

17 जुलाई 2019

विज्ञापन

बिहार में बाढ़ के कहर के बीच नर्स ने कराया प्रसव

बिहार में बाढ़ की स्थिति में किसी तरह का सुधार देखने को नहीं मिल रहा है, जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित है। इस बीच निर्मला नाम की एक नर्स ने बाढ़ के पानी को पार कर एक पीड़िता की प्रसव प्रक्रिया पूरी कराई।

19 जुलाई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree