विज्ञापन
विज्ञापन

इन पांच दिनों में पति-पत्नी साथ न सोएं

Rakesh Jhaराकेश कुमार झा Updated Fri, 03 Aug 2012 04:48 PM IST
couples-avoid-sleep-together-in-this-five-days
ख़बर सुनें
अगर आप अपने जीवनसाथी से प्यार करते हैं और चाहते हैं कि दोनों का साथ हमेशा के लिए बना रहे तो इस सावन के शुरु होते ही प्रत्येक मास की कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि को जीवनसाथी के साथ नहीं सोएं। 
विज्ञापन
विज्ञापन
ऐसा हमारा नहीं शास्त्रों का कहना है। शास्त्रों के अनुसार मार्गशीर्ष कृष्ण द्वितीया तिथि से अशून्य शयन व्रत आरंभ होता है। इस वर्ष यह व्रत 5 जुलाई से शुरू हो रहा है और 30 नवम्बर को समाप्त होगा। इस दौरान कृष्ण पक्ष की पांच द्वितीया तिथियां पड़ेंगी।

शास्त्रों के अनुसार पति-पत्नी को मिलकर इस व्रत का पालन करना चाहिए। इससे जीवनसाथी की असामयिक मृत्यु नहीं होती है और वियोग नहीं सहना पड़ता है। इससे दाम्पत्य जीवन में प्यार भी बढ़ता है।

व्रत का नियम यह है कि पति-पत्नी को इस दिन प्रातः स्नान करके भगवान विष्णु और लक्ष्मी माता की पूजा करनी चाहिए। व्रत करने वाले को अन्न ग्रहण नहीं करना चाहिए। इस व्रत में दिन भर मौन रहने का भी नियम है।

शाम के समय व्रत करने वाले को पुनः विष्णु और लक्ष्मी की पूजा करके उन्हें शैय्या पर सुलाना चाहिए और चन्द्रमा को आर्घ्य देने के पश्चात भोजन करना चाहिए।

रात्रि के समय पति-पत्नी अलग-अलग शैय्या पर सोएं। इसी प्रकार से अन्य मास की कृष्ण पक्ष की द्वितीया को व्रत के नियम का पालन करें।

मार्गशीर्ष मास की कृष्ण पक्ष की द्वितीया को व्रत करने के बाद तृतीया तिथि को ब्रह्मण को भोजन कराएं और मीठे फल देकर उनका आशीर्वाद लें। इस तरह से व्रत पूरा होता है और जीवनसाथी पर आने वाली विपदा टल जाती है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स, परामनोविज्ञान समाचार, स्वस्थ्य संबंधी योग समाचार, सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Religion

नारद जयंती 2019: एक जगह क्यों नहीं टिकते थे नारद मुनि, जानें उनसे जुड़ी कुछ खास बातें

नारद मुनि के पिता ब्रह्राजी है। नारद मुनि हमेशा तीनो लोकों में भ्रमणकर सूचनाओं का आदान-प्रदान करते थे।

20 मई 2019

विज्ञापन

लोकसभा चुनाव में आजम खान से हारीं जया प्रदा करेंगी BJP में 'गद्दारी' की शिकायत

लोकसभा चुनाव 2019 में हाई प्रोफाइल सीट रामपुर से भाजपा प्रत्याशी जया प्रदा का बयान सामने आया है। जया प्रदा ने भाजपा के भीतरघात को अपनी हार का कारण बताया है।

24 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree