मरने के बाद पुनः जीवित होने का यह राज जानकर चौंक जाएंगे

ज्योतिर्मय/अमर उजाला Updated Sat, 11 Oct 2014 03:08 PM IST
mystery of life after death
ख़बर सुनें
मरने के बाद चिता पर रखते ही या उसमें आग लगाते ही लोगों के उठ खडे़ होने अथवा दफना दिए जाने के बाद कब्र के भीतर से जीवित लौट आने की कितनी ही खबरें आती है।
इसका कारण यह भी बताया जाता है कि ठीक से मृत्यु होने के पहले ही अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस तरह की घटनाओं से परे भी कई ऐसे वाकये हुए हैं जिनमें मरने के घंटे दो घंटे बाद लोग फिर जी उठे।

चिकित्सकों द्वारा मृत घोषित कर दिए जाने के बाद फिर से जी उठने की खबरों में यह भी आता है कि लोग अपने अनुभव सुनाने लगते हैं।

इन जानकारियों और जांच प्रयोगों से हट कर न्यूयार्क की स्टेट यूनर्सिटी में प्रोफेसर औ साउथंपन विश्वविद्यालय में रिसर्च फैलो रहे डा. सेम पेरनिया का कहना है कि मृत्यु के बाद जीवन का अंत नहीं हो जाता।
आगे पढ़ें

मृत्यु के बाद तीन मिनट तक होता है यह एहसास

RELATED

Spotlight

Most Read

Yog-Dhyan

गोमुखासन - कंधे के दर्द को रोक कर राहत देता है ये आसन

योग सूत्र कहते हैं, "हेम दुखम अनागतम" मतलब जो दर्द आपके पास आने वाला है उससे बचा जा सकता है और बचना भी चाहिए।

19 जून 2018

Related Videos

घाटी में तैनात हुए आतंकियों के यमराज, देखिए कैसे होती है इनकी ट्रेनिंग

जम्मी कश्मीर में आतंकियों से निपटने के लिए अब एनएसजी कमांडो की तैनात कर दी गई है। आतंकियों के खिलाफ नए सिरे से ऑपरेशन को शुरू करने के लिए गृह मंत्रालय ने ये कदम उठाया गया है।

21 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen